न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: दो हजार से अधिक पारा शिक्षकों ने परिवार के साथ दी गिरफ्तारी

88

Palamu: राज्य सरकार के खिलाफ पारा शिक्षकों का आंदोलन जारी है. समान काम के बदले समान वेतन की मांग और राज्य स्थापना दिवस के दिन रांची में पारा शिक्षकों के ऊपर हुए लाठी चार्ज के विरोध में पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत जिले के पारा शिक्षकों ने अपने-अपने परिवारों के साथ गुरूवार को पलामू जिले के विभिन्न थानों में गिरफ्तारियां दी. पारा शिक्षक सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए अपने परिवारों के साथ थाना परिसर पहुंचे और धरने पर बैठ गए.

सरकार विरोधी नारेबाजी

पारा शिक्षक विभिन्न प्रखंडों से अपने परिवार के सदस्यों (पति-पत्नी और बच्चों) के साथ रघुवर दास होश में आओ, सरकार तेरी तानाशाही नहीं चलेगी, हमारी मांगे पूरी करो सरीखे नारेबाजी करते हुए थाना में पहुंचे. इस दौरान पुलिस पदाधिकारियों के समक्ष सामूहिक रूप से गिरफ्तारियां दी.

मांगे पूरी होने तक हड़ताल पर डटे रहने का निर्णय 

इस दौरान पारा शिक्षकों ने सरकार पर जमकर हमला बोला और कहा कि मांगें पूरी होने तक हड़ताली पर डटे रहेंगे. पारा शिक्षकों ने सरकार की बहुत मान ली. अब सरकार को उनकी बातों को मानना पड़ेगा. पारा शिक्षकों की सभी मांगे जायज हैं. पारा शिक्षकों की प्रमुख मांगों को नहीं मान लिया जाता है, तब तक आंदोलन जारी रहेगा.

शैक्षणिक कार्य पूरी तरह है ठप

पूरे जिले में पारा शिक्षकों की हड़ताल के कारण स्कूल में पढ़ाई ठप है. लेकिन सरकार को इससे कुछ भी लेना-देना नहीं है. रघुवर सरकार पारा शिक्षकों को डरा-धमका कर काम करवान चाहती है. उन्होंने कहा कि पारा शिक्षक इस बार सरकार के साथ आरपार की लड़ाई लड़ रहे हैं. सरकार को मुंह की खानी पड़ेगी. सरकार के स्तर से झूठी अफवाह फैलायी जा रही है कि पारा शिक्षक काम पर लौट रहे हैं. ऐसा नहीं है पारा शिक्षक एकजुटता के साथ अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं.

प्रदर्शन में कौन-कौन?

जिला मुख्यालय डालटनगंज के सदर थाना क्षेत्र में सतीश पांडेय, चंद्रशेखर शुक्ला, उमाशंकर तिवारी, महेश महेता, प्रेमकुमार मेहता, विनोद दुबे, कृष्णकांत मिश्रा, सुरेंद्र पांडेय, राणा मनीष सिंह, अजय सिंह, राहुल तिवारी, विनित कुमार पांडेय, प्रभात कुमार पांडेय, अनिल सिंह और अरूण गुप्ता सहित काफी संख्या में पारा शिक्षक शामिल थे.

सभी थानों में दी गयी गिरफ्तारी

मांगों के समर्थन में सरकार के विरूद्ध चरणबद्ध आंदोलन कर रहे पारा शिक्षकों ने आज बड़ी संख्या में जिले के थानों में गिरफ्तारियां दी. सदर प्रखंड से 200, हैदरनगर से 130 से, नौडीहा से 465 छत्तपरपुर से 280 मोहम्मदगंज में 110 के अलावा अन्य प्रखंडों में भी बड़ी संख्या में गिरफ्तारियां दी गयी.

क्या है पारा शिक्षकों की मांगें

पारा शिक्षकों की प्रमुख मांगों में राज्य स्थापना दिवस के दिन विरोध-प्रदर्शन करने वाले 280 पारा शिक्षकों की बिना शर्त रिहाई, समान काम के बदले समान वेतन, छत्तीसगढ़ की तरह ही झारखंड के पारा शिक्षकों की सेवा स्थायी करना शामिल है. पारा शिक्षक संघ के सदस्यों का कहना है कि पारा शिक्षक चट्टानी एकता की तरह एकजुट होकर अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं. पारा शिक्षक बिना शर्त कोई भी वार्ता सरकार से नहीं करेंगे.

पीआर बॉड पर छोड़े जायेंगे पारा शिक्षक

परिवारों के साथ पारा शिक्षकों के सामूहिक रूप से थानों में गिरफ्तारी देने के बाद शाम सभी को पीआर बॉड पर छोड़ दिया जायेगा. डीएसपी सुरजीत कुमार ने बताया कि अभी तक किसी भी थाना क्षेत्र से हंगामा आदि की सूचना नहीं है. सभी थानों में पारा शिक्षक शांतिपूर्ण तरीके से गिरफ्तारी देकर प्रदर्शन कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि विधि व्यवस्था के साथ खिलवाड़ की छूट किसी को भी नहीं दी जायेगी. पुलिस थानों में पारा शिक्षकों की गतिविधियों पर पल-पल की नजर रखे हुए है.

इसे भी पढ़ेंः‘सरकार पारा शिक्षकों की समस्या का करें समाधान, नहीं तो हम छोड़ देंगे पढ़ाई’

इसे भी पढ़ेंःसरकारी अस्पताल रिम्स में निजी पैथोलॉजी ‘जे.शरण’ का चल रहा जांच केंद्र

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: