न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

पलामू : ग्रामीणों के लिए पैसा नहीं प्रतिष्ठा का सवाल बना शौचालय, प्रेरित होकर खुद कर रहे निर्माण

शौचालय निर्माण के लिए ग्रामिणों को किया जा रहा प्रेरित

507

Daltonganj : शौचालय पैसा नहीं बल्कि प्रतिष्ठा का सवाल है और इसे सही साबित किया है चैनपुर प्रखंड अंतर्गत बसरिया कला ग्राम पंचायत के दुलसुलमा और सोकरा के ग्रामीणों ने. ग्रामीणों ने खुद से शौचालय निर्माण का बीड़ा उठाया और शौचालय का निर्माण किया है. अब ये दोनों गांव ओडीएफ के कगार पर हैं और आने वाले समय में ये गांव स्वच्छ भारत मिशन के मॉडल गांव के रूप में विकसित हो सकते हैं.

eidbanner

शौचालय निर्माण के लिए ग्रामिणों को किया जा रहा प्रेरित

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण और झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी के सहयोग से गांव में शौचालय का निर्माण हुआ है. जेएसएलपीएस के प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी सत्यप्रिय तिवारी ने बताया कि कुल 40 गांव में जेएसएलपीएस काम कर रहा है, जिसमें 31 गांव मॉडल गांव के राह पर हैं. गांवों में लाभुकों को जागरूक कर स्वयं से शौचालय निर्माण के लिए प्रेरित किया जाता है, जिसके बाद लाभुक स्वयं से पैसा लगा कर शौचालय का निर्माण करते हैं.

इसे भी पढ़ें- सुनिये और देखिये बाबूलाल ने क्या कहा पार्टी के विधायकों को तोड़े जाने के मामले में

क्या कहना है ग्रामीणों का

सोकरा गांव की सक्रिय महिला प्रमिला देवी ने बताया कि शौचालय निर्माण के पहले ग्रामीणों को इसके फायदे बताये जाते हैं. फिर ग्रामीण स्वयं से शौचालय निर्माण कार्य शुरू करते हैं. निर्माण में लोगों को 12,000 रुपये के लगभग का खर्च आता है. गौरतलब है कि सोकरा गांव में अभी तक 54 शौचालय बने हैं.

दुलसुलमा गांव की सक्रिय महिला उषा देवी ने ग्रामीणों को जागरूक करके 50 शौचालय का निर्माण कराया है. सभी शौचालय अपने आप में उदाहरण हैं. बेहतर काम के लिए उषा को स्वच्छता किट देकर सम्मानित भी किया गया.

इसे भी पढ़ें- भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल संवेदनशील विषय, इस पर सदन में बहस नहीं हुई, तो यह चिंतनीय : सुदेश

स्वच्छता किट देकर लोगों को किया गया सम्मानित

शनिवार को दुलसुलमा और सोकरा गांव में जिला प्रेरक नवाज नूर, जिला समन्वयक कनक राज, जीसेलपीएस के बीपीएम सत्य प्रिय तिवारी और क्लस्टर कोऑर्डिनेटर धर्मवीर ने शौचालय का अवलोकन किया. इस दौरान करीब एक दर्जन लाभुकों को स्वच्छता किट देकर सम्मानित किया गया.

सेल्फ मॉडल सबसे बेहतर

उपायुक्त अमीत कुमार का कहना है कि शौचालय सिर्फ शोभा की वस्तु न बने, बल्कि इसका बेहतर इस्तेमाल हो. शौचालय लोगों की मान-सम्मान और प्रतिष्ठा से जुड़ा हुआ है. इसलिए जरूरी है कि लाभुक स्वयं से शौचालय का निर्माण कर स्वच्छता का मॉडल विकसित करें.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: