JharkhandPalamu

पलामू: सबसे अधिक वर्क डिमांड वाली पंचायत में पहुंचे मनरेगा आयुक्त, ग्रामीणों से बात कर जानी समस्याएं

Palamu. मनरेगा आयुक्त सिद्धार्थ त्रिपाठी शनिवार को पलामू जिले के हुसैनाबाद प्रखंड के पथरा पहुंचे. पंचायत भवन में ग्रामीणों के साथ बैठक की और मनरेगा पर विस्तृत चर्चा की. गौरतलब है कि पलामू जिले में हुसैनाबाद प्रखंड से सर्वाधिक 2849 लोगों ने मनरेगा के काम मांगा है. पूरे प्रखंड क्षेत्र में सबसे अधिक पथरा पंचायत के 720 लोगों का मनरेगा में वर्क डिमांड आया है. मनरेगा आयुक्त ने स्थानीय लोगों से सीधी बात की और उनकी समस्याओं को सुनते हुए जागरूक होने की अपील की और ग्रामसभा को सुदृढ़ करने पर बल दिया.

ये भी पढ़ें- पलामू: व्यवसायी के बैंक खाते से साइबर अपराधियों ने उड़ाये एक लाख रुपये

मनरेगा आयुक्त ने कहा कि मनरेगा योजना से गांव की प्रगति होगी. गांव के ग्राम सभा में सारी शक्ति है. ग्रामसभा को समाज के प्रति उत्तरदायी, जवाबदेह एवं पारदर्शी होकर योजनाओं का चुनाव करना होगा. मनरेगा के असली मालिक गांव के लोग हैं. ग्रामसभा में वैसी योजनाओं का चयन करें, जो आपके सामुदायिक फायदे की हो. काम की मांग करें और मन लगाकर काम करें. मनरेगा की सफलता तभी है जब गरीबी दूर होगी.

Catalyst IAS
ram janam hospital

मनरेगा आयुक्त ने पथरा पंचायत के ग्रामीणों को प्रेरित करते हुए कहा कि मनरेगा एक रिसोर्स है. प्राथमिकता क्रम के साथ योजनाएं बनाएं. जागरूक होकर गांव को बदलें. जागरूक नहीं रहेंगे तो हक मारने के लिए दूसरे लोग तैयार रहते हैं. योजना में बिचैलियागिरी नहीं होने दें. मनरेगा आयुक्त ने तीन चीजों पर विशेष फोकस करते हुए कहा कि गांव में समय से निवेश करें, गांव को संगठित करें और लोक शिक्षण का कार्य करें. इन तीन से गांव की प्रगति होगी और समस्याएं दूर होगी. मानदेय के लिए नहीं सोचें, मनरेगा आपकी योजना है और अपनी योजना में 194 रुपये मिल रही है. मनरेगा आयुक्त ने कई प्रेरणादायी कहानियां और उदाहरण देकर ग्रामीणों को जागरूक व प्रेरित किया, ताकि लोग मनरेगा योजना का लाभ लेते हुए खुद और गांव का विकास-प्रगति कर सकें.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

ये भी पढ़ें- खाद सकंट से जूझ रहे झारखंड के किसान, दोगुने दाम पर खरीद रहे यूरिया, पद्रीप यदाव ने सीएम को लिखा पत्र

उप विकास आयुक्त शेखर जमुआर ने कहा कि जॉब कार्ड नहीं हैं तो बनवाएं और काम की मांग करें. मनरेगा योजना का लाभ लें. इसमें अपने गांव-घर में काम करने का मौका मिलता है. काम की कमी नहीं है. योजनाओं के चयन में सामने आयें और ग्रामसभा को जागरूक करते हुए योजना चयन में इमानदारी बरतें.

इसके पूर्व प्रखंड विकास पदाधिकारी जय बिरस लकड़ा ने अतिथियों एवं स्थानीय लोगों का स्वागत किया. जेएसएलपीएस के जिला कार्यक्रम प्रबंधक विमलेश शुक्ला ने भी मनरेगा योजना पर प्रकाश डाला.

5 एकड़ में लगे आम बागवानी का निरीक्षण

मनरेगा आयुक्त ने पथरा पंचायत के चनकार कस्तूरी गांव में बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत किसानों द्वारा 5 एकड़ में लगाए गए आम बागवानी का भी निरीक्षण किया. निरीक्षण के दौरान उन्होंने हैंड होल्डिंग की कमियों को दूर करने, कैंप लगाकर मनरेगा के लाभुकों का जॉब कार्ड में सुधार करने और नए जॉब कार्ड बनाने का निर्देश दिया. वहीं आम पौधारोपण में दो पौधों के बीच की दूरियां और निश्चित गड्ढा नहीं खोदे जाने को लेकर उन्होंने नाराजगी व्यक्त की और अधिकारियों को पौधे की देखभाल ठीक से करने का निर्देश दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button