JharkhandPalamu

पलामू : मेदिनीनगर नगर निगम ने नहीं दिया ध्यान तो चंदे से हुई तालाब की सफाई, अब पार्क और सुंदरीकरण की मांग जोर पकड़ी

Palamu : मेदिनीनगर नगर निगम के वार्ड नंबर 16 में शहीद भगत सिंह नगर स्थित एक मात्र जल स्त्रोत को बचाने के लिए मोहल्ले के लोगों ने कमर कस ली है. बुधवार को मोहल्ले के लोगों ने तालाब स्थल का मुआयना पत्रकारों से कराया.
सैकड़ों लोगों की उपस्थिति में समाजसेवी राजीव कुमार ने बताया कि पिछले 10-12 वर्षों से यह जल स्त्रोत उपेक्षित था.

Advt

जल स्त्रोत के आस-पास काफी गंदगी एवं झाड़ी हो गयी थी. मुहल्लेवासियों ने चंदा कर पूरी तरह से साफ करा दिया है. यह तालाब धार्मिक स्थल से भी जुड़ा हुआ है. इस तालाब की पहचान डोभा बाबा के रूप में भी होती है.

यहां विवाह के दिनों में मौर बांधने की परंपरा रही है. यहां तकरीबन हर सीजन में 400 विवाह के लिए मौर बांधने का काम होता है.

इसे भी पढ़ें :पंचायत प्रतिनिधियों के कार्यकाल बढ़ाने के लिए लग रहा वसूली का आरोप, इधर सरकार ने अध्यादेश की तैयारी पूरी की

मुहल्लेवासियों का स्पष्ट आरोप है कि नगर निगम का ध्यान पिछले 10-12 वर्षों से इस तालाब की ओर नहीं गया, जबकि तालाब की दो तरफ सीढ़ी बनाकर छोड़ दिया गया है.

इस तालाब की वजह से ही रेड़मा मुहल्ले का जल स्तर मेंटेन रहता है. उन्होंने कहा कि मुहल्ले के लोगों ने पांच-पांच सौ रूपए की राशि जमाकर तालाब के हिस्से की सफायी करायी है. अब नगर निगम इसे सजाये संवारे और पार्क का रूप दें.

उन्होंने कहा कि अगामी 24 जुलाई को पौधारोपन का कार्यक्रम वृहद पैमाने पर ट्रिमैन सुंदर लाल बहुगुणा की याद में किया जायेगा. उन्होंने कहा कि नगर आयुक्त को जल स्त्रोत से संबंधित एवं मुहल्ले की अन्य समस्याओं से अवगत कराते हुए पत्र प्रेषित किया गया है.

तालाब के अलावा उन्होंने कई जगह नाली की आवश्यकता बतायी है तो कहीं-कहीं पीसीसी सड़क निर्माण की मांग भी रखी है. आज दिए गए ज्ञापन में तकरीबन 70 लोगों का हस्ताक्षर किया है.

इसे भी पढ़ें :पेट्रोलिंग वाहन के पास शराब पीने का VIDEO बनाना पड़ा महंगा, दो महिला कांस्टेबल समेत 4 सस्पेंड

जल स्त्रोत पर अतिक्रमण कर बनाया गया शौचालय

न्यायालय बार-बार जल स्त्रोतों पर अवैध कब्जे एवं अतिक्रमण के मामले में निर्देश जारी कर रहा है. कहा जा रहा है कि जल स्त्रोंत पर से अतिक्रमण हटाया जाए, बावजूद नगर निगम तालाब की जमीन से खिलवाड़ करने में लगा है.

मोहल्ले के लोग बताते हैं कि नगर निगम ने तालाब की जमीन पर सुलभ शौचालय का निर्माण कर दिया है, जबकि यहां सुलभ शौचालय की कोई जरूरत नहीं थी. इतना ही नहीं यह शौचालय उद्घाटन के बाद से ही बंद पड़ा है.

इसे भी पढ़ें :भारतीय जनता पार्टी ने शाजिया इल्मी और प्रेम शुक्ला को दी बड़ी जिम्मेदारी

Advt

Related Articles

Back to top button