न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : प्रधानमंत्री द्वारा उद्घाटन के सात महीने बाद भी मेडिकल कॉलेज का निर्माण अधूरा

उपायुक्त ने की निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज के कार्यों की समीक्षा

1,127
Palamu : इसी साल 17 फरवरी 2019 को हजारीबाग और दुमका के साथ पलामू में मेडिकल काॅलेज का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया था. उद्घाटन के सात महीने बीत जाने के बाद भी पलामू मेडिकल काॅलेज का निर्माण अधूरा पड़ा है. पढ़ाई शुरू कराने से लेकर भवन निर्माण के कई कार्य अबतक पेंडिंग पड़े हैं.

 

गौरतलब है कि हजारीबाग से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ऑनलाइन उद्घाटन किया था. पलामू में उस समय अधिकतर निर्माण कार्य अधूरे पड़े थे. लेकिन निर्माणधीन हिस्से को तोपकर मेडिकल काॅलेज का उद्घाटन आनन-फानन में करा दिया गया था.
एमसीआइ ने पिछले मेडिकल काॅलेज निर्माण सहित अन्य जरूरी तैयारियों का जायजा लिया था. अधिकतर कार्य अधूरे रहने के कारण वितीय वर्ष से पढ़ाई की अनुमति देने से इंकार कर दिया था.

उपायुक्त की समीक्षा में कई कमियां उजागर 

निदेशक स्वास्थ्य सेवाएं द्वारा जिले के उपायुक्त डॉ शांतनु कुमार अग्रहरि की अध्यक्षता में गठित समिति की बैठक उपायुक्त के कार्यालय वेशम में की गयी. बैठक में जिले में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की गयी.
बताते चलें कि निदेशक स्वास्थ सेवाएं के निर्देश के आलोक में आने वाले समय मे प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज की शुरुआत कराने के लिए उपायुक्त की अध्यक्षता में समिति का गठन किया गया था. ये समिति निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज की कमियों को दूर करने के उद्देस्य से बनायी गयी थी.

कमियों को दूर करने के लिए पत्र लिखने का निर्देश

मेडिकल कॉलेज में शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए उपायुक्त ने जिले के सिविल सर्जन डॉ जाॅन एफ कनेडी को स्वास्थ्य सचिव को एक पत्र लिखने का निर्देश दिया.
वहीं नर्सिंग सुपरीटेंडेंट, डेप्यूटी नर्सिंग सुपरिटेंडेंट, नर्सिंग सिस्टर्स, स्टाफ नर्सेज एवं पैरामेडिकल स्टाफ की कमी तथा कॉलेज की लाइब्रेरी में किताब एवं जर्नल की कमी को देखते हुए उन्होंने मुख्य निदेशक स्वास्थ्य विभाग को पत्र लिखने का निर्देश भी सिविल सर्जन को दिया.

लेक्चर थियेटर का निर्माण अधूरा 

उपायुक्त ने मेडिकल कॉलेज में बनने वाले लेक्चर थियेटर को शीघ्र ही पूरा करने का निर्देश दिया. समीक्षा के दौरान उपायुक्त ने सदर अस्पताल में मौजूद बेड की भी समीक्षा की.
उन्होंने सिविल सर्जन तथा वहां मौजूद हॉस्पिटल मैनेजर को विभाग से संबंधित बेड को 2 से 3 दिनों में चिह्नित कर बेड की संख्याओं को पूर्ण करने का निर्देश दिया. उन्होंने कॉलेज के हॉस्टल तथा कॉलेज बिल्डिंग में कॉमन रूम बनवाने का निर्देश दिया.
समीक्षा के दौरान सिविल सर्जन ने बताया कि कॉलेज में जिम का निर्माण किया जा चुका है तथा रीक्रिएशनल रूम निर्माणाधीन है. उन्होंने मेडिकल कॉलेज में चलने वाले साइटोपैथोलॉजी लैब से संबंधित सभी उपकरणों की व्यवस्था 10 दिनों में करने का निर्देश दिया.

मेजर व एक माइनर ऑपरेशन थियेटर बनाने का निर्देश   

उपायुक्त ने समीक्षा बैठक में मौजूद स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों को मेडिकल कॉलेज में एक मेजर तथा एक माइनर ऑपरेशन थिएटर अविलंब पूरा करने का निर्देश दिया.
उन्होंने कहा कि जब तक मेडिकल कॉलेज में ऑपरेशन थियेटर का निर्माण चल रहा है तब तक पुराने बिल्डिंग में मौजूद एक मेजर तथा एक माइनर ऑपरेशन थियेटर को सभी मुख्य तथा साधारण सुविधाओं से लैस कर चालू रखा जाये. साथ ही उन्होंने सिविल सर्जन को अस्पताल में प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड बहाल करने का निर्देश दिया.

कैंटीन अब तक निर्माणाधीन

मेडिकल कॉलेज में कैंटीन अब तक निर्माणाधीन है. उपायुक्त ने 5 अगस्त तक कैंटीन के कार्य को पूर्ण करने का निर्देश दिया. साथ ही प्रीक्लिनिकल डिपार्टमेंट में किसी भी तरीके का उपकरण, किताब तथा फर्नीचर ना होने के कारण 15 अगस्त तक इन कमियों को दूर करने का निर्देश दिया.
समीक्षा बैठक में उपायुक्त के अलावा सिविल सर्जन डॉ जॉन एफ कैनेडी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक प्रवीण कुमार तथा स्वास्थ विभाग के अन्य पदाधिकारी मौजूद थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like