JharkhandLead NewsPalamu

Palamu : पोस्ता की खेती करनेवालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, 27 गिरफ्तार, 10 एकड़ में लगी फसल को नष्ट किया गया

Palamu : पोस्ता (अफीम) की खेती करनेवालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की गयी है. पलामू जिले के मनातू थाना क्षेत्र में पुलिस ने पोस्ता की खेती में लगे 27 ग्रामीणों को गिरफ्तार किया है. इनमें दो लोगों की गिरफ्तारी 2017 के मामले में हुई है. मनातू के इतिहास में पहली बार एक साथ 27 लोगों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.

जानकारी के अनुसार जिले के पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार को गुप्त सूचना मिली थी कि मनातू इलाके में तमाम कारवाई के बावजूद ग्रामीणों के द्वारा बड़े पैमाने पर पोस्ता की खेती की जा रही है.

इसे भी पढ़ें- जानिए, किस पूर्व सांसद को ईडी ने किया गिरफ्तार

सूचना पर लेस्लीगंज एसडीपीओ अनूप बड़ाइक ने मनातू थाना प्रभारी संतोष कुमार के नेतृत्व में पु.अ.नि पंकज कुमार, जितेन्द्र मिश्रा और रवि कुमार चैरसिया की टीम बनायी और छोटकी नागद व बड़की नागद गांव में कार्रवाई की.

यहां पुलिस को आते देख ग्रामीणों के द्वारा खेत में कील गाड़ दिया गया. नतीजा कई ट्रैक्टर पंक्चर हो गये. इसके बाद कार्रवाई को और तेज किया गया और 24 घंटे के भीतर 27 लोगों को अलग-अलग क्षेत्रों से गिरफ्तार किया गया.

मनातू थाना प्रभारी संतोष कुमार ने बताया कि पूछताछ में ग्रामीणों ने बताया कि पहले भी गांव में पोस्ता की खेती की जाती रही है. कुछ गांववालों को देख कर और कमाई की चकाचैंध में पोस्ता की खेती को सभी ने शुरू किया.

मालूम हो कि अफीम तैयार करने के लिए हर वर्ष पोस्ता की खेती मनातू के इलाके में की जाती है. इस वर्ष भी ग्रामीण पोस्ता की खेती में लगे हुए हैं. पुलिस हर साल पोस्ता को नष्ट करती है व खेती करनेवालों पर एफआइआर करती है. साथ ही जागरुकता अभियान चलाती है. इसके बावजूद पोस्ता की खेती में लोग लगे हैं.

पोस्ता की खेती की जानकारी मिलने पर मनातू पुलिस एक सप्ताह से इसे नष्ट करने व इसमें संलिप्त लोगों को चिन्हित करने के अभियान में जुटी है. पुलिस ने सिकनी, नागद व बेटापाथर गांव में जा कर 10 एकड़ से ज्यादा में लगे पोस्ता के पौधों को नष्ट किया है. ये गांव मनातू थाना से 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं.

इसे भी पढ़ें- जेयूयूएनएल : ग्यारह साल पूर्व के प्रमोशन को बताया गलत, अब रिटायर्ड कर्मचारियों से वसूलेंगे पैसे

इनकी हुई गिरफ्तारी

गिरफ्तार लोगों में राजेन्द्र सिंह, सुरेन्द्र सिंह, ललन भुइयां, गोपाल सिंह, विश्वनाथ सिंह, महेन्द्र सिंह, बसंत सिंह, रामलाल सिंह, रमेश सिंह, अरविंद भुइयां, प्यारी भुइयां, प्रसाद यादव, अखिलेश यादव, रहेन्द्र सिंह, विशेष मिस्त्री, संयोग भुइयां, अशोक सिंह, नवल सिंह, मनोत सिंह, लालधारी सिंह, वासुदेव सिंह, बुधन भुइयां, योगेन्द्र सिंह, अजीत सिंह, रामजतन यादव और बाबूलाल उर्फ उपेन्द्र यादव शामिल हैं. इनमें रामजतन और बाबूलाल को 2017 के मामले में गिरफ्तार किया है.

इसे भी पढ़ें- झारखंड को केंद्र ने फिर दिया बड़ा झटका, राज्य के खाते से RBI ने फिर काटे 714 करोड़

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: