न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: भारी बारिश से उफान पर कोयल नदी, तेज बहाव में कई मकान और सड़कें ध्वस्त

बारिश के कारण गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क टूटा

1,157

Palamu: पलामू प्रमंडल में 36 घंटे से रूक-रूक कर हो रही बारिश से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. रविवार को हुई भारी बारिश के कारण जिले की प्रमुख नदी कोयल उफान पर है. कोयल की सहायक नदियां भी खतरे से निशान से ऊपर बह रही हैं.

नदियों का जलस्तर बढ़ने से निचले इलाकों को अलर्ट पर रखा गया है. बारिश के कारण, मकान और सड़कें बह गयी हैं. घरों में नाले का गंदा पानी भरने से भारी परेशानी हुई. किसी अनहोनी के भय से लोग पूरी रात जागते रहे.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ेंःEESL के बल्ब लगाने के मामले में क्या सच बोल रही है बीजेपी?

30 घंटे में 180 एमएम बारिश

जिले में पिछले 30 घंटे में 180 एमएम बारिश हुई है. विदित हो कि पलामू पिछले कई दिनों से सुखाड़ से जूझ रहा था और इस रविवार की रात से सोमवार की सुबह तक सबसे अधिक बारिश रिकॉर्ड हुई है. 2019 में अब तक 855 एमएम बारिश हुई है.

सुआ-कौड़िया मुख्य सड़क पर आवागमन ठप

लगातार बारिश के कारण पलामू प्रमंडलीय मुख्यालय मेदिनीनगर शहर सहित आसपास के कई मोहल्ले डूब गए हैं. वहीं दर्जनों घरों में बारिश का पानी घुस गया है.

उफान पर कोयल नदी

शहर के कान्दू मोहल्ला में होकर सुआ, कौड़िया, लहसुनिया जाने वाली सड़क में गोरहे मंदिर के पास छिलका कोयल नदी के पानी में घंटो डूबा रहा, इससे लंबे समय तक आवागमन पर असर पड़ा. हालांकि बाद में नदी का जलस्तर कम होने से आवागमन सामान्य हो सका.

कोयल के निचले इलाके अलर्ट पर

इसी तरह रामनगर में नाले का पानी कई घरों में घुस गया. इससे लोग रात में भी परेशान रहे. शहर के दूसरे छोर और कोयल के तटीय इलाके पहाड़ी में भी कुछ इसी तरह की स्थिति देखने को मिली. पहाड़ी में नाला से सटकर बने घरों में रात में अचानक पानी घुस गया, जिससे तीन घंटे तक अफरा-तफरी का माहौल बन गया.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ेंःफासीवादी-जातिवादी हिंदू सुप्रीमो मोदी सरकार के नियंत्रण में  परमाणु हथियार, दुनिया विचार करे : इमरान खान

ड्रेनेज और सीवरेज सिस्टम नहीं

मेदिनीनगर नगर निगम क्षेत्र में ड्रेनेज और सीवरेज सिस्टम नहीं होने के कारण शहर के दो नंबर टाउन स्थित रेलवे ब्रिज के नीचे भारी जल जमाव हो गया. इस सड़क को पैदल तो दूर दो पहिया वाहन से पार करना मुश्किल हो रहा था. सर्वोदय नगर तो पूरी तरह जलमग्न नजर आया.

चैनपुर में कई सड़कें बही, स्कूल बंद

जिला मुख्यालय से सटे चैनपुर के शाहपुर में बारिश से भारी तबाही मची. कोयल नदी से सटे इलाकों में रात दो बजे अचानक पानी घुस गया. उस समय ज्यादातर लोग सो रहे थे.

मेदिनीनगर के रेलवे ब्रिज के नीचे जमा पानी

अचानक पानी भरता देखकर लोग परेशान हो उठे. निगम क्षेत्र के वार्ड 31 स्थित नई मोहल्ला में पनेरी बांध के पानी ने एकबार फिर भारी तबाही मचायी.

बांध का पानी ओवरफ्लो कर बहने लगा. तेज बहाव होने के कारण नई मोहल्ला में एनुल खान का मकान क्षतिग्रस्त हो गया. पानी में खाने-पीने के साथ-साथ अन्य सामान बह गए.

सूचना मिलने पर इलाके की पार्षद प्रमिला देवी और समाजसेवी भोला पांडेय ने स्थिति का जायजा लिया और राशन उपलब्ध कराया. साथ ही निगम से जल्द आवास मुहैया करवाने का आश्वासन दिया.

चैनपुर में रॉटरी स्कूल के पास बारिश के कारण मुख्य सड़क कई जगहों पर ध्वस्त हो गयी. नतीजन सोमवार को स्कूल नहीं खुला. पानी कम होने पर सड़क की मरम्मत कराकर स्कूल खोलने का निर्णय लिया गया है.

इधर, निगम के वार्ड 33 में शाहपुर-कल्याणपुर मुख्य पथ भी भारी बारिश की भेंट चढ़ गयी. तेज बहाव में सड़क बह गयी, जिससे कल्याणपुर का संपर्क जिला मुख्यालय से कट गया है. पार्षद चंचला देवी द्वारा सूचना दिये जाने पर निगम के स्वच्छता निरीक्षक कृष्ण मुरारी शर्मा, मेयर प्रतिनिधि सुनील गुप्ता एवं अन्य ने स्थिति का जायजा लिया.

सतबरवा में दुकानें बंद

इधर, जिले के प्रखंड क्षेत्रों में भी बारिश से भारी तबाही हुई है. सतबरवा समेत आसपास के क्षेत्र जलमग्न हो चुके हैं. मलय नदी उफान पर है.

वही ग्रामीण सड़क के पुल-पुलिया समेत रांची-मेदिनीनगर मुख्य मार्ग पर रजडेरवा, लहलहे समेत कई पुलिया के ऊपर से पानी बह रहा है. सड़क पर सन्नाटा पसर गया है तो दूसरी ओर ज्यादातर दुकानें बंद रही.

इसे भी पढ़ेंःआर्थिक मंदी की दस्तकः भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अगले पांच साल बेहद मुश्किल भरे हो सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like