न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: अपहरण कर छात्र की निर्मम हत्या, आरोपी गिरफ्तार

जमीन विवाद में मासूम का मर्डर

420

Palamu: 25 जून को अगवा छात्र का क्षत-विक्षत शव पलामू पुलिस ने बरामद किया है. अपहरण के बाद हत्या के आरोप में पुलिस ने उमेश साव नामक शख्स को गिरफ्तार किया है. दरअसल पिपराटांड़ थाना क्षेत्र के हेसातु गांव के रहनेवाले सकेन्द्र पाल के 12 साल के बेटे ब्रजेश पाल का अपहरण 25 जून की शाम को कर लिया गया था. और उसी शाम उसकी तेज धारदार हथियार से हत्या कर दी गई. मृतका का क्षत विक्षत शव हेसातु से करीब दो किलोमीटर दूर घनघोर जंगल से बरामद किया गया.

इसे भी पढ़ेंः ऑपरेशन ग्रीन हंट का जवाब था बूढ़ा पहाड़ पर हमला : माओवादी

25 जून को किया था अगवा

मामले की जानकारी देते हुए पलामू एसपी इन्द्रजीत माहथा ने मंगलवार को बताया कि अपह्त स्कूली छात्र की हत्या 25 जून की शाम को ही किसी तेज धारदार हथियार से कर दी गई है. इस मामले में गांव के ही उमेश साव को संदेह के आधार पर हिरासत में लिए जाने के बाद उसकी निशानदेही पर शव के अवशेष बरामद किए जा सके. चमरियाडोडा जंगल में ब्रजेश के शव के अवशेष मिले, जिसमें सिर और हड्डियां अलग से मिली हैं. मृतक के कपड़े भी बरामद किए गए. हालांकि, पुलिस को मारे गये छात्र का मोबाईल नहीं मिल सका.

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

भूमि विवाद में हुई हत्या

एसपी ने छात्र की हत्या के पीछे उमेश साव और सकेन्द्र पाल के बीच चल रहे भूमि विवाद को कारण बताया हैय दरअसल मृत छात्र के पिता सकेन्द्र पाल की जमीन पर उमेश का कब्जा था. छह एकड़ जमीन को खाली करने के लिए सकेन्द्र, उमेश पर दवाब बना रहा था. बाद में उमेश साव ने गांव के कई बड़े बुजुर्गों के कहने पर उक्त जमीन को दो लाख 50 हजार में खरीदने का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया और किश्तों में भुगतान भी शुरू कर दिया. जमीन की आखिरी किश्त उमेश ने 25 जून को सकेन्द्र को दी. लेकिन इस मामले में बदला लेने की भी योजना बनाई. उसी शाम उसने राकेश पाल नामक शख्स को अपने साथ मिलाया और सकेन्द्र पाल के पुत्र ब्रजेश पाल का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी. बाद में पुलिस में छात्र के अपहरण होने का केस दर्ज हुआ, जिसकी पड़ताल करते हुए पुलिस ने पूरे मामले का उद्भेदन किया. आरोपियों की योजना, छात्र के पिता से फिरौती ऐंठने की भी थी, क्योंकि जब्त फोन में 12 लाख की फिरौती का एक मैसेज सेव है, लेकिन उसे भेजा नहीं गया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: