न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: जिप की बैठक में नहीं पहुंचे अधिकारी, नाराज सदस्यों ने किया बहिष्कार

211

Palamu: जिला परिषद बोर्ड की मासिक बैठक में जिलास्तर के पदाधिकारियों के नहीं आने के कारण जिप अध्यक्ष और सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार कर जिला परिषद कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए. इस दौरान जिले में चल रही विकास योजनाओं पर जिला परिषद् के सदस्यों को जरजीह नहीं दिए जाने से भी सदस्य नाराज दिखे.

इसे भी पढ़ेंःबच्चे के बाप को बताया मुस्लिम विरोधी, स्कूल ने किया पढ़ाने से इनकार, धनबाद के स्कूल के खिलाफ जांच शुरु

धरने का नेतृत्व कर रहीं जिप अध्यक्ष प्रभा देवी ने पत्रकारों को बताया कि जिला परिषद बोर्ड की बैठक में जिला स्तर के पदाधिकारी नहीं के बराबर आते हैं और जिला प्रशासन द्वारा विकास योजनाओं के संचालन में जिप सदस्यों को तरजीह नहीं दी जाती है. सरकार द्वारा 14 विभागों की देख-रेख का जिम्मा जिला परिषद पर है. लेकिन उन विभागों में कार्यान्वित योजनाओं में भी जिप सदस्यों को कोई जानकारी नहीं दी जाती है. उन्होंने कहा कि जिले में अफसरशाही चरम पर है, जिस कारण विकास योजनाओं का लाभ आम लोगों को नहीं मिल रहा है. जिले में पिछले माह ग्राम स्वराज अभियान के तहत चलाये गए कार्यक्रमों की जानकारी जिप सदस्यों को नहीं दी गयी. यहां तक कि विश्रामपुर में हो रहे प्रखंडस्तरीय कार्यक्रम के शिलान्यास कार्यक्रम में जिप अध्यक्ष के नाम का लिखा हुआ शिलापट्ट को स्वास्थ्य मंत्री ने बदलवाकर अपना नाम लिखवा कर शिलान्यास कर दिया. उन्होंने कहा मनरेगा योजनाओं के संचालन में जिला परिषद की भूमिका अहम है, लेकिन जिला परिषद बोर्ड के तीन साल बीत जाने के बाद भी उनकी अनुशंसा नहीं ली जाती है.

डीडीसी के मनाने पर भी नहीं माने जिप सदस्य

डीआरडीए में आयोजित मासिक बैठक का बहिष्कार करने के बाद जिप जिला परिषद कार्यालय के सामने पर जमीन पर धरने पर बैठ गए. सूचना पर डीडीसी बिंदुमाधव सिंह वहां पहुंचे और जिप सदस्यों को मनाने का प्रयास किया, लेकिन जिप सदस्य नहीं माने. डीडीसी ने नाराज सदस्यों को मनाने की हरसंभव कोशिश की लेकिन जिला परिषद् के सदस्य अपनी मांग पर अड़े रहें.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: