Palamu

पलामू: डीसी के बंगले में घुसा सियार, वन विभाग ढूंढकर परेशान

Palamu: पलामू के उपायुक्त आंजनेयुल दोड्डे के आवासीय क्षेत्र में सियार होने की सूचना मिली है. इसकी पुष्टि वन अधिकारी भी करते हैं. हालांकि वन अधिकारी सियार को अपने कब्जे में करने में अबतक विफल रहे हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार डीसी बंगला काफी बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है. बंगले के प्रांगण में काफी पेड़ पौधे हैं. साथ ही यह इलाका महिला कॉलेज, केजी कन्या विद्यालय, आदिवासी गर्ल्स हॉस्टल से सटा हुआ है.

वन विभाग के सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार कल्याण विभाग के गर्ल्स हॉस्टल के बाहर एक दीवार में थोड़ा छेद है. साथ ही वहां नाला भी है. शायद सियार उसी रास्ते से डीसी बंगला प्रांगण में प्रवेश कर गया होगा.

कल पलामू के उपायुक्त के आवासीय कार्यालय से सबेरे पांच बजे वन विभाग के अधिकारियों को बंगला प्रांगण में सियार होने की सूचना दी गयी. सूचना मिलते ही वन विभाग के सहायक वन संरक्षक राम सूरत प्रसाद 8 वन कर्मियों को लेकर डीसी बंगला पहुंच गए. तकरीबन छह घंटे की खोजबीन के बाद भी वन विभाग के अधिकारी सियार को नहीं ढूंढ सके.

वन अधिकारी बताते हैं कि उनकी लाख खोजबीन के बाद भी सियार उन्हें दिखा ही नहीं. वन अधिकारी ने कहा कि तीन सियार होने की बात कही जा रही है. उन्होंने यह भी दावा किया कि वन विभाग की दबिश के कारण सियार महिला कॉलेज या केजी स्कूल की झाड़ियों में घुस गए होंगे. वनकर्मियों ने कहा कि उपायुक्त कार्यालय के कर्मियों ने बताया है कि देर रात बंगला प्रांगण से ‘हुआं-हुआं’ की आवाज आती है. ऐसी आवाज सियार की ही होती है. सियार को ढूंढने में उनकी काफी फजीहत भी हुई है.

इधर, जैसे ही यह खबर आग की तरह फैली महिला कॉलेज, केजी स्कूल एवं गर्ल्स हॉस्टल के स्टाफ सकते में आ गए. वे भी सियार के संभावित खतरे पर नजर बनाए हुए हैं. हालांकि वन विभाग ने किसी तरह का कोई रेस्क्यू ऑपरेशन पुनः उस क्षेत्र में सियार ढूंढने को लेकर नहीं चलाया है.

बताते चलें कि पूरे मेदिनीनगर शहरी क्षेत्र में इतना बड़ा जंगली इलाका डीसी बंगले के अलावा कहीं नहीं है, जहां इतनी बड़ी मात्रा में पेड़ एवं पौधे लगे हैं. महिला कॉलेज के कर्मियों ने जानकारी दी कि तकरीबन एक दर्जन बंदर भी यहां निवास कर रहे हैं, उन्हें कई बार खदेड़ा गया, लेकिन वे यहीं टिके हुए हैं.

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री 30 नवंबर को बजट और खर्चे की करेंगे समीक्षा

Related Articles

Back to top button