JharkhandLead NewsPalamu

पलामू : 500 करोड़ के कथित धान क्रय घोटाला की जांच शुरू, डीसी ने बनायी पांच सदस्यीय टीम

Ad
advt

Palamu : पलामू जिले में हुए 500 करोड़ के कथित धान क्रय घोटाला की जांच शुरू कर दी गयी है. जिले के उपायुक्त शशि रंजन ने मामले को देखते हुए पांच सदस्यीय जांच समिति बनायी है. फर्जी आईडी से धान बेचने और खातों में हुए भुगतान के मामलो को टीम खंगालेगी, ताकि स्थिति पूरी तरह से स्पष्ट हो जाय.

जिले के उपायुक्त शशि रंजन ने मंगलवार को कहा कि धान क्रय में घोटाला को लेकर चल रहे तमाम मामलों एवं आरोपों को देखते हुए जिला स्तरीय पांच सदस्यीय टीम बनायी गयी है. इस टीम का नेतृत्व मेदिनीनगर के सदर अनुमंडल पदाधिकारी राजेश शाह करेंगे.

advt

इसे भी पढ़ें:लेबर कमिश्नर संग श्रमिक संगठनों और प्रबंधन की वार्ता बेनतीजा, एचईसी में हड़ताल जारी

जांच समिति को गहनता से पूरे मामले की जांच करने का निर्देश दिया गया है. फर्जी आईडी से धान बेचने के साथ साथ बैंक खातों में हुए भुगतान की जांच करने का निर्देश दिया गया है, ताकि स्थिति को स्पष्ट किया जा सके. उपायुक्त ने कहा कि 200 क्विंटल धान बेचने वाले किसानों की सूची आ गयी है.

advt

इधर, सदर एसडीओ राजेश शाहा ने बताया कि जांच टीम में उनके अलावा जिला आपूर्ति, कृषि एवं सहकारिता पदाधिकारी एवं चैनपुर के आपूर्ति पदाधिकारी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें:कांग्रेस नेता मो. फिरोज खान का एलान- ‘ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी’ ऊर्फ वसीम रिजवी का सिर काटकर लाने वाले को देंगे 50 लाख

उन्होंने बताया कि सीएम के कार्यक्रम के बाद पूरे मामले की जांच शुरू की जाएगी. उन्होंने कहा कि उनकी टीम की कोशिश होगी की मामले पर स्थिति स्पष्ट कर दें.

विदित हो कि जिले में 500 करोड़ के धान क्रय घोटाला का मामला काफी गर्म है. व्यवसायी रामदास साहू पर घोटाला में शामिल होने का आरोप लगाया जा रहा है. आजसू पार्टी इस मामले को लेकर ज्यादा मुखर है.

इसे भी पढ़ें:सांसद संजय सेठ ने India that is Bharat लिखे जाने पर जतायी आपत्ति, कहा- सिर्फ भारत हो नाम

पिछले दिनों सीबीआई जांच की मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन भी कर चुकी है. आजसू पार्टी के नेताओं का कहना है कि धान क्रय घोटाला झारखंड के बड़े घोटालों में से एक है. ऐसे में इसकी जांच सीबीआई से ही होनी चाहिए.

आजसू पार्टी नेताओं ने इस मामले पर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने और सीएम के मेदिनीनगर आगमन पर मामले को रखने का निर्णय लिया है.

इधर, चर्चा के बीच पलामू जिले का हर नागरिक यह जानने को बेताब है कि क्या सचमुच में जिले में 500 करोड़ का धान क्रय घोटाला हुआ है? ऐसे में प्रशासनिक अधिकारियों की जांच रिपोर्ट जल्द सार्वजनिक हो जाये तो स्थिति स्पष्ट हो जायेगी.

इसे भी पढ़ें:UP इलेक्शन : BJP के नारे में उर्दू शब्द होने पर जावेद अख्तर का ‘तंज’, सोशल मीडिया हुए TROLL

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: