JharkhandPalamu

पलामू: गैंगेस्टर कुणाल सिंह की हत्या में कुख्यात डब्ल्यू सिंह गिरोह की संलिप्तता: एसपी

Palamu :  पलामू सहित झारखंड-बिहार में गैंगेस्टर कुणाल सिंह की हत्या के पीछे कुख्यात अपराधी सरगना डब्ल्यू सिंह गिरोह की संलिप्तता सामने आयी है. पलामू के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कुणाल सिंह को दो गोली मारी गयी है.

एक फोर हेड और सीने में लगी है. अपराधियों की धरपकड़ के लिए सदर एसडीपओ के नेतृत्व में एसआईटी का गठन कर तीन अलग अलग टीमें बनायी गयी हैं. उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया यह मामला वर्चस्व का लगता है. प्रारंभिक जांच में इस घटना के प्रतिद्वंदी गिरोह डब्ल्यू सिंह के गैंग की संलिप्तता पायी गयी है.

इसे भी पढ़ेंः Hazaribagh: ACB ने राजस्व कर्मचारी रागिनी कुमारी को रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा

Catalyst IAS
ram janam hospital

कुणाल पर दर्ज हैं 13 आपराधिक मामले: सदर एसडीपीओ

The Royal’s
Sanjeevani

सदर एसडीपीओ संदीप गुप्ता ने जानकारी दी कि घटनास्थल पर दोनों गाड़ी बुरी तरह दुर्घटनाग्रस्त हालत में पड़े पाए गए. मृतक कुणाल सिंह की गाड़ी से पिस्टल का पांच खोखा-बुलेट पाया गया है. मृतक भी पेशेवर अपराधी था और हत्याकांड में सजायाफ्ता है. वर्तमान में जमानत पर था.

मृतक के विरूद्ध 13 आपराधिक कांड दर्ज है, जिसमें वह आरोपित था एवं सजा प्राप्त है. संलिप्त अभियुक्तों के विरूद्ध छापामारी की जा रही है.

जमानत पर बाहर था कुणाल सिंह

झारखंड-बिहार में कुख्यात आपराधिक गिरोह के सरगना और एक्स आर्मी मैन कुणाल किशोर सिंह समेत चार अपराधियों को आर्म्स एक्ट के तहत सजा सुनायी गयी थी. आर्म्स एक्ट के छह साल पुराने मामले में व्यवहार न्यायालय की निचली अदालत ने इन्हें दोषी करार देते हुए 15 मार्च 2018 को सात-सात साल की सश्रम कारावास की सजा सुनायी थी.

कोर्ट ने सभी को पांच-पांच हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया था. अर्थदंड की राशि नहीं देने पर सभी को तीन-तीन माह की अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होती. इसी मामले में कुणाल फिलहाल जमानत पर जेल से बाहर था.

इसे भी पढ़ेंः किसी भी वक्त भारत लाया जा सकता है विजय माल्या

इन मामलों में था कुणाल का हाथ

कुणाल सिंह अपराध की दुनिया में तेजी से आगे बढ़ा और चर्चित आजसू पार्टी के नेता मेदिनीनगर के जेलहाता निवासी साजिद अहमद सिद्दीकी उर्फ बॉबी खान की हत्या में उसकी संलिप्तता सामने आयी. जिसके बाद कुणाल ने अपने साथियों के साथ पलामू के प्रतिष्ठित व्यवसायी और राजद के वरिष्ठ नेता ज्ञानचंद पांडेय के पोते अभिनव पांडेय का बड़े ही नाटकीय ढंग से अपहरण कर लिया था.

इन घटनाओं के बाद कुणाल सिंह को रांची स्थित आर्मी कैंप से गिरफ्तार किया गया था. कुणाल सिंह काफी शातिर अपराधी बताया जाता था. गौरतलब है कि आर्मी कैंप से ही निकलकर उसने आजसू पार्टी के नेता बॉबी खान की हत्या की थी. और फिर बड़े आराम से कैंप में वापस आ गया था. पुलिस को उसकी गिरफ्तारी के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा था. पलामू के तत्कालीन एसपी अनूप टी मैथ्यू के अथक प्रयास से उसकी गिरफ्तारी हो पायी थी.

सूत्रों का कहना है कि घटना के तुरंत बाद पुलिस ने पूछताछ के लिए तीन संदिग्ध अपराधियों को हिरासत में लिया है. हालांकि इसकी पुलिस पुष्टि नहीं की गयी है.

दिनदहाड़े हुई हत्या

विदित हो कि बुधवार की सुबह 7 बजे मेदिनीनगर के हमीदगंज से अघोर आश्रम के समीप सुदना विद्युत ग्रिड के सामने घटना को अंजाम दिया गया. गैंगस्टर कुणाल सिंह अपनी कार टाटा नेक्सन में सवार होकर बीसफुटा की ओर जा रहा था. इसी दौरान गोली मारने से पहले अपराधियों ने कुणाल सिंह की कार को टाटा सफारी (जेएच 03/एस-3126) से धक्का मारा.

उसके बाद ताबड़तोड़ पांच गोलियां चलायी. दो गोली उसके शरीर में लगी. एक फोर हेड और एक सीने में लगी. इससे मौके पर ही कुणाल सिंह की मौत हो गयी. हालांकि इसके बाद भी उसे पीएमसीएच मेदिनीनगर लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. कुणाल सिंह हमीदगंज में रहता था. ऐसे वह छतरपुर के कुरकुटा का मूल निवासी था. घटना के बाद अपराधी मौके पर सफारी को छोड़कर मोटरसाइकिल से फरार हो गये.

इसे भी पढ़ेंः CoronaUpdate: 3 जून को सिमडेगा से 8, पलामू से 6, लातेहार से 3, गुमला, कोडरमा, रामगढ़, रांची और बोकारो से 1-1 कोरोना पॉजिटिव मिले, कुल संख्या हुई 750

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button