JharkhandPalamu

पलामू: प्राथमिक विद्यालय के तीन कमरे में अवैध कब्जा, क्लासरूम में चलती है गौशाला

Palamu :  सरकारी स्कूलों के प्रति शिक्षा विभाग के जिम्मेवार पदाधिकारियों का लापरवाह रवैया रहने के कारण हमेशा शिक्षण कार्य में परेशानी आती रहती है. जिले के सतबरवा प्रखंड अंतर्गत ठेमी स्थित प्राथमिक विद्यालय में लंबे समय से कुछ इसी तरह की स्थिति बनी हुई है.

यहां बने दो से तीन क्लास रूम में अवैध कब्जा हो गया है और यहां पढ़ने वाले बच्चों को एक ही कमरे में भेड़-बकरियों की तरह ठूस कर पढ़ाई करायी जाती है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

एक वर्ष से है कब्जा

The Royal’s
Sanjeevani
कब्जा किये गये क्लास रूम का दृश्य.

ठेमी स्थित सरकारी प्राथमिक विघालय के पांच में से तीन क्लास रूम बीते कई माह से ग्रामीणों के कब्जे में है. स्कूल में एक से पांच क्लास के 65 बच्चे दो छोटे से कमरे में इधर-उधर मुंह फेर कर पढाई करते हैं. इस तरीके से पढाई होने के चलते छात्रों को कुछ समझ में नहीं आ पाता है. ठेमी दलित बाहुल गांव है. छात्र जगह के अभाव में पढाई जैसे अमूल्य चीज से वंचित होते जा रहे हैं.

आवाज के कारण नहीं हो पाती बच्चों की पढ़ाई 

सतबरवा के ठेमी में स्थित प्राथमिक विद्यालय, जिसके तीन कमरों को कब्जा कर लिया गया है.

छात्रों ने बताया कि उन्हें दो कमरों के पुराने भवन में एक से पांच क्लास तक के बच्चे भेड़-बकरियों की तरह दोनों तरफ मुंह करके पढ़ाई करना पड़ता है. दोनों ओर के छात्रों की आवाज आने के कारण कुछ समझ नहीं पाते हैं. दिन भर टाइम पास होता और फिर घर चले जाते हैं.

एक में आवास, दूसरे में भूसा, तीसरे में है गौहाल

छात्रों ने बताया कि एक क्लास रुम में दूबे भुईयां के साथ पिता विश्वनाथ भुईयां के आठ परिजन रहते हैं. बीते एक साल से इस स्कूल के एक क्लास रूम में डेरा जमा रखे हैं. दूबे भुइयां ने बताया कि पूर्व बीडीओ के आदेश से यहां रह रहे हैं, लेकिन वर्तमान बीडीओ ने भवन खाली करने का निर्देश दिया है. मेरा घर गिर गया है, कहां जायेंगे? कुछ समझ में नहीं आ रहा है.

मकान गिरने पर एक ग्रामीण स्कूल में ले रखा है शरण

उसका घर स्कूल भवन के बगल में है. बीते साल के बरसात में गिर गया था. आर्थिक स्थिति खराब रहने के कारण वह अपने मकान का जीर्णोद्धार नहीं करा सका. तत्काल कोई व्यवस्था नहीं रहने पर विद्यालय के एक कमरे में शरण ले लिए.

दूसरे और तीसरे क्लास रूम पर गांव के ही रामचन्द्र साव का कब्जा है. रामचन्द्र एक क्लास रूम में मवेशी के खाने का भूसा रखा गया है, जबकि एक रूम में मवेशियों का गौहाल बना रखा है. यह सिलसिला लंबे समय से चला आ रहा है, लेकिन अवैध कब्जे को हटाने की दिशा में अबतक कोई कार्रवाई नहीं की गयी है.

 बीडीओ को दी गयी सूचना: प्रधानाध्यापिका 

स्कूल की प्रधानाध्यापिका शारदा कुमारी ने कहा कि छात्रों को पढ़ाने में दिक्कत होती है. बीडीओ के साथ विभाग के अधिकारी को जानकारी दी गयी है.

कब्जा गैरकानूनी, हटाया जायेगा कब्जा: बीडीओ  

सतबरवा के बीडीओ संजय कुमार बाखला ने बताया कि स्कूल छात्रों के पढ़ने के लिए हैं. अगर कोई व्यक्ति कब्जा कर रखा है, वह गैरकानूनी है. जांच के बाद कार्रवाई होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button