न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : सोहेया पहाड़ पर अवैध उत्खनन, विद्यालय, मदरसा-घर और खेतों को हो रहा भारी नुकसान

दमदमी मौजा में कुछ लोगों द्वारा गलत दस्तावेज के आधार पर एवं खनन पट्टा के मानकों के विपरीत बोगस रिपोर्ट के आधार पर पत्थर उत्खनन का लीज करा लिया गया. दोनों जगहों पर हो रहे अवैध खनन से विद्यालय, मदरसा, मकान और खेत प्रभावित हो रहे

140

Palamu :  पलामू जिले में लगातार अवैध खनन जारी है. पहाड़, नदी, जंगल सहित अन्य क्षेत्रों में अवैध खनन किया जा रहा है.   प्रशासन को इसकी पूरी जानकारी है, लेकिन ऐसे क्षेत्रों में अबतक नियंत्रण नहीं लग पाया है. लगातार प्रभावित हो रहे ग्रामीण ऐसे मामलों में अब मुखर हो गये हैं और आन्दोलन का रूख अख्यितार कर रहे हैं

गलत दस्तावेज पर लिया गया खनन पट्टा  

ताजा मामला हुसैनाबाद अंचल से जुड़ा हुआ है. अंचल के अंतर्गत सोहेया पहाड़ पिछले लंबे समय से अवैध उत्खनन किया जा रहा है. इसी तरह दमदमी मौजा में कुछ लोगों द्वारा गलत दस्तावेज के आधार पर एवं खनन पट्टा के मानकों के विपरीत बोगस रिपोर्ट के आधार पर पत्थर उत्खनन का लीज करा लिया गया. दोनों जगहों पर हो रहे अवैध खनन से विद्यालय, मदरसा, मकान और खेत प्रभावित हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : #TTPS नियुक्ति घोटाले के साक्ष्य न्यूज विंग के पास, पूर्व एमडी के खिलाफ जांच समिति ने नहीं सौंपी तय समय पर अपनी रिपोर्ट

ग्रामीण हुए गोलबंद, आन्दोलन तेज किया 

अवैध खनन रोकने एवं दमदमी में खनन विभाग द्वारा अवैध ढंग से दिये गये पट्टे को रद्द करने की मांग को लेकर सोमवार को प्रभावित ग्रामीणों ने सोहेया पहाड़ बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले अनुमंडल कार्यालय के समक्ष एकदिवसीय धरना दिया. कार्यक्रम की अध्यक्षता रामकेश्वर मेहता ने की, जबकि संचालन मुकेश मेहता ने किया. धरनास्थल पर भाजपा नेता रामप्रवेश सिंह, संघर्ष समिति के मदन पासवान सहित कई लोगों ने अपने विचार व्यक्त किये.

hotlips top

मानकों के विपरीत बोगस रिपोर्ट दी गयी

वक्ताओं ने कहा कि हुसैनाबाद अंचल के दमदमी मौजा में कुछ लोगों द्वारा गलत दस्तावेज के आधार पर एवं खनन पट्टा के मानकों के विपरीत बोगस रिपोर्ट के आधार पर पत्थर उत्खनन का लीज करा लिया गया. लीज पर दी गई भूमि से 20 मीटर की दूरी पर मदरसा विद्यालय, एक सौ मीटर की दूरी पर मानव बसावट (100 घर से अधिक), 250 मीटर के अंदर प्राथमिक विद्यालय, दमदमी 0 से 20 मीटर की दूरी पर उपजाऊ खेती भूमि और 500 मीटर के अंदर हरही नदी (बुढ़वा बांध) एवं हरही सिंचाई योजना है.

इसे भी पढ़ें : पलामू: बदहाल सड़क और गांव से काफी दूर मतदान केन्द्र, ग्रामीणों ने लिया वोट बहिष्कार का निर्णय

30 may to 1 june

ब्लास्ट होने पर मदरसा पर गिरते हैं पत्थर के  टुकड़ा 

जब ब्लास्ट होता है तो पत्थर के टुकड़े मदरसा, किसानों के घरों और खेतों में गिर रहे हैं.  ध्वनि प्रदूषण और वायु प्रदूषण से लोगों का जीना मुहाल हो गया है. यह एक गंभीर मामला है, जिसकी उच्चस्तरीय जांच आवश्यक है. संबंधित अधिकारियों ने अपने जांच प्रतिवेदन में खनन पट्टे से नजदीक के स्कूल, मदरसा, नदी एवं बांध का उल्लेख ही नहीं किया और उच्चाधिकारियों को इस मामले में अंधेरे में रखकर लीज दे दिया.

सोहेया पहाड़ का अस्तित्व खतरे में

वक्ताओं ने आरोप लगाते हुए कहा कि पत्थर उत्खनन का कार्य लीज के नियमों की अनदेखी कर किया जा रहा है. इससे सोहेया पहाड़ का अस्तित्व खतरे में है. अगर इसे बचाने की पहल नहीं की गयी तो आसपास का इलाका बंजर हो जायेगा और किसान भूखे मरने को विवश हो जायेंगे.

आम सभा में ग्रामीणों को बरगलाया गया

वक्ताओं ने कहा कि पुराने सर्वे खतियान में खाता नंबर 16 प्लॉट नंबर 87, 88 एवं 89 में भूमि का किस्म जंगल पहाड़ और जंगल झाड़ी दर्ज है. नियमानुकूल लीज की गई भूमि से दो सौ पचास मीटर की दूरी पर वन भूमि होना चाहिये, जबकि पत्थर उत्खनन का कार्य वन भूमि से बिलकुल सटी हुई भूमि में कराया जा रहा है, जो खनन एवं वन अधिनियम के विरुद्ध है और लीज शर्तों का खुलमखुल्ला उल्लंघन है. आमसभा के नाम पर ग्रामीणों को बरगला कर हस्ताक्षर करा लिया गया.

खनन और वन विभाग पर मिलीभगत का आरोप

वक्ताओं ने कहा कि खनन विभाग द्वारा लीज पर दी गई भूमि का बिना सीमांकन कराये ही कई महीनों तक पत्थर का उत्खनन कराया गया. खनन विभाग और वन विभाग के संबंधित अधिकारियों की मिलीभगत से लाखों टन पत्थर का अवैध रूप से उत्खनन कर बाजार में बेच दिया गया. वक्ताओं ने तत्काल अवैध ढंग से किये जा रहे पत्थर उत्खनन पर रोक लगाते हुए दोषी अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने और फर्जी रिपोर्ट के आधार पर दिये गए खनन पट्टा को रद्द करने की मांग की.

इसे भी पढ़ें : #Giridih: दुष्कर्म के आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पुलिस और ग्रामीणों के बीच हिंसक झड़प

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like