न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू :  केएन त्रिपाठी की जनता को सलाह,  पीने का साफ पानी न मिले, तो निगम को बिल का भुगतान न करें  

पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने नो वाटर, नो बिल... का नारा देते हुए मेदिनीनगर वासियों से स्वच्छ पानी नहीं मिलने पर बिल का भुगतान नहीं करने की सलाह दी है.

89

Palamu :  पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने नो वाटर, नो बिल… का नारा देते हुए मेदिनीनगर वासियों से स्वच्छ पानी नहीं मिलने पर बिल का भुगतान नहीं करने की सलाह दी है. श्री त्रिपाठी आज मेदिनीनग निगम क्षेत्र में वार्डो का भ्रमण करते हुए स्थानीय समस्याओं से अवगत हुए. पूर्व मंत्री ने कहा कि जब तक पूरी तरह से साफ-सफाई  न की जाये,  तब-तक म्युनिसिपालिटी व म्युनिसिपल कारपोरेशन को होल्डिंग टैक्स देना बंद करें. शहर में स्वच्छ पानी की समस्या पर दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि अपने मंत्रित्व काल में हमने बहुत ही मेहनत से सेकंड फेज पाईप लाइन का खाका तैयार किया था और इसकी स्वीकृति दी थी, लेकिन 5 साल बीत जाने के बाद भी सरकार इसे संपन्न नहीं करा सकी है.

इसे भी पढ़ें – धनबादः हाइवा से कुचल कर किशोर की मौत, परिजनों का हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले भी दागे

Sport House

पानी का बिल 20- 25 हजार

पूर्व मंत्री ने कहा कि यह सुनकर बहुत आश्चर्य हो रहा है कि जिन लोगों को पानी नहीं मिल रहा है, उनको भी 20 हजार से लेकर  25 हजार तक का बिल भेज दिया जा रहा है. श्री त्रिपाठी ने यह कहते हुए  जनता से अपील की कि साफ पानी सबका अधिकार है. ऐसे में मेदिनीनगर की जनता को जब तक स्वच्छ पानी ना मिले,  जनता रेंट व पानी का बिल ना दें. उन्होंने यह भी आग्रह किया कि आम जनता नगर के विकास का जो टैक्स है, वह भी देना बंद करे, क्योंकि जब सफाई नहीं होगी तो टैक्स किस चीज का? जब नगर निगम काम करने में अक्षम है तो वह जनता से कर लेने का भी अधिकारी नहीं है.

 मेयर का इलाका गंदगी से भरा

पूर्व मंत्री ने कहा कि मेदिनीनगर के जिस इलाके में मेयर अरुणा शंकर रहती हैं, वह पूरी तरह अस्वच्छ और अस्वस्थ हो चुका है. गंदगी से भरा हुआ है.  गंदी नालियों में मच्छर और दूसरे लार्वा का जन्म हो रहा है, जिससे मलेरिया-डायरिया जैसी कई बीमारीयां वहां पनप रही हैं. सरकार और प्रशासन स्वच्छता की जो दुहाई दे रहा है, आज उसके नाक के नीचेगंदगी जमी हुई है, नालियां जाम हैं, लेकिन उसे कुछ दिखाई नहीं दे रहा.

इसे भी पढ़ें – धान क्रय केंद्रों के बजाए खुले बाजार में धान बेच रहे किसान, 150 रुपये बोनस की सरकारी घोषणा भी नाकाम

Mayfair 2-1-2020

फोटो खिंचाने वाले नेता-मंत्री गायब

सरकार के बड़े-बड़े मंत्री जो यहां आकर हाथ में झाड़ू लेकर फोटो खिंचवाते थे. वह सारे गायब हैं, क्योंकि लोकसभा का चुनाव संपन्न हो चुका है. अब वे आगामी विधानसभा चुनाव से पहले सितंबर-अक्टूबर में फिर दिखाई देंगे और सरकार के पैसे से स्वच्छता अभियान काबैनर-पोस्टर लगाते हुए झाड़ू लेकर फोटो खिंचवाते नजर आयेंगे.  हमें समझ में नहीं आ रहा है कि निगम के पदाधिकारी क्या काम कर रहे हैं और क्यों चारों तरफ गंदगी जमी हुई है. पूर्व मंत्री ने इस पर सवाल खड़े किये.

हवा को देखकर वोटिंग करने से होता है नुकसान

श्री त्रिपाठी ने कहा कि हमें ऐसा लगता है कि जब-जब जनता हवा को देख कर वोटिंग करेगी,  तब तक जनता को परेशानी का सामना करना पड़ेगा. कहा कि वार्ड पार्षद चुनाव में, पंचायतों में, जिला परिषद में , शहर के म्युनिसिपल कारपोरेशन में,  विधायक व सांसद के चुनाव में जब जनता दल से ज्यादा नेता को प्राथमिकता देगी, नेतृत्व को देगी, तब जाकर जनता की समस्याओं का समाधान सही दिशा में होगा, लेकिन जब-जब जनता दल के हवा में बहेगी तो नुकसान हमेशा जनता को उठाना पड़ेगा. क्योंकि व्यवसायी किस्म के नेता हवा के अनुसार अपना दल बदल लिया करेंगे और उन्हीं दलों में जाकर फिर अपने राजनीतिक व्यवसाय को विधायक और सांसद बनकर पूरा कर लिया करेंगे.

वार्ड पार्षद भी नाराज

पूर्व मंत्री ने नगर निगम अधिकारियों को आगाह करते हुए कहा कि पूरे नगर में सफाई अभियान जोर-शोर से चलायें, अभी आपके वार्ड पार्षद आप से नाराज हैं, बाद में हमें सड़क पर उतरना पड़ेगा और आपको आपके दायित्वों का बोध कराने के लिए हमें आप के खिलाफ आंदोलन का बिगुल बजाना पड़ेगा. वार्ड 20 के पार्षद बिल्लू सिंह व 25 के वार्ड पार्षद दिलीप कुमार समेत अन्य पार्षदों ने इस परेशानी पर कहा कि निगम ना तो उनकी मीटिंग बुला रहा है और ना ही सफाई के लिए पर्याप्त कर्मियों को मुहैया कराया जा रहा है. त्रिपाठी ने कहा निगम द्वारा वार्ड पार्षदों की मीटिंग बुलाने के लिए ( नियम संगत हर महीने एक या दो मीटिंग होना आवश्यक है.  पार्षदों को आंदोलन करना पड़े और धरना देना पड़े तो यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है और नगर निगम का यह रवैया जनहित विरोधी है.

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस के 4 जिलाध्यक्ष गठबंधन के विरोधी,  अन्य ने कहा- फेयर डील हो

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like