न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : स्वास्थ्य मंत्री ने कहा – नदियों के अस्तित्व को बचाने के लिए वृक्षारोपण जरूरी

277

Daltonganj :  पर्यावरण संरक्षण के साथ-साथ अस्तित्व से जूझती झारखंड की नदियों को बचाने के लिए वन पर्यावरण एंव जलवायु परिर्वतन विभाग के निर्देश पर जिले के नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत निमियां, सिंगरा इलाके में कोयल नदी तट क्षेत्र में वृक्षारोण कार्यक्रम चलाया गया. कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी व विशिष्ट अतिथि के रूप में जिले के 20 सूत्री उपाध्यक्ष विपिन बिहारी सिंह ने भाग लिया. मौके पर स्वास्थ्य मंत्री श्री चंद्रवंशी ने कहा कि केंद्र सरकार के निर्देशानुसार नदियों के अस्तित्व को बचाने और पर्यावरण को संतुलित रखने के उद्देश्य से राज्य के विभिन्न नदियों के किनारे वृक्षारोपण कार्यक्रम की शुरूआत की गयी है. सरकार के इस अभियान के तहत जिले के निमियां, सिंगरा खुर्द और बजराहा में वृक्षारोपण किया गया. इन तीनों स्थानों के पांच किलोमीटर की परीधि में 30 हजार पौधा लगाने का लक्ष्य है. इसके तहत आज करीब तीन हजार पौधा लगाये गये हैं.

इसे भी पढ़ें- पुलिस आधुनिकीकरण पर करोड़ों खर्च और जवानों की दुर्दशा, ऊपर भी पानी-नीचे भी पानी (देखें वीडियो)

नदी का अस्तित्व बचेगा तभी क्षेत्रों में जल का स्तर बना रहेगा

उन्होंने कहा कि पर्यावरण को संतुलित रखने के लिए पौधा रोपण करना अति आवश्यक है. नदी के किनारे पौधा रोपण किए जाने से नदियों के अस्तित्व को बचाया जा सकता है. जब नदी का अस्तित्व बचेगा तभी क्षेत्रों में जल का स्तर बना रहेगा और लोगों को पीने के लिए पानी उपलब्ध हो पाएगा. उन्होंने कहा कि पेड़ों के प्रतिदिन अंधाधुंध कटाई से जलस्तर दिन प्रतिदिन नीच जा रहा है, जिसे हर क्षेत्र में पेयजल संकट उत्पन्न हो रही है. उन्होंने कहा कि पलामू की पहचान वनों से होती है, लेकिन आज की स्थिति यह है कि जिले से वन का लगभग सफाया हो चुका है. उन्होंने जिले के हर व्यक्ति से पांच-पांच पौधा लगाने की अपील की ताकि जिले में हरियाली आने के साथ भूमिगत जल स्तर बना रहे. मौके पर सदर एसडीओ नंदकिशोर गुप्ता, भाजपा जिला अध्यक्ष नरेंद्र कुमार पांडेय, डिप्टी मेयर मंगल सिंह, पूर्व सैनिक ब्रजेश शुक्ला, डीएफओ एनसी मुंडा के अलावा काफी संख्या में स्कूली बच्चे शामिल थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: