न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: हैदरनगर देवी धाम बनेगा पर्यटन स्थल, मोहम्मदगंज भीम चूल्हा क्षेत्र के दिन भी बहुरेंगे 

eidbanner
100

Daltonganj: आस्था और विश्वास के केन्द्र प्रसिद्ध हैदरनगर देवी धाम पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा. एक पर्यटन स्थल पर होने वाली तमाम सुविधाएं यहां बहाल की जायेंगी, ताकि पर्यटकों को किसी तरह की परेशानी ना हो सके. मंदिर परिसर की स्थिति और आस-पास के क्षेत्र का अवलोकन करने के लिए गुरूवार की सुबह जिले के उपायुक्त डॉ शांतनु कुमार अग्रहरि हैदरनगर पहुंचे.

एक घंटे तक रूके उपायुक्त, दिए कई निर्देश

हैदरनगर देवी धाम परिसर में सुबह करीब 7:30 बजे उपायुक्त पहुंचे. उन्होंने मंदिर के मुख्य द्वार से लेकर परिसर को देखा. उपायुक्त ने बताया कि मुख्य द्वार पर गेट लगाया जायेगा. मुख्य द्वार से लेकर मंदिर तक पक्की सड़क बनायी जायेगी. मंदिर परिसर की बाउंड्री की जायेगी और सार्वजनिक शौचालय बनाया जायेगा. उन्होंने शुद्ध पेयजल के लिए आरओ सिस्टम लगाने की भी बात कही. मंदिर परिसर में जहां-तहां लगी पूजा सामग्री की दुकानों को व्यवस्थित करने की जरूरत पर भी उपायुक्त ने बल दिया. उपायुक्त ने जानकारी दी कि हैदरनगर देवी धाम के विकास में तत्काल किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आयेगी. देवी धाम को आसानी से विकसित किया जा सकता है. संसाधनों को विकसित करने का निर्देश दे दिया गया है, इस पर जल्द काम शुरू हो जायेगा.

मोहम्मदगंज भीम चूल्हा क्षेत्र के विकास में बहुत सारे कार्य करने होंगे

हैदरनगर देवी धाम से पहले उपायुक्त द्वारा मोहम्मदगंज भीम बराज क्षेत्र का जायजा लिया गया. यहां उपायुक्त सुबह 6.30 बजे पहुंचे. यह इलाका रमणीय था, लेकिन सुनसान क्षेत्र नजर आया. आबादी भी काफी कम थी. उपायुक्त ने बताया कि भीम चूल्हा क्षेत्र काफी निर्जन है. पर्यटन स्थल के रूप में इस इलाके को विकसित करने से पहले आस-पास बहुत सारे विकास कार्य करने होंगे. इसके लिए जिला से एक टीम भेजी जायेगी और स्थितियों का अवलोकन कर उसपर प्रस्ताव बनाया जायेगा. सरकार के पास भेजकर इसपर काम शुरू किया जायेगा.

उपायुक्त द्वारा दोनों स्थानों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की संभावनाओं को लेकर स्थानीय ग्रामीणों से भी बात की गयी. उपायुक्त द्वारा हैदरनगर मंदिर में पूजा अर्चना भी की गयी. साथ ही पूजा कमिटी के लोगों को दिशा-निर्देश दी गयी.  हैदरनगर में उपायुक्त के साथ डीपीओ अरविंद कुमार, बीडीओ प्रदीप दास, राहुल देव, मुखिया कमलेश सिंह, जेई अमित कुमार समेत मंदिर के पुजारी और कमिटी के पदाधिकारी शामिल थे.

बता दें कि हर साल चैत नवरात्र और शारदीय नवरात्र में हैदरनगर देवी धाम में मेला लगता है. यहां झारखंड के अलावा बिहार, यूपी सहित अन्य पड़ोसी राज्यों के हजारों श्रद्धालुओं का आना-जाना लगा रहता है. मंदिर के प्रति ऐसी आस्था है कि यहां कथित भूत-प्रेत से प्रभावितों के आने पर उनका झाड़-फूंक से इलाज किया जाता है.

इसी तरह भीम चूल्हा क्षेत्र घूमने-फिरने का रमणीय स्थल है. एक तरफ भीम बराज, तो दूसरी तरफ जंगली क्षेत्र और भीम चूल्हा आकर्षण का केन्द्र रहता है. यहां हर साल नये साल की शुरूआत में सैलानियों की भीड़ उमड़ती है. यहां के तीन पत्थर चूल्हानुमा दिखते हैं. लोगों का मानना है कि महाभारत काल में पांडव यहां रूके थे और भीम ने भोजन पकाने के लिए यहां पत्थरों को जोड़कर चूल्हा बनाया था.

इसे भी पढ़ें: 3 सालों में 70% शिक्षक होंंगे रिटायर, 90 शिक्षकों की ज्वाइनिंग डेट RU को पता नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: