JharkhandPalamuUncategorized

पलामू : आधे शहर में सात दिनों से जलापूर्ति ठप

Palamu : भीषण गर्मी में पेयजल की क्या अहमियत होती है, यह सब जानते हैं. लेकिन सरकारी विभागों के अधिकारी इस हकीकत को दरकिनार कर अपनी मनमानी करते हैं. डालटनगंज शहर में पिछले छह-सात दिनों से ऐसी ही स्थिति बनी हुई है. 11 हजार वोल्ट का तार अंडरग्राउंट करने के दौरान बिजली विभाग द्वारा पीएचइडी के जलापूर्ति पाइपों को भारी नुकसान पहुंचाया गया है. पाइपों के फट जाने से शहर की आधी आबादी पानी के लिए तरस रही है, लेकिन इन पाइपों को ठीक करने में ना तो विद्युत व पीएचइडी विभाग कोई दिलचस्पी दिखा रहा है और ना ही मेदिनीनगर नगर निगम का ही कोई ध्यान रह गया है.

इसे भी पढ़ें- तीन करोड़ 63 लाख रुपये बर्बाद करने जा रही राज्य सरकार

कैसे बिगड़ी स्थिति

दरअसल, रामनवमी और मुहर्रम वाले रूटों पर बिजली तारों को भूमिगत किया जा रहा है. अस्पताल चौक के पास से इसकी शुरूआत हो गयी है. इसके लिए अस्पताल चैक के पास बिजली तारों को भूमिगत करने के लिए गड्ढ़े किये गये हैं, जिससे वाटर सप्लाई पाइप फट गयी. इस वजह से पिछले सात दिनों से शहर की बड़ी आबादी को पानी नहीं मिल पा रहा है. कुछ घरों में पानी पहुंच भी रहा है तो वह इतना गंदा है कि उसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता.

इसे भी पढ़ें- शुरू हुआ विधानसभा सत्र, बिरसा चौक गेट बंद होने से लोग परेशान

बड़ी समस्या के बावजूद विभाग की सक्रियता नहीं : वसीम

आजसू पार्टी के प्रवक्ता और समाजसेवी वसीम खान ने आरोप लगाया है कि पाइपों के फट जाने से कुंड मुहल्ला और इससे सटे क्षेत्रों में हजारों की आबादी पानी के लिए तरस रही है। लेकिन एक सप्ताह गुजर जाने के बाद भी ना तो पीएचइडी, बिजली विभाग और ना ही निगम प्रशासन द्वारा पाइपों को दुरूस्त करने में कोई ठोस कार्रवाई की गयी है. निगम के महापौर और उपमहापौर तो मौके पर जाना भी अबतक मुनासिब नहीं समझा है. निगम बनने के बाद उम्मीद जगी थी शहर की समस्याएं त्वरित गति से दूर होगी, लेकिन ऐसा दूर-दूर तक नजर नहीं आता.

इसे भी पढ़ें-भूमि अधिग्रहण बिल पर विपक्ष ने फूंका बिगुल, हेमंत ने कहा – जनता पर थोपा जा रहा काला कानून

पीएचइडी और बिजली विभाग ने पला झाड़

मो. वसीम ने कहा कि जब इस संबंध में पीएचइडी के कनीय अभियंता रणधीर सिंह से जानकारी लेने की कोशिश की तो उन्होंने अपना पल्ला झाड़ लिया और कहा कि पाइपों को बिजली विभाग क्षतिग्रस्त किया है, रिपेयर भी वही करेगा. दोनों विभागों के टालमटोला रवैया और निगम प्रशासन की बेरूखी से पानी की समस्या विकराल रूप लेती जा रही है.

adv

इसे भी पढ़ें-आरटीआई से ना सूचना देंगे और ना भ्रष्टाचार होगा उजागर

निगरानी करे प्रशासन : ओझा

भाजपा नेता परशुराम ओझा ने बिजली तारों को भूमिगत करने की योजना पर काम शुरू होने का स्वागत किया है. साथ ही उन्होंने जिला प्रशासन और बिजली विभाग के अधिकारियों को काम की निगरानी करने की नसीहत दी है. श्री ओझा ने कहा कि अधिकारियों को यह देखना चाहिए कि बिजली तारों को भूमिगत करने का कार्य मानक के अनुसार हो रहा है या नहीं. इसके लिए इस्तेमाल उपकरणों और सामग्रियों की गुणवत्ता सही है या नहीं. केवल ठेकेदार के भरोसे काम को छोड़ देना उचित नहीं है. अंडरग्राउंड केबलिंग में गड़बड़ी होने पर यह शहरवासियों के लिए मुसीबत और खतरे का सबब बन सकता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: