न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: पारा शिक्षकों के ट्रांसफर में भारी गड़बड़ी

54

Palamu: जिले में लगभग 300 से अधिक पारा शिक्षकों का ट्रांसफर किया गया है. नियमानुसार इसमें महिला, दिव्यांग और अधिक उम्र के पारा शिक्षकों का स्थानांतरण नजदीक के विद्यालय में करना है. लेकिन नियमों की अनदेखी कर इनका स्थानांतरण किया गया है.

इसे भी पढ़ें – अब पाकुड़ की जनता कह रही कैसे डीसी के संरक्षण में हो रहा है अवैध खनन, सवालों पर डीसी चुप

प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्क्रमित मध्य विद्यालय, सांगबार के 55 वर्षीय पारा शिक्षक राज किशोर सिंह का स्थानांतरण उनके घर से 27 किमी दूर उत्क्रमित मध्य विद्यालय मुड़ाथान कर दिया गया है. फिलहाल वह प्रखंड मुख्यालय लेस्लीगंज में प्रतिनियुक्ति पर थे. श्री सिंह ने इस संबंध में जिला शिक्षा अधीक्षक को एक आवेदन देकर स्थानांतरण रद्द करने की मांग की है. श्री सिंह कहना है कि वह ह्रदय रोग एवं उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं.

इसे भी पढ़ेंःराज्य प्रशासनिक सेवा के 420 पोस्ट खाली, 25 अफसरों पर गंभीर आरोप, 07 सस्पेंड, 06 पर डिपार्टमेंटल प्रोसिडिंग, 05 पर दंड अधिरोपण

इसी प्रकार उत्क्रमित मध्य विद्यालय कोइरी पतरा के पारा शिक्षक अशोक कुमार मेहता का भी स्थानांतरण दूरस्थ विद्यालय में कर दिया गया है, जबकि इनकी उम्र 59 वर्ष 6 माह हो गयी है. श्री मेहता ने भी अपना स्थानांतरण स्थगित करने की गुहार लगायी है. बताया जाता है कि लगभग 33 शिक्षक ऐसे हैं, जिनके ट्रांसफर में गड़बड़ी की गयी है. विदित हो कि जिले के उपायुक्त डॉ शांतनु अग्रहरि ने दो दिन पूर्व स्थापना समिति की बैठक में 400 से अधिक पारा शिक्षकों में से 300 से अधिक पारा शिक्षकों का स्थानान्तरण कर दिया था.

Related Posts

पलामू : आपसी दुश्मनी में हुई थी छोटू पासवान की हत्या, एक गिरफ्तार, दो ने कोर्ट में किया सरेंडर

डीएसपी सुरजीत कुमार ने शनिवार को एसपी कार्यालय में बताया कि छोटू पासवान हत्याकांड में शामिल आरोपी गुड्डू खान उर्फ गुड्डू आलम को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया.

SMILE

सांसद से पारा शिक्षकों ने की युक्तिकरण में मनमानी की शिकायत

एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के एक शिष्टमंडल शुक्रवार को पलामू सांसद बीडी राम से मिला और उनसे जिला स्थापना समिति द्वारा किये गए पारा शिक्षकों की युक्तिकरण में व्यापक त्रुटि होने की शिकायत की. कहा कि युक्तिकरण के नाम पर स्थानांतरण का गंदा खेल खेला गया है. कहा कि यदि सूची में अविलंब आवश्यक संसोधन नहीं किया गया तो व्यापक आंदोलन किया जायेगा.

बताया गया कि कई पंचायतों में सीट खाली रहते हुए पारा शिक्षकों को दूर की पंचायत में पदस्थापित किया गया है. अधिक छात्र संख्या वाले विद्यालयों से पारा शिक्षकों को हटाया गया है. इतना ही नहीं महिला पारा शिक्षिकों को 8 से 10 किलोमीटर दूर के विद्यालयों में भेजा गया है. विभागीय निर्देश की भी अवहेलना की गयी है. इस दौरान सांसद श्री राम ने डीएसई से बात कर सूची में आवश्यक संसोधन कराने का आश्वासन दिया.

शिष्टमंडल में राज्य इकाई के सिंटू सिंह, जिला इकाई के ऋषिकांत तिवारी, मिथिलेश उपाध्याय, महेश मेहता, राजेश मिश्रा, सुनील यादव, मनोज सिंह, जीतेन्द्र कुमार, लल्लू राम, राणा मनीष सिंह, कृष्ण कुमार मिश्रा, राजकिशोर सिंह, विनोद दुबे, उपेन्द्र कुमार एवं रवीन्द्र कुमार आदि शामिल थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: