GiridihJharkhand

पलामू: गरीब रथ और राजधानी एक्सप्रेस में एसी अटेंडेंट करवाते हैं सामानों की तस्करी, रेलवे को हो रहा राजस्व का भारी नुकसान

विज्ञापन

Dilip Kumar

Palamu:  पूर्व मध्य रेलवे के धनबाद और मुगलसराय रेल मंडल के अंतर्गत चलने वाले एक्सप्रेस ट्रेनों में एसी अटेंडेंट सामानों की तस्करी करवाते हैं.

यह सिलसिला लंबे समय से चलता आ रहा है, लेकिन इसके नियंत्रण पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाती. जबकि इसके लिए आरपीएफ सहित कई जिम्मेवार अधिकारियों की लंबी फौज है.

बिना रोकटोक सामानों ले लाये जाने से रेलवे को राजस्व का भारी नुकसान होता है.

बिना बुक कराये मिला सामान, लगा 2600 का जुर्माना

इसका खुलासा शुक्रवार की सुबह डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर हुआ. नयी दिल्ली से आकर डाउन गरीब रथ एक्सप्रेस स्टेशन पर खड़ी हुई. टिकट निरीक्षक बीएम पांडेय यात्रियों की टिकट जांच कर रहे थे.

देखा कि दो-तीन पेटियों में चादर में लिपटे सामान उतारे जा रहे हैं. श्री पांडेय ने इस संबंध में छानबीन की. पता चला कि बिना बुक कराये सामान दिल्ली से लाये गये हैं.

टिकट निरीक्षक ने नियमानुसार फाइन लगाया और 2600 रूपये वसूले. टिकट निरीक्षक ने बताया कि तीनों पेटियों में 450 से अधिक मोबाइल भरे पड़े थे और उन्हें चादर में लपेट कर एसी बोगी में रखा गया था.

इसे भी पढ़ेंः  पटना हाईकोर्ट ने जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष चंद्रशेखर की हत्या के दोषियों की उम्रकैद की सजा बहाल रखी

एसी अटेंडेंट की रही संलिप्तता

सूत्रों का कहना है कि सारे मोबाइल फोन को दिल्ली में पैक किये गये. फिर उसे पेटियों में बंद कर बिना बुक कराये गरीब रथ में डाला गया.

एसी अटेंडेंट ने सामानों को यात्रियों को दी जाने वाली चादरों में बांध दिया.  ताकि रेलवे के अधिकारी समझें कि यह उनका निजी सामान होगा. नयी दिल्ली से सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय करते हुए सामान बेरोकटोक डालटनगंज पहुंच गये.

सूत्र यह भी बताते हैं कि नयी दिल्ली से आने वाली गरीब रथ और राजधानी एक्सप्रेस में इस तरह का खेल हर दिन चलता है. एसी अटेंडेंट रेलवे के अधिकारियों की आंखों में धूल झोंककर जहां बड़ी कमाई करते हैं, वहीं रेलवे को इससे लाखों का नुकसान होता है.

बिना बुक कराये शक्तिपुंज से लाये जाते हैं फूल  

सूत्रों का कहना है कि केवल गरीब रथ और राजधानी एक्सप्रेस तक ही यह मामला रूका हुआ नहीं है, बल्कि शक्तिपुंज एक्सप्रेस में भी इस तरह का गोरखधंधा चलता रहता है.

हावड़ा से जबलपुर के बीच चलने वाली शक्तिपुंज एक्सप्रेस में बिना बुक कराये फूलों की तस्करी की जाती है. सप्ताह में कई दिन रेलवे के अधिकारियों की मिलीभगत से फूलों की बड़ी खेप डालटनगंज स्टेशन पर उतरी जाती है और फिर उसे धड़ल्ले से मेदिनीनगर के बाजारों में पहुंचा दिया जाता है.

यह सिलसिला लंबे समय से चलता आ रहा है, लेकिन इसपर भी नियंत्रण नहीं लग पाया है. फूलों के बुक नहीं कराये जाने के कारण रेलवे को राजस्व का भारी नुकसान होता है. दीपावली, छठ, नवरात्र सहित अन्य पर्व त्योहारों पर तो फूलों की आवक काफी बढ़ जाती है.

इसे भी पढ़ेंः चाईबासा के एएसपी अभियान मनीष रमण पर नक्सलियों से सांठगांठ का आरोप, काम से हटाये गये

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close