NEWS

पलामू: अवैध करार दिए जाने के बाद भी धड़ल्ले से चल रहे क्लीनिक, चार अस्पताल सील, 10 संचालक हिरासत में

Palamu :  पलामू जिले के छतरपुर में सिविल प्राशासन की जांच में अवैध करार दिए जाने के बाद भी धड़ल्ले से चल रहे अस्पताल और क्लिनीकों के खिलाफ आज कार्रवाई की गयी. जिले के सीएस डा. जाॅन एफ कनेडी ने प्रशासनिक टीम के साथ चार अस्पतालों को जहां सील किया, वहीं मौके से 10 संचालकों के हिरासत में लिया.

बतातें चलें कि छतरपुर एसडीओ और सीओ द्वारा गत 30 अगस्त को छतरपुर में एक दर्जन अस्पतालों की जांच की गयी थी. सभी को अवैध करार दिया गया था. बावजूद स्वास्थ्य विभाग कार्रवाई नहीं कर रहा था, जिससे संचालकों के हौसल बुलंद थे. हालांकि 12 दिनों के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया और कार्रवाई के लिए जिला मुख्यालय से सिविल सर्जन छतरपुर पहुंचे.

इसे भी पढ़ेंः  राज्य के 117 मदरसों के 425 शिक्षकों-कर्मियों को मिलेगा अनुदान, 58 करोड़ रुपये जारी

Catalyst IAS
ram janam hospital

कई हुए मौके से फरार

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

कार्रवाई करते हुए चार क्लीनिक सह अस्पतालों को सील कर दिया गया है, जबकि सील किये गये अस्पतालों से 10 लोगों को हिरासत में लिया गया है. सील किये गये अस्पतालों में महेन्द्रा एग्रो पेट्रोल पंप के पास का जनता अस्पताल, बैंक के पास ए.परवीन नामक महिला चिकित्सक की क्लीनिक, हाई स्कूल रोड में जैनू एक्सरे एवं जांच घर और सरईडीह रोड के रानी हॉस्पिटल शामिल हैं. कार्रवाई के भय से कई अस्पताल अपना बैनर पोस्टर और बोर्ड उखाड़ कर फरार हो गए थे. अस्पताल मकाननुमा स्थान पर चल रहे थे. इसलिए टीम को और अस्पताल सील करने में कामयाबी नहीं मिली.

कार्रवाई में मौके पर पलामू सिविल सर्जन डॉ जॉन एफ केनेडी, छतरपुर के चिकित्सा पदाधिकारी डा. राजेश अग्रवाल, छतरपुर के पुलिस इंस्पेक्टर मनोज तिवारी, थाना प्रभारी उपेन्द्र सिंह और पुलिस बल मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंः अली खान आइपीएल में खेलने वाले पहले अमेरिकी खिलाड़ी होंगे, KKR की ओर से खेल सकते हैं

 झोला छाप चिकित्सकों द्वारा चलाये जा रहे हैं क्लीनिक

बताते चलें कि छतरपुर एसडीओ ने औचक निरीक्षण के बाद छतरपुर में कई अवैध अस्पतालों के झोला छाप चिकित्सकों द्वारा चलाये जाने से संबद्ध पत्र पलामू सीएस को लिखते हुए कार्रवाई का आग्रह किया था. इस मामले में डीसी ने भी उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया था. सीएस ने कहा है कि अवैध अस्पतालों के विरूद्ध यह कार्रवाई जारी रहेगी. उन्होंने छतरपुर के चिकित्सा पदाधिकारी को मामले पर नजर रखने और पुलिस को हिरासत में लिए गए लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है.

इसे भी पढ़ेंः  जेपी नड्डा के पटना पहुंचते ही नरम हुए चिराग, बोले- ‘BJP जो भी फैसला लेगी उसे मानेंगे’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button