JharkhandPalamu

पलामू: वन विभाग की मनमानी, घर के आंगन में खोदा ट्रेंच, फसल पर चलायी जेसीबी  

Palamu : जिले के तरहसी प्रखंड के टरिया, छेचानी, सेलारी और सिकनी के ग्रामीण इन दिनों वन विभाग की मनमानी से त्रस्त हैं. वन विभाग ने इन गांवों के ग्रामीणों के आंगन में ट्रेंच खोद दिया है. इससे ग्रामीणों को घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है.

पौधारोपण के नाम पर खोदा गया ट्रेंच

सुरेश साहू, महेश साहू, सूर्यांश सिंह, जुगुल विश्वनाथ, संतु सिंह, सेवक साहू, विनोद भुइयां, अंतू भुइयां ने बताया कि सिकनी, छेचानी, सेलरी में दर्जनों घर एवं खेती करने वाली उपजाऊ जमीन को वन विभाग द्वारा नष्ट कर दिया गया है.

advt

पौधारोपण के नाम पर सिकनी गांव में घर के आंगन में ट्रेंच खोद दिया गया. वहीं छेचानी में कई लोगों की लगी फसल को जेसीबी लगाकर रौंद दिया गया. साथ ही भूमि पर लगे पेड़ पौधों को जेसीबी से उखाड़ कर वन विभाग के अधिकारी ले गये. इसमें पलाश और महुआ के पेड़ शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – #Wajahat_Habibullah ने सुप्रीम कोर्ट में पेश की रिपोर्ट, कहा, शाहीन बाग में शांतिपूर्ण प्रदर्शन, पुलिस ने बेवजह रास्ता बंद किया

वन भूमि पर रहा है लंबे समय से कब्जा, रसीद भी कटती है

छेचानी के ग्रामीणों ने बताया कि जिस जमीन पर वन विभाग द्वारा जेसीबी चलाया गया है, उसपर हम सबका कई वर्षों से कब्जा रहा है. साथ ही इस जमीन की रसीद कटती है और सरकार को मालगुजारी देते आये हैं.

मना करने पर जेल भेजने, केस करने और फाइन करने की धमकी देकर हम सभी गरीब ग्रामीणों को दबाकर रखा जा रहा है और घर और जमीन से बेदखल किया जा रहा है. आज तक कभी भी वन विभाग द्वारा ऐसी कार्रवाई नहीं की गयी थी.

adv

इसे भी पढ़ें – भारत दौरे से पहले ट्रंप का बाहुबली अवतार, कहा- वहां दोस्तों से मिलने के लिए उत्साहित

जिला प्रशासन से न्याय की लगायेंगे गुहार

ग्रामीणों ने वन विभाग पर मनमानी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जहां एक तरफ सरकार गरीबों को वन भूमि का पट्टा देकर बसाने के काम कर रही है. वहीं वन अधिकारी वर्षों से रह रहे  घर और खेत-जमीन को लूटने का काम किया है.

ग्रामीणों ने निर्णय लिया है कि इस सिलसिले में जिले के उपायुक्त को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगायेंगे. न्याय नहीं मिलने पर सक्षम न्यायालय में रिट दायर करेंगे.

मुकदमा में फंसाने की धमकी

ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाया कि एक तरफ पेड़ लगाने की तैयारी करना, वहीं दूसरी ओर कानून को ताक पर रखकर हरे भरे लगे पेड़ को उखाड़ देना, कहां तक न्यायोचित है. वन अधिकारियों के पास कोई भी ग्रामीण न्याय की बात करते हैं, तो उन्हें चिन्हित कर उन पर फर्जी मुकदमा कर नोटिस थमा दिया जाता है. साथ ही ग्रामीणों का कहना है कि वन विभाग के अधिकारी अंग्रेजी हुकूमत जैसे हो गये हैं.

फसल और घर उजाड़ना गलत, जांच कर रीट दायर की जायेगी: अधिवक्ता विकास

मामले की सूचना मिलने पर तरहसी थाना क्षेत्र के टरिया पंचायत भवन में ह्यूमन राइट लॉ नेटवर्क के जिला अधिवक्ता विकास दुबे और सत्य प्रकाश ने ग्रामीणों के साथ बैठक की और उनकी समस्या सुनी. अधिवक्ता विकास दुबे ने बताया कि बिना सूचना या नोटिस दिये ही किसी की फसल और घर उजाड़ना गलत है. सारे तथ्यों की जांच कर हाईकोर्ट में इस संबंध में रीट दायर किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : अपहरण के प्रयास मामले में ढुल्लू महतो के बड़े भाई सहित पांच पर मामला दर्ज,एक को भेजा गया जेल 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button