न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : छतरपुर क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे पांच क्रशर ध्वस्त किए गए

88

Palamu : जिला स्तर पर गठित टास्क फोर्स द्वारा एक बार फिर छतरपुर अनुमंडल क्षेत्र में अवैध रूप से चल रहे क्रशरों को तोड़ने के लिए अभियान शुरू कर दिया गया है. गुरुवार को पहले दिन छतरपुर थाना क्षेत्र के सुदूरवर्ती मुरूमदाग और बचकोमा में आधा दर्जन क्रशरों पर कार्रवाई की गयी. इस दौरान पांच क्रशरों को अवैध पाकर उसे जेसीबी लगाकर ध्वस्त कर दिया गया.

कार्रवाई में एक क्रशर छूटने पर उग्र हुए ग्रामीण

hosp3

मुरूमदाग में जिन पांच क्रशरों को तोड़ा गया, उनमें से एक क्रशर को तोड़े बिना टीम लौट रही थी. इसकी सूचना मिलने पर ग्रामीण आक्रोशित हो गए और घरों से लाठी-डंडा लेकर प्रशासनिक अधिकारियों का घेराव कर दिया. ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि प्रशासनिक अधिकारियों कार्रवाई करने में भेदभाव कर रही है. हालांकि बाद में अधिकारियों ने ग्रामीणों को आश्वस्त करते हुए बताया कि क्रशर को तोड़ने के लिए वे जेसीबी लेने गए थे. समझाने पर ग्रामीण शांत हुए. बाद में ग्रामीणों की उपस्थिति में क्रशर को तोड़ा गया.

जांच के बाद सभी स्तर के क्रशर होंगे बंद

अनुमंडलीय टास्क फोर्स के प्रभारी सह छतरपुर के अनुमंडल पदाधिकारी भोगेंद्र ठाकुर ने बताया कि उनके क्षेत्र में संचालित सभी स्तर के क्रशरों की जांच की जायेगी. जो भी क्रशर नियम संगत चलते नजर नहीं आयेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि छोटे-बड़े सभी स्तर के क्रशरों कार्रवाई के दायरे में आयेंगे. उन्होंने कहा कि मंदेया में संचालित क्रशरों के कागजातों की जांच की गयी है. कार्रवाई में अनुमंडलीय टास्क फोर्स के प्रभारी के अलावा जिला खनन पदाधिकारी मनोज टोप्पो, खनन इंस्पेक्टर सुनील मेहता, सीआइ जगत राम, हल्का कर्मचारी श्रीकांत दास शामिल थे.

पिछले साल भी तोड़े गए थे अवैध क्रशर 

ज्ञातव्य है कि छतरपुर अनुमंडल क्षेत्र में पिछले वर्ष भी दर्जनों क्रशरों को तोड़ा गया था. लेकिन जंगल और सुदूरवर्ती इलाके का फायदा उठाकर पत्थर माफिया एक बार फिर से अपने अवैध धंधे को खड़ा कर लिया है. आपराधिक और नक्सल छवि वाले लोग इन क्रशरों को चलाते हैं. जंगलों से पत्थरों को तोड़कर क्रशरों तक लाया जाता है. एक अनुमान के अनुसार अनुमंडल क्षेत्र में दो दर्जन से अधिक अवैध क्रशरों का धंधा फलफूल रहा है.

इनके क्रशर किए गए ध्वस्त

कार्रवाई में विमल सिंह, रमजान अंसारी (सद्दाम अंसारी-लव कुमार), संतोष यादव, अलीमुद्दीन अंसारी( राकेश प्रसाद) और अजय यादव के क्रशरों को जेसीबी लगाकर ध्वस्त कर दिया गया. सभी मुरूमदाग में अवैध रूप से क्रशर का धंधा पार्टनरशिप पर चल रहा था. क्रशरों पर अवैध रूप से स्थानीय वन भूमि से लाया गया 1700 घनफीट बोल्डर, 9400 घनफीट गिट्टी एवं चिप्स को जप्त किया गया. अभियान के बाद सभी अवैधकर्ताओं के विरूद्ध वन अधिनियम, पर्यावरण अधिनियम, कारखाना अधिनियम, खनन अधिनियम तथा भारतीय दंड संहिता के विभिन्न धारों के तहत प्राथमिकी दर्ज की जायेगी.

इनके क्रशर हुए सील

कार्रवाई के दौरान राजा स्टोन-नुसरत जहां, श्रेया स्टोन- रामाशिष सिंह, नाज स्टोन चिप्स- हारूण रसीद, अमन स्टोन-जहांगीर खां, विजय सिंह, राज स्टोन-शाहीन बानो, मुसर्रफ खान, शैलेन्द्र कुमार सिंह, इम्तियाज खान, शिव शंकर सिंह, नवखेत सरताज, नवसीन खान के क्रशर को सील किया गया.

क्या-क्या पाया गया

सभी क्रशर संचालकों द्वारा समीप की सरकारी भूमि से अवैध पत्थर खनन कर बिना चालान  के बेचा जा रहा था, जिससे खनन एवं सेल टैक्स के मद में भारी क्षति की गयी है. क्रशर संचालकों द्वारा कोई पंजी या चालान नहीं दिखाया गया. उनके द्वारा प्रदूषण नियमों का अनुपालन भी नहीं किया जा रहा था. इन सभी क्रशरों का एनओसी, सीटीओ एवं खनन अनुज्ञप्ति रद्द करने की अनुशंसा विभाग से की जायेगी. अवैध खनन एवं क्रशर संचालन के विरूद्ध कारवाई अभी जारी रहेगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: