GarhwaJharkhand

पलामू: गढ़वा बाइपास और NH 98 के निर्माण के लिए लगी फाइनेंसियल कमेटी की मुहर

विज्ञापन

Palamu: 20 वर्ष से लंबित गढ़वा-रेहला फोरलेन बाइपास और एनएच 98 के निर्माण के लिए फाइनेंसियल कमेटी की मुहर लग गयी. बुधवार को नयी दिल्ली में एसएफसी की बैठक हुई. बैठक में उपरोक्त दोनों प्रोजेक्ट पर फाइनेंसियल कमेटी ने अपनी मुहर लगा दी है. बैठक में पलामू के सांसद वीडी राम मुख्य रूप से उपस्थित थे.

16 सितंबर को सांसद ने लोकसभा में नियम 377 के अंतर्गत इस मामले को उठाते हुए सरकार से एसएफसी की मीटिंग कराने और प्रोजेक्ट के लिए धनराशि उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था. उसके बाद सांसद ने केंद्रीय परिवहन राज्य मंत्री जेनरल वीके सिंह से बात कर उन्हें विषय वस्तु से अवगत कराते हुए उनसे शीघ्र एसएफसी की मीटिंग कराने का अनुरोध किया था.

इसे भी पढ़ें –छठी जेपीएससी में सफल अभ्यर्थियों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, हाइकोर्ट ने दिया प्रतिवादी बनाने का निर्देश

advt

सासंद ने व्यक्त किया मंत्री का आभार

सांसद ने एसएफसी की मीटिंग में गढ़वा बाइपास और एनएच 98 दोनों प्रोजेक्ट के लिए धनराशि स्वीकृत होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सड़क परिवहन मंत्री नीतिन गडकरी एवं सड़क परिवहन राज्य मंत्री जेनरल वीके सिंह का आभार व्यक्त किया है.

प्रधानमंत्री मोदी जी और मंत्रीगण के आशीर्वाद से गढ़वा जिलावासियों की बहुप्रतीक्षित बीस साल पुरानी और एनएच 98 हरिहरगंज-पड़वा मोड़ सेक्शन 23.284 किमी से 57.241 तक फोरलेन बनाने की मांग पूरी हुई है.

यहां बता दें कि एनएचएआइ ने 14 जनवरी को ही बिड सबमिशन की तिथि निर्धारित की थी. लेकिन एसएफसी की मीटिंग नहीं होने के चलते तारीख को बार-बार आगे बढ़ाया जा रहा था. वर्तमान में बिड समर्पित करने की तारीख आगामी 7 अक्टूबर तक निर्धारित है.

दोनों प्रोजेक्ट में क्या था एसएफसी का रोल?

एसएफसी (स्टैंडिंग फाइनांस कमेटी) के प्रमुख सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के सचिव होते हैं. वित्त विभाग के सलाहकार नीति आयोग, व्यय विभाग और लीगल सेल से इसके सदस्य होते हैं. इस कमेटी ने गढ़वा-रेहला फोरलेन बाइपास और एनएच 98 के (हरिहरगंज-पड़वा मोड़ सेक्शन) का फोरलेन में परिवर्तन के लिए वांछित धनराशि की स्वीकृति प्रदान कर दी है.

adv

अब उपरोक्त दोनों प्रोजेक्ट्स के लिए बिडर्स का बिड ओपन किया जाएगा और निविदा की प्रक्रिया का पालन करते हुए कार्यादेश जारी किया जाएगा. इस प्रक्रिया में लगभग एक महीने का समय लगने का अनुमान है.

इसे भी पढ़ें – खलारी और पिपरवार में टीपीसी को लेवी दिये बगैर क्या कोयला का उठाव होगा संभव?

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button