न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Palamu: ‘देशद्रोहियों में #ABVP का खौफ, सीएए से वामपंथियों के पेट में हो रहा दर्द’

अभाविप का प्रांतीय अधिवेशन, निकली भव्य शोभायात्रा

693

Palamu: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के 20वें प्रान्तीय अधिवेशन में रविवार शाम शोभायात्रा निकाली गयी.

परिषद कार्यकर्ताओं की शोभायात्रा हुजूम अधिवेशन स्थल नीलाम्बर पीताम्बर नगर से हेड पोस्ट, ज़िला स्कूल चौक आढत रोड, कन्नीराम चौक, सत्तार सेठ, विष्णुमन्दिर, झण्डा चौक, थाना रोड, राजेंद्र प्रसाद चौक (छ मुहान), गणपति धर्मशाला, पंचमुहान चौक होते हुए जय भवानी संघ चौक पर पहुंचकर सभा में तब्दील हो गयी.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

यहां अभाविप के प्रदेश अध्यक्ष प्रो नाथू गाड़ी, प्रदेश मंत्री राजीव रंजन देव पाण्डेय, राष्ट्रीय मन्त्री विनीता कुमारी, पूर्व प्रदेश मंत्री रौशन सिंह, सह मंत्री सुरेंद्र गगराई, जनजातीय कार्य प्रमुख सोमनाथ जी, मोनू शुक्ला,रोमा तिर्की, श्याम बाबू, गोविंद मेहता, ने संयुक्त रूप से मंच पर उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : #RMC: कमीशनखोरी के लिए निकाला गया था रोड मार्किंग का टेंडर, शिकायत के बाद हुआ रद्द

देश में माहौल खराब करने की कोशिश

मौ

#Palamu: 'देशद्रोहियों में #ABVP का खौफ, सीएए से वामपंथियों के पेट में हो रहा दर्द'
शोभायात्रा में शामिल परिषद कार्यकर्ता.

के पर पूर्व प्रदेश मंत्री रोशन सिंह ने कहा कि आज देशद्रोहियों में एबीवीपी खौफ है. आज राष्ट्रहित के एक फैसले सीएए के देशभर में लागू होने से वामपंथी विद्रोहियों के पेट में दर्द हो रहा है. वे पूरे देश का माहौल खराब करने में लगे हैं. उन्हें एबीवीपी मुंहतोड़ जवाब दे रहा है.

उन्होंने कहा कि धारा 370 राम मंदिर जैसे देशभक्त के फैसले की भड़ास कुछ लोग नागरिक संशोधन कानून के नाम पर निकाल रहे हैं. दरअसल, यह लोग भारतीय नहीं दूसरे देशों से आए घुसपैठिए हैं. जो देश की संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं, क्योंकि देश का नौजवान कभी भी विद्रोह के नाम पर देश की संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचा सकता.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

ऐसे में जब देश का माहौल कुछ लोगों द्वारा खराब किया जा रहा है, एबीवीपी के कार्यकर्ताओं द्वारा जन जागरण करने की आवश्यकता है.

जनजातीय कार्य प्रमुख सोमनाथ भगत ने जनजातीय विचार संस्कृति पर अपनी बात रखी. कहा कि कहा कि हमारे जनजातीय समाज के जीवन यापन की कला वैदिक काल की है.

आज जनजाति समुदाय की संस्कृति छिन्न-भिन्न हो रही है, जिसे एबीवीपी सहेजने का कार्य कर रही है. उन्होंने जनजाति की एक प्रसिद्ध उक्ति दंडी नो पंडी रे का प्रयोग किया, जिसका अर्थ होता है. जनजाति का इतिहास किताबों में नहीं मिलेगा, इसे आप प्रत्यक्ष रूप से देख और महसूस कर सकते हैं.

Related Posts

#Giridih: गाड़ी खराब होने के बहाने घर में घुसे अपराधियों ने लूटे ढाई लाख कैश व 50 हजार के गहने

धनवार के कोडाडीह गांव की घटना, तीन दिन पहले ही गृहस्वामी ने बेची थी जेसीबी

उन्होंने कहा कि अंग्रेजों ने सर्वप्रथम जनजातियों में फूट डालकर राज्य करने का प्रयास किया. जिसका जनजाति समुदाय ने सफल विरोध किया. उन्होंने कहा कि जनजाति कभी आंदोलन नहीं करते वह विद्रोह करते हैं. हमें झारखंड के 32 जनजाति और 9 आदिम जनजातियों को बचाने की आवश्यकता है.

रोमा तिर्की ने अपने नागपुरिया अभिभाषण में महिला शिक्षा एवं ग्रामीण शिक्षा पर प्रकाश डाला.

खुला अधिवेशन का स्वागत भाषण स्वागत समिति के सह मंत्री श्याम बाबू ने कहा कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एकमात्र राष्ट्रवादी  छात्र संगठन है जो छात्रों के शिक्षा संबंधी समस्याओं के साथ-साथ राष्ट्रहित के समस्याओं को पुरजोर तरीके से उठाता है उनका समाधान करता है.

उन्होंने कहा कि किसी भी आंदोलन की अगुआई युवा करते हैं. स्वतंत्रता आंदोलन हुआ जिसमें खुदीराम बोस और भगत सिंह जैसे युवा क्रांतिकारियों ने भाग लिया और उनकी जो विचारधारा रही है वही विचारधारा अभाविप की विचारधारा है.

इसे भी पढ़ें : #Garhwa: अस्तबल नुमा हॉस्पिटल में टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन, प्रशासन ने छापामारी कर सील किया

माल्यार्पण कार्यक्रम चलाया गया

शोभा यात्रा के दौरान अंबेडकर पार्क स्थित बाबा भीमराव अंबेडकर , छःमहान चौक स्थित डॉ राजेंद्र प्रसाद एवं पंच मुहान स्थित झारखंड के गांधी के नाम से मशहूर स्वर्गीय पूरन चंद की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया.

इन इलाकों में हुआ स्वागत

शोभायात्रा का स्वागत 10 विभिन्न विभिन्न जगहों पर किया गया  जिसमें महिंद्रा आर्केड ,जिला स्कूल चौक ,आढ़त रोड, कनीराम चौक, विष्णु मंदिर झंडा चौक, थाना रोड, गणपति धर्मशाला , द अरविंद स्टोरर्स पंच मुहान आदि जगहों पर किया गया.

कार्यक्रम में ये रहे उपस्थित

#Palamu: 'देशद्रोहियों में #ABVP का खौफ, सीएए से वामपंथियों के पेट में हो रहा दर्द'
मंच पर मौजूद पदाधिकारी.

कार्यक्रम में मुख्य रूप से राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री के एन रघुनन्दन, श्रीनिवास, निखिल रंजन, यागवाल्क्य, रांची की मेयर आशा लकड़ा, श्याम नारायण दुबे, मनोज सिंह, रोहित पाठक, अमित तिवारी, सतीश तिवारी,प्रिंस पाण्डेय, गोविंद मेहता, ज्योति पाण्डेय, राहुल देव दुबे, मनीष तिवारी, राकेश सहित हज़ारों की संख्या में विद्यार्थी परिषद् के कार्यकर्ता उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : झारखंड में कितनी सुरक्षित हैं महिलाएं, हर तीसरे दिन हो रहा रेप और आपसी विवाद में हत्या  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like