JharkhandPalamu

पलामू: होम क्वारेंटाइन बेटे के अंतिम संस्कार के बाद पिता की मौत, 24 घंटे में दो मौत से गांव में हड़कंप  

Palamu :  जिले के लेस्लीगंज प्रखंड के कठौंधा गांव में पुत्र के दाह संस्कार कर लौटे पिता ने भी दम तोड़ दिया. 24 घंटे के भीतर एक ही परिवार के दो लोगों की मौत होने से गांव में हड़कंप है. हर कोई इस घटना से शोकाकुल है.

हालांकि अभी तक प्रशासनिक स्तर से पीड़ित परिवार को कोई सहायता नहीं दी गयी है. 24 घंटे के अंदर पिता-पुत्र की मौत के बाद जिला प्रशासन का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी गांव में नहीं पहुंचा है.

इसे भी पढ़ें – संताल में जल संकट दूर करने को मिशन मोड में पेयजल विभाग, सुस्ती दिखाने वाले ठेकेदार होंगे Blacklisted

सोमवार को हुई थी बेटे की मौत 

जानकारी के अनुसार, कठौंधा गांव में मंगलवार को एक 20 वर्षीय युवक की मौत हो गयी थी. कोरोना संक्रमण के कारण युवक होम क्वारेंटाइन में था. तमिलनाडू से 24 मई को मजदूरी कर लौटा था. उसकी क्वारेंटाइन अवधि पूरी हो गयी थी. इसी बीच उसे सर्दी-बुखार हुआ और कुछ देर में उसने दम तोड़ दिया. हालांकि युवक की कोविड रिर्पोट नेगेटिव आयी थी.

गांव में भय का माहौल

मंगलवार शाम ही बेटे का दाह संस्कार किया गया था. दाह संस्कार कर लौटे युवक के पिता ने भी बीती रात दम तोड़ दिया. इस घटना के बाद पूरा गांव भय और आशंका के बीच झूल रहा है. भय का आलम यह है कि जिस शख्स के घर में 24 घंटे के अंदर पिता और पुत्र दोनों की मौत हो गयी हो, उस घर की चौखट पर गांव वाले जाने से कतरा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – संजीवनी बिल्डकॉन केस: जेडी नंदी की दोनों पत्नियों की अग्रिम जमानत याचिका खारिज 

अधेड़ की रिपोर्ट आयी थी नेगेटिव

पलामू के सिविल सर्जन डा. जॉन एफ कनेडी ने बताया कि होम क्वारेंटाइन युवक की मौत के बाद उसके पिता सहित परिवार के अन्य सदस्यों का सैंपल लिया गया था. पिता की रिपोर्ट नेगेटिव आयी थी. संभावना व्यक्त की जा रही है कि जवान बेटे की मौत का गम पिता सहन नहीं कर सका और सदमे में उसकी भी जान चली गयी.

कई लोगों में ऐसे समय दुख सहने की शक्ति नहीं रह जाती. कभी-कभी वैसे लोगों की मौत हो जाती है. अधेड़ में किसी तरह के कोई रोग के लक्षण तक नहीं थे.

गांव में बनी है संशय की स्थिति

एक ही परिवार के दो सदस्यों की मौत के बाद गांव में मातम छाया हुआ है और सभी के बीच संशय की स्थिति बनी हुई है. लोगों के बीच एक सवाल अभी भी बना हुआ है कि एक ही परिवार के दो सदस्यों की मृत्यु महज एक संयोग है या जांच में कहीं चूक तो नहीं हुई.

मृतक के परिजनों को अभी तक कोई सरकारी सहायता नहीं पहुंचायी गयी है.  जबकि परिवार बहुत  गरीब है. परिजनों के अनुसार, किसी स्तर के जनप्रतिनिधियों ने भी अभी तक कोई सुध नहीं ली है.

इसे भी पढें – धनबाद: दुष्कर्म प्रयास मामले में बीजेपी विधायक ढुल्लू महतो की जमानत याचिका खारिज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button