JharkhandMain SliderPalamu

पलामू: फर्जी डाक्टर भेजा गया जेल, प्रशिक्षु आइएएस ने सात क्लिनिकों में की थी जांच

विज्ञापन

Palamu : पलामू मेडिकल कॉलेज अस्पताल से सटकर चल रहे निजी क्लिनिकों में छापामारी और सील करने के बाद इसकी जांच तेज कर दी गयी है. अभी तक की जांच में एक डाक्टर फर्जी पाया गया है. उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. चार अन्य के  कागजातों की जांच तेज है. अगर उनमें त्रुटि पायी जाती है तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी. सभी को पुलिस हिरासत में रखा गया है.

इसे भी पढ़ेंः बिहार सरकार के 980 श्रमिक संगठनों के निबंधन रद्द करने के मामले में हस्तक्षेप करे राज्य सरकार: ट्रेड यूनियन

विदित हो कि प्रशिक्षु आइएएस दिलीप प्रताप सिंह शेखावत ने सोमवार को पीएमसीएच के 500 मीटर से सटकर संचालित निजी क्लिनिकों पर छापामारी की थी. इस दौरान सात क्लिनिकों को सील करते हुए पांच संचालकों को हिरासत में लिया गया था. मौके से क्लिनिक संचालन और डाक्टरों के उनकी योग्यता के अनुसार प्रैक्टिस करने के कागजात जब्त किए गए थे.

advt

जांच के दौरान मंगलवार को एक फर्जी क्लिनिक का मामला प्रकाश में आया है. खुद को चर्म रोग विशेषज्ञ बताने वाला एसके अग्रवाल को शहर थाना की पुलिस ने गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. मेदिनीनगर सदर एसडीपीओ संदीप गुप्ता ने बताया कि एसके अग्रवाल खुद को चर्म रोग का चिकित्सक बताता था. हालांकि प्रमाण पत्रों की जांच हुई तो गलत पाई गई. इस आधार पर उसे जेल भेज दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : पलाश ब्रांड के उपयोग में हो जनभागीदारी, आत्मनिर्भर महिलाओं से झारखंड को मिलेगी नयी पहचानः हेमंत सोरेन

मालूम हो कि सरकारी अस्पताल के 500 मीटर के दायरे में निजी क्लिनिक संचालन पर रोक है. बावजूद पीएमसीएच के पांच सौ मीटर के दायरे में संचालित क्लिनिकों का संचालन हो रहा था. इसे बंद कराने के लिए कई बार प्रबंधन की ओर से नोटिस जारी की गई. बावजूद बदस्तूर इसका संचालन हो रहा था. अचानक हुई प्रशिक्षु आइएएस की कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है.

इसे भी पढ़ेंः सीरो सर्वे से खुलासा, अगस्त तक हर 15वां व्यक्ति था कोरोना संक्रमित, ICMR ने त्योहारी मौसम को लेकर चेताया

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button