न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : दिव्यांगों को प्रशिक्षण देने के लिए नहीं मिली ईवीएम-वीवीपैट मशीन

 परेशान दिव्यांग मौखिक जानकारी लेकर लौटे  

43

Palamu : मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए स्वीप के तहत पलामू जिला प्रशासन द्वारा कई कार्यक्रम चलाये गये हैं. लेकिन इसका असर केवल जिला मुख्यालय तक ही सीमित रह गया है. प्रखंड क्षेत्रों में जागरुकता कार्यक्रमों की कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है. नतीजा वोट प्रतिशत बढ़ाने की तमाम कसरत कोरा साबित हो रही है.

इसे भी पढ़ें :डबल इंजन वाली सरकार के विकास की कहानी, न सड़क-न स्कूल-न पीने का पानी

दिव्यांगों को दी गयी मशीन की जगह मौखिक जानकारी    

hosp3
परेशान दिव्यांग

दिव्यांग वोटरों को मतदान के प्रति जागरुक करने के लिए जिले में 21 अप्रैल तक प्रखंड स्तर पर ईवीएम, वीवीपैट संबंधित प्रशिक्षण तथा मोबलाइजेशन इवेंट करना है.

सोमवार को जिले के सतबरवा में प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया, लेकिन मशीनों के अभाव में दिव्यांगों को मौखिक जानकारी देकर प्रशिक्षक कार्यक्रम का कोरम पूरा कर दिया गया.

इसे भी पढ़ें :कांग्रेस प्रत्याशी कीर्ति आजाद बेरमो पहुंचे, पूर्व मंत्री राजेंद्र सिंह से लिया आशीर्वाद

गर्मी से बेहाल दिखे दिव्यांग

प्रशिक्षण पाने के लिए किसी के सहारे से लाठी ठेगते और घिसटते कई दिव्यांगों प्रखंड कार्यालय पहुंचे थे. लेकिन काफी देर तक ईवीएम, वीवीपैट का इंतजार करते रहे. लंबे समय तक इंतजार करने के बाद भी जब मशीनें नहीं आयी तो दिव्यांगों को मौखिक प्रशिक्षण दिया गया. दिव्यांग कड़ी धूप और लू में बेहाल देखे गये. मशीनें नहीं मिलने से अधिकारी और कर्मी भी चितिंत दिखे.

इसे भी पढ़ें चतरा में बीजेपी के बागी नेता ही ना डुबा दें सुनील सिंह की नैया

निर्वाचन कार्यालय को करानी थी ईवीएम और वीवीपैट की व्यवस्था

बताया गया कि निर्वाचन आयोग के आदेश पर जिला निर्वाचन से ईवीएम और वीवीपेट मशीन उपलब्ध कराने का आदेश है. बीडीओ के साथ बीपीआरओ ने जिला से मशीन उपलब्ध कराने की काफी कोशिश की, लेकिन उनका प्रयास सार्थक नहीं हो सका.

हालांकि मशीनें नहीं आने पर समाज कल्याण विभाग की सीडीपीओ नीता चौहान मौखिक वोटिंग करने के गुर दिव्यांग मतदाताओं को सिखायी. साथ में जनसेवक पंकज कुमार और अरविंद कुमार भी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें :बाईपी गांव का तीन महीने का अनाज गायब, कहां गया कोई बताने को तैयार नही

भूख-प्यास से बढ़ गयी कई वृद्ध दिव्यांगों की परेशानी

दुलसुलमा की दिव्यांग फुलवा कुंवर (70) ने कहा कि लू और तेज धूप से हालत खराब है. किसी के सहारे लाठी ठेगते पांच किमी की दूरी तय करके यहां पहुंचे थे. भूख और प्यास के चलते बैचेनी बढ़ गयी थी.

यहां आने पर पता चला कि मशीन नहीं आयी है. मौखिक जानकारी से उन्हें कुछ पता नहीं चला. बीपीआरओ युगलकिशोर मेहता ने बताया कि ईवीएम और वीवीपेट नहीं मिल सका है. दिव्यांगों का प्रशिक्षण आगामी 21 तक चलेगा.

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या पुनः प्रशिक्षण पाने के लिए दिव्यांग इस भीषण गर्मी में प्रखंड कार्यालय पहुंचेंगे. गर्मी और लू से वातावरण जिस तरह माहौल खराब हुआ है, उससे उम्मीद कम नजर आती है.

इसे भी पढ़ें बड़ी पार्टियों के ये उम्मीदवार खुद को ही नहीं करेंगे वोट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: