न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: मेदिनीनगर में जहां-तहां डंप होता है कचरा, आग लगाये जाने से बढ़ रहा है प्रदूषण

987

Dilip Kumar

Palamu: पलामू के मेदिनीनगर नगर निगम क्षेत्र में ऐसे तो जगह-जगह कचरे का अंबार लगा हुआ है. लेकिन शहर से निकलने वाले कचरे को जहां-तहां डंप किए जाने से साफ सुथरी जगहों पर भी गंदगी का अंबार लग गया है.

Sport House

मुख्य सड़क किनारे कचरा गिराकर जला दिए जाने से कई पेड़ नष्ट होने के कगार पर पहुंच गए हैं. ऊपर से शहर की प्रतिष्ठा पर बट्टा लग रहा है, सो अलग.

यह तब हो रहा है जब पूरे देश में प्रदूषण पर नियंत्रण पाने और स्वच्छता को अपनाने के लिए सभी को प्रेरित किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः3.5 करोड़ रूपये की फर्जी निकासी करने वाले इंजीनियर JBVNL में स्वतंत्र, कुछ तो प्रमोशन से बने अधिकारी

Mayfair 2-1-2020

मुख्य सड़क से सटकर डंप होता है कचरा

शहर के विभिन्न हिस्सों से सूखा कचरा इक्ट्ठा करने के बाद सद्वीक चौक और कोयल पुल के बीच गिरिवर स्कूल के पीछे गड्ढे में डंप किया जा रहा है. यहां हर दिन कचरा गिराया जाता है.

मुख्य सड़क के किनारे डंप किया गया कचरा

जिस जगह पर कचरा डंप होता है, वह मुख्य सड़क से एकदम सटा हुआ है. गंदगी का हमेशा अंबार लगा रहता है और उससे भयंकर दुर्गंध और धुंआ उठते रहता है. इसके पास में खड़ा रहना मुश्किल हो जाता है.

दिन भर जलता है कचरा

डंप किए गए कचरे में आग लगा दी जाती है. यहां कचरा दिन भर जलते रहता है. प्लास्टिक के जलने से विषैला धुंआ निकलता है. जिस जगह पर कचरे को जलाया जा रहा है, उससे सटा टैक्सी स्टैंड हैं.

दूर-दराज के इलाकों के यात्रियों का यहां दिन भर आना-जाना लगा रहता है.  बावजूद इसके यात्रियों की सेहत की परवाह न कर उनके जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है. कचरा जलाएं जाने का सिलसिला लंबे समय से चला आ रहा है, लेकिन नगर निगम को इसकी थोड़ी भी फिक्र नहीं है.

कई पेड़ आ गए हैं चपेट में

जिस जगह पर कचरा डंप किया जाता है, उसकी परिधि में आधा दर्जन हरे पेड़ हैं. कचरा जलाये जाने से कई पेड़ इसकी चपेट में हमेशा रहते हैं. आग से एक-दो पेड़ तो बुरी तरह झुलस गए हैं और नष्ट होने के कगार पर पहुंच गए हैं.

हरे पेड़ों के नष्ट होने पर कई तरह के बुरे प्रभाव देखने को मिल सकते हैं. छायादार ये पेड़ अगर नष्ट हो गए तो गर्मी के दिनों में यात्री और राहगीर को थोड़ी राहत के लिए भी तरसना पड़ जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः#CitizenshipAmendmentBill2019: एक कश्मीर संभल नहीं रही, सात नए कश्मीर बनाने जा रहे!

प्रदूषण फैलाने और पेड़ों को नष्ट करने पर तुला है नगर निगम

लंबे समय से इस इलाके में कचरा डंप किए जाने के मामले को लेकर नगर निगम जानबूझकर अंजान बना हुआ है. शहर के मुख्य द्वार पर गंदगी का अंबार लगने और उसमें आग लगाये जाने से शहर की प्रतिष्ठा पर प्रश्न चिन्ह लग रहा है.

ऐसे तो निगम प्रशासन शहर को साफ सुथरा और व्यवस्थित रखने के लिए हमेशा दंभ भरता है, लेकिन एक ही स्थान पर लगातार कचरा गिराये जाने से कथित दावे की पोल खुलती नजर आती है.

पूरे विश्व में प्रदूषण की मार, मेदिनीनगर बेखबर

यहां यह भी जानना जरूरी है कि पूरा विश्व आज प्रदूषण की मार झेल रहा है और पेड़ लगाने के लिए लोगों को प्रेरित किया जा रहा है, लेकिन मेदिनीनगर का नगर निगम प्रदूषण फैलाने के साथ-साथ पेड़ों को नष्ट करने पर तुला हुआ है. मेदिनीनगर में जिस तरह से ढील दी जा रही है, उससे प्रतीत होता है कि यह शहर विश्व के मानचित्र के बाहर है.

इसे भी पढ़ेंः#Ranchi: चुनाव ड्यूटी पर तैनात छत्तीसगढ़ जवान ने पहले कमांडर फिर खुद को मारी गोली, दोनों की मौत

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like