JharkhandPalamu

पलामू : मेदिनीनगर नगर निगम की योजनाओं में गड़बड़ी, भुगतान पर मेयर ने लगायी रोक

Palamu : मेयर अरूणा शंकर, डिप्टी मेयर मंगल सिंह ने बुधवार को कार्यपालक अभियंता, कनीय अभियंता एवं निगम की पूरी टीम के साथ कई योजनाओं का निरीक्षण किया. मुख्य रूप से पंपू कल के पास बन रहे नाला एवं एसडीओ आवास से होकर गुजरी सड़क निर्माण की जांच की गयी. दोनों जगह भारी गड़बड़ी पायी गयी. नाला निर्माण में जहां घटिया मेटेरियल का इस्तेमाल पाया गया, वहीं एसडीओ आवास सड़क निर्माण के बाद उखड़ी नजर आयी.

मौके पर महापौर ने कहा उन्हें कई दिनों से शिकायतें मिल रही थी, जिसे उन्होंने स्वयं पूरी टीम के साथ जांच करने का निर्णय लिया. कई गड़बड़ियां पाई. पंपू कल के पास नाला निर्माण में घटिया मेटेरियल और छड़ लगाने की गड़बड़ी पाई, जिस पर कनीय अभियंता को जहां नाला खराब बना है, उसे पुनः निर्माण कराने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें:Jac Matric-Inter Exam 2022 : होम सेंटर पर परीक्षा लेने की अटकलों के बीच पूर्वी सिंहभूम में बनाये गये 74 सेंटर 

महापौर ने एसडीओ आवास सड़क की भी जांच की और संवेदक को पूरा रोड पुनः बनाने का निर्देश दिया. संवेदक ने जल्द पुनः सड़क बनाकर देने की बात स्वीकार की. इसी तरह महापौर ने एसभीडी स्कूल मार्ग, सदर वार्ड भवन एवं कई योजनाओं का निरीक्षण किया.

महापौर ने सभी संवेदक को चेतावनी दी है कि जो भी संवेदन क्वालिटी से कंप्रोमाइज करेंगे उनका भुगतान रोक दिया जायेगा और ब्लैक लिस्ट भी किया जायेगा.

महापौर ने निरीक्षण में पाई गयी गड़बड़ी वाली सभी योजनाओं का भुगतान रोकने का भी निर्देश दिया. महापौर ने यह भी कहा कि काफी भवन निगम के बनकर खाली पड़े हैं जिसे जल्द उपयोग में लाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें:मनरेगा: शिकायतों के निष्पादन के लिए तीन अपीलीय प्राधिकरण की होगी नियुक्ति

सड़क आवास सड़क को लेकर वार्ड 13 के पार्षद ने की थी शिकायत

वार्ड 13 के पार्षद धीरेन्द्र कुमार पांडे ने गत आठ जनवरी 2022 को नगर आयुक्त को आवेदन देकर एसडीओ आवास सड़क निर्माण में अनियमितता की शिकायत की थी. पार्षद ने कहा था कि डॉ. अभय कुमार (एडीबी बैंक) की क्लिनिक से डा. अरूण शुक्ला के अस्पताल होते हुए एसडीओ बंगला से साहित्य समाज चौक तक सड़क में कालीकरण गलत एवं घटिया तरीके से हुआ है.

निर्माण के दिन से ही सड़क उजड़ने लगी और पूरा होते-होते पूरी तरह उखड़ गयी. पार्षद ने स्थल निरीक्षण करने और पुनः निर्माण के पश्चात संवेदक को भुगतान का आग्रह किया था.

इसे भी पढ़ें:सदन में झारखंड : शिक्षा पूरी तरह से राज्य का विषय, स्कूलों में फीस नियंत्रण कर सकती है राज्य सरकार

Related Articles

Back to top button