न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू – बंगाल के जलपाइगुडी से लूट के 37 लाख व बिहार के कटिहार से 12 लाख 50 हजार बरामद

473

बैंक से निकाले गये 54 लाख की लूट का हुआ उदभेदन 

कुख्यात झपट्टामार कोड़ा गिरोह का सीधा हाथ
Ranchi : पलामू जिला मुख्याल डालटनगंज के महिन्द्रा आर्केड स्थित आइसीआइसीआइ बैंक से 54 लाख रुपया निकाल कर एटीएम में भरने जा रहे सीएमएस कंपनी के गार्ड और कस्टोडियन से पलसर बाईक सवार अपराधियों द्वारा लूट के घटना के मात्र 15 दिन बाद पलामू पुलिस ने कुख्यात अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का भंडा फोड़ कर दिया है. पुलिस ने उनके ठिकानों से 47 लाख 50 हजार रूपया बरामद कर लिया है. बाकी राशि और अपराधियों की धर पकड़ हेतु पुलिस अभियान जारी है.

पलामू प्रक्षेत्र के डीआईजी पुलिस, विपुल शुक्ला ने कर्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में बताया कि पलामू के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा के नेतृत्व में उनकी जांबाज टीम ने इस लूट की वारदात को एक चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुए एक विशेष अभियान चलाया और पलामू पुलिस के नाम  सफलता का एक और अध्याय जोड़ दिया है.

डीआईजी श्री शुक्ला ने बताया कि एसपी ने यहां घटना स्थल के पास स्थित प्रतिष्ठानों में लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पाया कि कस्टोडियन रौशन लाल और सुरक्षा गार्ड ने नियमों की अनदेखी कर बैंक से रुपये की निकासी की. गार्ड बिना पौशाक और बगैर बंदूक का था. सीसीटीवी फुटेज में तीन अपराधियों को चिन्हित किया गया तथा अखबारों में उनके फोटोग्राफ प्रकाशित किए गए. साथ ही सूचना देने वाले को एक लाख रुपये पुरस्कार देने की घोषणा की गई. प्रेसवार्ता में उपस्थित पलामू के एसपी श्री माहथा ने बताया कि इतना तय पाया गया कि अपराधी स्थानीय नहीं हैं क्योंकि उनके मुंह ढके हुए नहीं थे. उन्होंने बताया कि अखबारों में फोटोग्राफ प्रकाशन के तुरंत बाद यानि घटना के तीसरे दिन 18 जून को डीएसपी (मुख्यालय) द्वितीय प्रेमनाथ को इन अपराधियों के बारे में जानकारी प्राप्त हुई तो तत्काल पुलिस के इस आपरेशन के लिए तीन टीमों का गठन किया गया और अलग-अलग स्थानों पर भेजा गया. डीएसपी (परीक्ष्यमान) चन्द्रशेखर आजाद और मेदिनीनगर शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर तरूण कुमार के नेतृत्व में एक टीम उत्तरप्रदेश के मुरादाबाद सड़क मार्ग से जा पहुंची. वहां मुरादाबाद के पुलिस अधीक्षक ने इस जानकारी की पुष्टि की कि इसी प्रकार की घटना को यहां पर कुछ दिन पूर्व 220 पलसर (कालारंग) पर सवार दो अपराधियों ने अंजाम दिया था. अपराधियों ने सिविल लाइंस थाना अंतर्गत एक्सिस बैंक से एटीएम के लिए ले जा रहे 33 लाख रुपये को झपट्टामार कर लूट लिया था. यह पाया गया कि पलामू की घटना और मुरादाबाद की घटना एक ही तर्ज पर की गई. कुछ नये सुराग हाथ लगने पर डीएसपी प्रेमनाथ  के नेतृत्व में एक टीम जलपाईगुड़ी (पं. बंगाल) तथा कटिहार के लिए भेजी गई. इस टीम में लेस्लीगंज के थाना प्रभारी राणा जंग बहादुर, पुलिस निरीक्षक संजीव तिवारी आदि शामिल थे. इस टीम ने वहां की पुलिस के सहयोग से न्यू जलपाई गुड़ी के राजगंज थानातर्गत फाटापुकुर और कटिहार के कोढ़ा थाना के नया टोला जुराबगंज में चिन्हित अपराधियों के घरों में छापामारी की. इस छापामारी में फाटापुकुर (न्यू जलपाई गुड़ी) के अपराधी बिरेन ग्वाला के घर से 17 लाख 90 हजार जबकि बिजेन्द्र ग्वाला के घर से 17 लाख 10 हजार रूपया बरामद किया. इस प्रकार कुल 35 लाख रूपये की राशि इन दोनों अपराधियों के घरों से बरामद हुई. हालांकि अपराधी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सके. इसी क्रम में पुलिस टीम ने कटिहार (बिहार) जिले के कोढ़ा थाना अंतर्गत जुराबगंज में छापामारी कर तीसरे अपराधी बिरू यादव के घर से 12 लाख 50 हजार रूपये बरामद किए. यह अपराधी भी घर पर नहीं मिला और फरार हो गया.

इसे भी पढ़ें- हूल दिवस विशेषः आज भी आदिवासियों में मौजूद है संताल हूल की चिंगारी

अपराधियों ने बैंक की लापरवाही का भरपूर फायदा उठाया

डीआईजी श्री शुक्ला ने प्रेस को बताया कि इस लूट कांड में प्रयुक्त 220 पल्सर बाईक को गढ़वा जिले के शहर थानांतर्गत आनंद महतो के घर से बरामद किया गया. उस घर में कमरा किराए पर लेकर तीनों अपराधी 15 दिनों के लिए रहे थे. जांच के क्रम में यह भी ज्ञात हुआ कि पल्सर मोटर बाईक चोरी की है. यह बाईक उत्तरप्रेदश के देवाचक के लार रोड निवासी शंभु शरण सिंह की है जो अपराधियों द्वारा चोरी गई थी. इस बाबत गुलरिहा (गोरखपुर) में कांड संख्या 427 दिनांक 24.08.17 दर्ज है.

उन्होंने बताया कि अपराधी गढ़वा से मोटर बाईक पर मेदिनीनगर आया-जाया करते थे और बैंक की रेकी कर रहे थे. अपराधियों ने बैंक की लापरवाही का भरपूर फायदा उठाया. बैंकों को अपनी कार्यशैली में सुधार करना चाहिए. उन्होंने बताया कि इस पूरे आपरेशन में नावाबाजार के थानाप्रभारी अरबिंद कुमार सिंह, चैनपुर थानाप्रभारी व्यास राम, सदर थाना प्रभारी ममता कुमारी, सदर थाना के स.अ.नि सुधीर कुमार, तरहसी थाना के स.अ.नि शंकर दंडपाल के अलावा  आरक्षी 577 कामेश्वर ठाकुर, 2012 नंदलाल पटेल, 148 संजय कुमार सिंह, 49 विजय कुमार रजक, 450 संजीव साव, 1961 सतेन्द्र कुमार यादव, 464 ललन प्रसाद यादव, चा. आरक्षी 550 नंदलाल प्रसाद के साथ पुलिस अधीक्षक की तकनीकी शाखा के सदस्य शामिल थे.

डीआईजी ने पत्रकारों के समक्ष टीम के सभी सदस्यों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया. डीआईजी श्री शुक्ला ने एसपी श्री माहथा और डीएसपी (परीक्ष्यमान) चन्द्रशेखर आजाद की जमकर सराहना करते हुए कहा कि इन्होंने एक ब्लाईंड केसका उद्भेदन कर एक उदाहरण पेश किया है. एसपी के नेतृत्व में यह अत्यंत सफल अभियान चला और एक अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश किया गया. शीघ्र ही हमारे उत्साही अधिकारी लूट की शेष रकम और अपराधियों को जनता के समक्ष पेश करेंगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: