Fashion/Film/T.VJharkhandLead NewsPalamu

पलामू : स्थानीय कलाकारों से सजी और अपराध के खिलाफ जागरूक करने वाली फिल्म है ‘डिफरेंट’

Palamu: ओटीटी प्लेटफार्म तक पहुंची पलामू जिले की पहली फिल्म ‘डिफरेंट’ समाजिक कुरीतियों के खिलाफ और एक्शन एवं रोमांस से भरी हुई है. फिल्म के माध्यम से समाज में फैल रही नाकारात्मक पहलुओं को बड़े ही संजीदगी के साथ दिखाया गया है. साथ ही फिल्म के माध्यम से अपराध की आड़ में हो रही हिंसक घटनाओं को मॉबलिचिंग का नाम देकर कैसे अपराधी अपने को बचाते हुए गैरकानूनी कार्य करते हैं, उसे दिखाने की कोशिश और बदलाव का प्रयास किया गया है.

इसे भी पढ़ें : सख्ती : रांची में ग्लव्स व मास्क पहने बिना खाने-पीने का सामान बेचा तो देना पड़ेगा जुर्माना

भूमिका फिल्मस के बैनर तले बनी इस फिल्म में मेलोडी नाटय ग्रुप के कलाकार शामिल हैं. फिल्म ओटीटी प्लेटफार्म पर एक माह पूर्व ही रिलीज हो चुकी है. एमएक्स प्लेयर पर यह फिल्म पूरी तरह से फ्री है. इसके अलावा सात से आठ डिजिटल प्लेटफार्म पर इस फिल्म को रिलीज किया गया है. फिल्म के डायरेक्टर से लेकर नायक और खलनायक सभी पलामू जिले के रहने वाले हैं.

advt

इसे भी पढ़ें : Breaking : यौन शोषण के आरोपी पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के राजनीतिक सलाहकार सुनील तिवारी गिरफ्तार

फिल्म के डायरेक्टर पुलिन मित्रा ने बताया कि इस फिल्म की शूटिंग गढ़वा, पलामू के अलावा बंगाल, छतीसगढ़ में की गयी है. फिल्म की समसमायिक घटनाओँ को बहुत अच्छे ढंग से फिल्माया गया है, जैसे की फिल्म की शीर्षक डिफरेंट है, वैसे ही फिल्म की कहानी भी अलग है. फिल्म के अंदर एक आम आदमी के फंसने के बाद उसका अंजाम क्या होता है? इसकी सुंदर प्रस्तुति दी गयी है. अभिनेता कमल रंजीत, मनोज पंडित, उमाशंकर मिश्रा, अब्दुल हमीद, प्रसिद्ध राम ने कमाल का अभिनय किया है. अभिनेत्री ऋद्धि सिंह, अभिषित्त डे, टुकटुक घोष, राखी सोनी, शर्मिला सुम्मी, अमर आनंद सहित अन्य कलाकारों का अभिनय सराहनीय है. इस फिल्म में बसंत कुमार और राजा सिन्हा ने संगीत दिया है. एडिटिंग अवनीश पाठक और चांद वारिश ने किया है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड के मेडिकल कॉलेज से MBBS करने पर तीन साल की सेवा अनिवार्य

क्या है फिल्म की कहानी

इस फिल्म में दो युवाओं की प्रेम कथा है और यह प्रेम कथा अंतरधर्मी है. दो मजहब के लोग आपस में मिलते हैं और उनमें प्रेम हो जाता है. इस प्रेम को समाज द्वारा या इसके मजहब द्वारा स्वीकृति नहीं दी जाती है. इसमें उस व्यक्ति की हत्या भी हो जाती है, लेकिन दूसरी तरफ यह भी है कि कुछ गुंडे जो गलत काम करते रहते हैं, वहीं इस हत्या को अंजाम देते हैं. फिल्म के अंत में गुंडे पकड़े जाते हैं और उन्हें कानूनन सजा दिलायी जाती है. हालांकि समाजिक जागरूकता के उद्देश्य से बनी इस फिल्म को देखने के लिए दर्शकों को अपने मोबाइल में एमएक्स प्लेयर खोलना होगा. पूरी फिल्म देखने के बाद ही इसके रोमांच को बेहतर ढंग से महसूस किया जा सकता है.

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: