न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : अंधविश्वास में दंपति की हत्या, 24 घंटे बाद मिली लाश,  तीन गिरफ्तार

737

Palamu : अंधविश्वास को लेकर चलाए जा रहे तमाम जागरूकता कार्यक्रम के बावजूद हिंसक घटनाएं रूकने का नाम नहीं ले रही हैं. कथित डायन-ओझा होने के आरोप में एक दूसरे का खून बहाने से लोग पीछे नहीं हट रहे हैं. पलामू जिले के मनातू थाना क्षेत्र अंतर्गत नक्सल प्रभावित सरगुजा गांव के बहेराटोला में एक दंपति की ओझा-गुणी होने का आरोप लगाकर हत्या कर दी गयी. दोनों का शव घटना के 24 घंटे बाद बरामद किया गया है. दंपति की पहचान बहेराटोला निवासी इन्द्रदेव उरांव (65) एवं उसकी पत्नी सुकनी देवी (62) के रूप में हुई है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- रिम्स का ट्रॉमा सेंटर तीन माह में होगा शुरू, 100 बेड का होगा ट्रामा सेंटर

अगवा कर मार डाला गया

इन्द्रदेव के पुत्र शिव उरांव ने बताया कि शुक्रवार को गांव के ही प्रेम उरांव, पंकज उरांव, कैला उरांव, राजेन्द्र उरांव के अलावा पांच-छह लोग उसके घर पहुंचे और उसके माता-पिता को यह कहकर जबरन उठा ले गए कि दोनों ओझा-गुणी है. उनके जादूटोना से उनके परिवार की हालत खराब हो गयी है. जाते वक्त यह भी कहा था कि दोनों की हत्या कर दी जायेगा.

इसे भी पढ़ें- भारतीय संस्कृति और कानून को समझने गिरिडीह पहुंचे चीनी युवा

शनिवार को दर्ज हुआ मामला

अगवा किए जाने की घटना के अगले दिन शनिवार को शिव उरांव ने मामले में प्राथमिकी दर्ज करायी. मामला संज्ञान में आने के बाद पुलिसिया कार्रवाई तेज हुई और घटना में शामिल तीन आरोपियों प्रेम उरांव, पंकज और कैला को गिरफ्तार किया गया. पुलिसिया दबिश देकर जब सभी से पूछताछ की गयी तो एक-एक कर सारे राज सामने आ गये. बाद में उनकी निशानदेही पर सर्च अभियान चलाया गया तो गांव से 10 किलोमीटर दूर इटवाही जंगल से इन्द्रदेव और उसकी पत्नी का शव बरामद किया गया.

इसे भी पढ़ें-जेवीएम के 6 में से दो को मंत्री पद और तीन को बोर्ड-निगम में जगह, बीजेपी के 32 विधायक नकारा थे क्या – जेवीएम

पत्थर में दबा हुआ था शव

पाटन के अंचल पुलिस निरीक्षक ने जानकारी दी कि शवों को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल में भेज दिया गया है. आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद उनसे पूछताछ के बाद जेल भेजने की प्रक्रिया पूरी की जा रही है. अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी तेज की गयी है. उन्होंने कहा कि अंधविश्वास में इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया है. गांव के लोग ओझा-गुणी प्रकोप से आजादी के इतने वर्षों बाद भी निकल नहीं पाए हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: