JharkhandPalamu

#Palamu: अपराधी सरगना सुजीत सिन्हा और प्रदीप तिवारी हत्या के मामले में दोषी करार

विज्ञापन

Palamu: पलामू जिला व्यवहार न्यायालय की निचली अदालत ने कुख्यात अपराधी सरगना सुजीत सिन्हा और प्रदीप तिवारी को हत्या के मामले में दोषी करार दिया है.

सप्तम जिला एवं सत्र न्यायाधीश संतोष कुमार की अदालत ने सत्र वाद संख्या 365/2016 में सुजीत सिन्हा व प्रदीप तिवारी को भा.द.वि. की धारा 302 में दोषी पाया है.

14 फरवरी को दोनों को सजा सुनायी जायेगी. सुनवाई के बाद अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा है.

advt

विदित हो कि गत 27 मई 2016 की रात्रि 8 बजे के लगभग मेदिनीनगर के अबादगंज में पांच अपराधकर्मियों ने एक मोटरसाइकिल व एक स्कूटी से आकर जय कुमार सिंह उर्फ ननकू सिंह को रोककर गोली मारकर हत्या कर दी थी.

विशाल गिरि ननकू के साथ था, वह भी इस घटना में जख्मी हुआ था. घटना का चश्मदीद गवाह मृतक का भाई अजय कुमार सिंह, विशाल गिरि व लव सिंह ने आरोपों को न्यायालय में प्रमाणित किया.

यह मुकदमा अजय कुमार सिंह के फर्द बयान पर शहर थाना में कांड संख्या 127/2016 दर्ज किया गया था. पुलिस ने प्राथमिकी के दो अभियुक्त सुजीत सिन्हा और प्रदीप तिवारी व दो अप्राथमिकी अभियुक्त अभिषेक दुबे उर्फ छोटू दुबे तथा अमित दुबे व राजमल दुबे के विरुद्ध आरोप पत्र समर्पित किया था.

विचारण के पश्चात अप्राथमिकी अभियुक्त के विरुद्ध आरोप सिद्ध नहीं हुआ. इसलिए इसके अप्राथमिकी अभियुक्त बरी कर दिये गये.

adv

वहीं मामले में आरोप सिद्ध होने पर सुजीत सिन्हा व प्रदीप तिवारी को भादवि की धारा 302 में दोषी करार दिया है. सजा के बिंदु पर सुनवाई 14 फरवरी को होगी.

इसे भी पढ़ें : राज्य में पदस्थापित IPS को प्रमोशन देने में हो रही देरी, अब पारा मिलिट्री फोर्स से अफसर लाने की तैयारी

छह गोलियां लगी थीं नन्हकू को

नन्हकू सिंह को 7.65 बोर की छह गोलियां लगी थी. तीन शरीर के आर-पार हो गयी थीं, जबकि तीन पोस्टमॉर्टम के समय निकली थीं.

घटनास्थल पर भी चार खाली खोखे बरामद किये गये थे. वहीं विशाल गिरि को एक भी गोली नहीं लगी थी. वह मोटरसाइकिल गिरने के कारण घायल हुआ था.

इसे भी पढ़ें : चंदनकियारी में एथलेटिक्स सेंटर था ही नहीं, फिर भी बिछाया जाने लगा इंटरनेशनल सिंथेटिक ट्रैक

अंतराज्यीय अपराधी है प्रदीप तिवारी

प्रदीप उर्फ महाकाल के खिलाफ डब्लू सिंह गिरोह के आनंद दुबे, नन्हकू सिंह और संतोष दुबे हत्याकांड में आरोपी है.

इसके अलावा बिहार के भभुआ जिले में एक शिक्षक और उसके साथी को जान से मारने सहित देवघर और रांची के थाने में कई मामले दर्ज हैं.

नन्हकू सिंह हत्याकांड के बाद पुलिस के समक्ष प्रदीप तिवारी ने यह भी बताया है कि अगला टारगेट डब्लू सिंह गिरोह का लव सिंह था.

महाकाल ने पुलिस के समक्ष कहा था कि अगर पुलिस उसे नहीं गिरफ्तार करती तो वह लव सिंह को भी जल्द मार देता.

इसे भी पढ़ें : #ASER : पहली कक्षा के 41.1% और तीसरी के 72.2% प्रतिशत छात्र ही पहचान पाते हैं दो अंकीय संख्या

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button