JharkhandPalamu

#Palamu: जलापूर्ति केंद्र में ठेकेदार ने जड़ रखा है ताला, विभाग बना लाचार

Dilip Kumar

Palamu: पलामू जिले में विभागीय लापरवाही का बड़ा नमूना सामने आया है. ठेकेदार ने एक जलापूर्ति केंद्र पर ताला जड़ कर उसे ठप करा दिया है.

सब कुछ जानकार भी विभागीय अधिकारी मौन साधे हुए हैं और लाचार बने हुए हैं. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि विभागों का योजनाओं के प्रति किस तरह का रवैया रहता होगा.

डेढ़ माह से पानी की सप्लाई बंद, लोग कर रहे त्राहि-त्राहि

मेदिनीनगर नगर निगम क्षेत्र के बारालोटा में जलापूर्ति बंद है. पिछले डेढ़ माह से इस योजना को इसे बनानेवाले ठेकेदार ने बंधक बना रखा है. इस कारण चियांकी, रेड़मा, दो नम्बर टाउन, बारालोटा, बड़कागांव, खनवा, पोखराहा आदि इलाकों में पेयजलापूर्ति नहीं हो पा रही है. इतने के बावजूद पीएचईडी लाचार और बेचारा बना हुआ है.

इसे भी पढ़ें – #BJP प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में हैं दीपक प्रकाश, अनंत ओझा, रवींद्र राय और भी हैं कुछ नाम, जानें… 

योजना पूरी, लेकिन ठेकेदार को भुगतान नहीं

बताया जाता है कि विभाग ने इस योजना का निर्माण तो करा लिया, लेकिन संबंधित ठेकेदार को अब तक भुगतान नहीं किया गया है. इसी आक्रोश में ठेकेदार ने ताला जड़ दिया. नतीजा यह हुआ कि विभाग और ठेकेदार के बीच के विवाद में आम नागरिक पिसने को मजबूर हैं.

योजना के ठेकेदार का बंधक बन जाने के कारण संबंधित क्षेत्रों की बड़ी आबादी पानी-पानी के लिए मोहताज है. पलामू जिले में गर्मी ने दस्तक देनी शुरू कर दी है और इसी के साथ पानी के लिए कोहराम भी मचने लगा है.

योजना का क्या है स्वरूप?

बारालोटा जलापूर्ति योजना के तहत कोयल नदी के पानी को भुसही इंटकवेल से होते हुए चियांकी पहाड़ पर अवस्थित टंकी तक ले जाने की व्यवस्था की गयी है. चियांकी पहाड़ से पानी की सप्लाई बारालोट जलापूर्ति केन्द्र में होती है और वहां से चियांकी, बारालोटा, दो नम्बर टाउन, रेड़मा, बड़का गांव, खनवा, पोखराहा, जमुने आदि क्षेत्रों में पानी की सप्लाई की जाती है.

भाजपा नेता गंभीर, लेकिन उपायुक्त ने नहीं लिया कोई संज्ञान

जनहित की योजना को बंधक बना लिये जाने की घटना पर भाजपा नेता और जिले में पानी बाबा के नाम से मशहूर परशुराम ओझा बेहद गंभीर हैं. उन्होंने बताया कि व्हाट्सएप संदेश के जरिये इस मामले को जिले के उपायुक्त तक पहुंचाया था, लेकिन उन्होंने इस पर कोई संज्ञान नहीं लिया.

इसे भी पढ़ें –  25 प्रतिशत बीपीएल सूची के बच्चों का एडमिशन नहीं लेने वाले स्कूलों की मान्यता रद्द करें : शिक्षा मंत्री

कई फाल्ट को ठीक करा चुके हैं भाजपा नेता

श्री ओझा ने बताया कि उपरोक्त इलाकों में पानी पहुंचाने के लिए उन्होंने व्यक्तिगत दिलचस्पी लेते हुए आइटीआइ के पास रेजिंग पाइप की मरम्मत करायी. इतना ही नहीं, चियांकी पहाड़ के पास नहर बनाने के क्रम में पाइप टूट गयी थी, उसकी भी मरम्मत करा दी गयी.

रेड़मा में भी टूटी पाइन को दुरुस्त कर दिया गया है, लेकिन योजना पर ताला लगा देने के कारण पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है. इस पर जिला अधिकारी को तत्काल प्रभाव से कदम उठाना चाहिए. श्री ओझा ने कहा कि अगर शीघ्र इस दिशा में पहल नहीं हुई तो वे अदालत में जनहित याचिका दायर करेंगे.

आवंटन का अभाव

इस बारे में विभाग का पक्ष रखते हुए कार्यपालक अभियंता अजय सिंह ने बताया कि आवंटन के अभाव के कारण ठेकेदार के बकाये का भुगतान नहीं हो पाया है. उन्होंने कहा राजस्व प्राप्ति नहीं होने के कारण विभाग को भी कई समस्याओं से जूझना पड़ता है. लोग जलकर का भुगतान नहीं करते, जिस कारण विभाग का बोझ बढ़ता जाता है. विभाग पर 32 लाख रुपये का बिजली बिल बकाया है. श्री सिंह ने यह भी कहा कि आवंटन मिलते ही ठेकेदार के बकाये का भुगतान कर दिया जायेगा.

नहीं खोलने पर दंडाधिकारी की उपस्थिति में तोड़ देंगे ताला

उन्होंने कहा कि वे ठेकेदार से ताला खोलने के लिए वार्ता करेंगे. अगर फिर भी ताला बंद रखा गया तो शिवरात्रि के बाद दंडाधिकारी की उपस्थिति में ताला तोड़ दिया जायेगा. किसी भी व्यक्ति को पानी से वंचित नहीं होने दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांड : सीबीआई जांच रुकवाने का प्रयास कर रहे लोगों को  चिन्हित करने को लेकर पीआईएल ,जांच की मांग

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button