HEALTHJharkhandPalamu

पलामू : 5 अगस्त से हड़ताल पर जायेंगे अनुबंधित पारा चिकित्साकर्मी

विज्ञापन
  • कोरोना जांच और इलाज पर पड़ेगा बुरा असर

Palamu : वैश्विक बीमारी कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर सरकार और स्वास्थ्य विभाग परेशान हैं. इस बीच उनके लिए नयी परेशानी आने वाली है.

कोरोना जांच से लेकर इलाज में लगे पारा चिकित्सा कर्मियों ने अपनी मांगों के समर्थन में हड़ताल की घोषणा कर दी है. सारे कर्मी 4 अगस्त को सांकेतिक रूप से हड़ताल करेंगे. इस दिन इनकी मांगो पर विचार नहीं किया गया तो अगले दिन 5 अगस्त से सारे कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे.

advt

10 हजार कर्मी करेंगे हड़ताल

पलामू सहित पूरे झारखंड में 10 हजार कर्मी हड़ताल में रहेंगे. पलामू में हड़ताली कर्मियों की संख्या 500 के आस पास है. हड़ताल पर जाने वाले कर्मियों में लैब टेक्नीशियन से लेकर आयुष चिकित्सक भी शामिल हैं. करीब करीब हड़ताली कर्मी कोरोना संक्रमण काल में फ्रंटलाइन वर्कर हैं. हड़ताल से जांच से लेकर इलाज औऱ देखभाल पर बुरा असर पड़ेगा.

इसे भी पढ़ें – केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पाये गये कोरोना पॉजिटिव

मांग पूरी नहीं होने से है रोष व्याप्त

झारखंड राज्य अनुबंधित पारा चिकित्साकर्मी संघ पलामू जिला इकाई से जुड़े सदस्यों की बैठक रविवार को सीएस कार्यालय परिसर में हुई. इसकी अध्यक्षता संघ की जिला सचिव चंचला कुमारी ने की.

adv

इसमें कहा गया कि संघ विभिन्न मांगों को लेकर वर्षों से संघर्षरत हैं, लेकिन सरकार ने इस दिशा में अब तक कोई कदम नहीं उठाया है. इस कारण सभी अनुबंधित पारा चिकित्साकर्मियों में रोष व्याप्त है.

4 अगस्त को रहेंगे सांकेतिक हड़ताल पर

जिला सचिव चंचला कुमारी ने कहा कि प्रदेश स्तर पर बैठक कर 25 जुलाई को संघ की मांगों के संबंध में स्वास्थ्य मंत्री को अवगत कराया जा चुका है. इसके बाद भी हमारी मांगों पर अब तक कोई विचार नहीं किया गया. कहा कि सेामवार तक संघ की मांगों पर कोई विचार नहीं किया जाता है तो जिला के सभी अनुबंधित पारा चिकित्साकर्मी चार अगस्त को सांकेतिक हड़ताल पर रहेंगे.

मांगे पूरी नहीं होने पर 5 अगस्त से करेंगे हड़ताल

जिला सचिव ने कहा कि इसके बाद भी सरकार यदि हमारी मांगों को नहीं मानती है तो पांच अगस्त से सभी अनुबंधित पारा चिकित्साकर्मी हड़ताल पर चले जायेंगे. बताया कि इस आंदोलन को एनएचएम के सभी पारा एवं गैर पाराकर्मी संगठनों का समर्थन प्राप्त है.

इसे भी पढ़ें –रांची: दूसरे राज्य से वापस लौटने वालों को होम क्वारेंटाइन जरूरी, उल्लंघन करने वाले 15 लोगों पर हो चुका है FIR

क्या है मांग

संघ की मांगों में स्वास्थ्य विभाग के विभिन्न संभागों में अनुबंध पर कार्यरत सभी पारा मेडिकलकर्मियों का सीधा समायोजन व नियमितिकरण करना, निबंधन या नवीनीकरण  से वंचित स्वास्थ्य विभाग में अनुबंध पर कार्यरत कर्मियों को एक बार नियम शिथिल कर नवीनीकरण  करने, राज्य में आइपीएच नियमानुसार सभी सीएचसी, पीएचसी में एएनएम व लैब तकनीशियन का स्वीकृत पद पर समायोजन करने, अन्य राज्यों के अनुसार कोविड कार्य का अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि तथा समायोजन की प्रक्रिया होने तक समान कार्य का समान वेतन लागू करने, अनुबंधकर्मियों की आकस्मिक मृत्यु पर आश्रित को जीवन बीमा का लाभ देने आदि मांग शामिल है.

बैठक में ये थे उपस्थित

बैठक में डीपीएम दीपक कुमार, अनल कुजूर, धीरज सिन्हा, सत्येंद्र कुमार, राहुल राज, सुनीता कुमारी, डा. अमित मिश्रा, धीरज पांडेय, प्रिंस सिंह, अनुज सिंह, शशिकांत आदि मौजूद थे.

हड़ताल पर जाने की कोई सूचना नहीं : सिविल सर्जन

पलामू के सिविल सर्जन डॉ जॉन ऑफ कनेडी ने कहा कि पारा चिकित्सा कर्मियों की हड़ताल की कोई सूचना नहीं है. अभी पलामू सहित पूरे देश की हालत खराब है. कर्मियों का अभाव है. ऐसे में हड़ताल का निर्णय ठीक नहीं रहेगा. बैठक कर पारा चिकित्सा कर्मियों द्वारा हड़ताल का निर्णय लेने के संबंध में पूछे जाने पर सीएस ने कहा कि अगर ऐसा हुआ तो कोरोना नियंत्रण कार्य में बुरा असर पड़ेगा.

इसे भी पढ़ें –CoronaUpdate: झारखंड में 2 और मरीजों ने तोड़ा दम, मरने वालों की संख्या हुई 118

advt
Advertisement

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close