JharkhandLead NewsPalamu

पलामू: ‘खतियानी जोहार यात्रा’ में बीजेपी पर बरसे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, कहा-झारखंड के 40 प्रतिशत बच्चे कुपोषित, वजह भाजपा सरकार

Palamu: मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी पर हमला करते हुए कहा कि झारखंड की समस्याएं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकारों की दी हुई है और यह पिछले 20 सालों में पहाड़ के रूप में सामने हैं, जिसके समाधान कर रहे तो उनके पेट में दर्द हो रहा है. मुख्यमंत्री श्री सोरेन आज स्थानीय शिवाजी मैदान में झारखंड मुक्ति द्वारा आयोजित ‘खतियानी जोहार यात्रा’ जन सभा में कही. उन्होंने कहा कि पिछली डबल इंजन की सरकार सरकार ने राज्य को बर्बाद कर दिया है.

उन्होंने कहा कि हम पाई-पाई का हिसाब लेंगे. महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना में करोड़ों के घोटाले रघुवर दास के सरकार में हुए और केन्द्र सरकार उसके लिए हमें जिम्मेदार ठहरा रही है. यह विकास के नाम पर हुए लूट को तलाशने की दोगला नीति है, जिसे हम सहन नहीं करेंगे.

हेमंत सोरेन ने जोरदार तरीके से कहा कि भाजपा सरकार के कच्चा-चिट्ठा खोल रहे हैं तो, हमें प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) और आयकर (आईटी) का इस्तेमाल कर डराने का काम केन्द्र सरकार कर रही है, लेकिन हम डरने वाले नहीं हैं.

सोरेन ने कहा कि झारखंड जिस प्रकार संघर्ष कर हमने लिया है, उसी तरह लूट का हर भाजपा से हिसाब लेंगे. यहां की भूमि को बैंकों में गिरवी रख कर अपने यार-दोस्तों को करोङ़ो रुपये की ऋण केन्द्र ने दिया है, जो एक अलग लूट का मामला है.

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा व्यापारियों की पार्टी है और यह झारखंड को चारागाह समझ कर यहां के खनिज-वन संपदा को अपने मित्रों को देना चाहती है और हमारी सरकार वैसा होने नहीं देगी, इसके लिए अंतिम क्षण तक लङाई होगी.

खतियानी जोहार यात्रा के दूसरे पङाव मेदिनीनगर में सोरेन ने कहा कि नियोजन नीति के तहत 1932 खतियान के नीति लागू करने की पहल की है तो अब उन्हें एतराज नहीं करना चाहिए. भाजपा उन्हें इस बहाने ‘नीचा’ दिखाने की कोशिश कर रही है, लेकिन इसमें वे सफल नहीं होंगे. ऐसा इसलिए कि उक्त फैसला ‘जीवन-जीविका’ से जुङा है.

मुख्यमंत्री ने भाजपा पर प्रहार करते हुए कहा कि इस पार्टी के पास हिन्दू-मुस्लिम, आदिवासी-गैर आदिवासी, दलित-पिछङे करने के अतिरिक्त कुछ नहीं है. एक समुदाय से दूसरे समाज़ से लङाई लगवा कर अपना ‘उल्लू’ सीधा करना है. भावनाओं को भड़का कर भाजपा ‘राजसत्ता’ पर काबिज होना एवं रहना चाहती है, जो ख्वाब कभी पूरा नहीं होंगे.

उन्होंने कहा कि झारखंड के पहले एकीकृत बिहार में पिछङे वर्ग को 27 प्रतिशत मिलता था, लेकिन यह अस्तित्व में आया तो भाजपा के मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने उसे घटा कर 14 फीसदी कर दिया. यह भूलने वाली बात नहीं है.

उन्होंने कहा कि झारखंड के 40 फीसदी बच्चे कुपोषण के शिकार हैं. इसी तरह 50 फीसदी महिला खून की कमी से जूझ रही हैं. यह भाजपा के पिछले 20 सालों की उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि पहले गांव के प्रत्येक घर में गाय, बकरी, भैंस आदि हुआ करती थी, जिससे दूध, दही और अंडा हुआ करता था. ये सारे पौष्टिक आहार थे, लेकिन पिछले 20 वर्ष से भाजपा की सरकार ने पशुधन की ओर ध्यान नहीं दिया. इस कारण गांव में पौष्टिक आहार की कमी हो गई. इस कमी को पूरा करने के लिए राज्य सरकार ने कई योजनाएं संचालित की है, इसमें पशुधन योजना भी शामिल है.

उन्होंने बगैर नाम लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जुमलेबाज बताते हुए कहा कि उनकी बातों में जितनी मिठास है, उतनी ही उसमें जहर पिरोया होता है, जो देश के लिए भारी खतरा है, सावधान रहने की जरूरत है.

सभा में सूबे के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि पूर्व की सरकारों ने राज्य की जनता के साथ भद्दा मजाक किया है. पहले की कई योजनाओं को जब मुख्यमंत्री का कार्यकाल मात्र 14 महीने का रहा था, उस वक्त सोना सोबरन धोती, साड़ी योजना की शुरूआत की गयी थी. उसे रघुवर सरकार ने बंद कर दिया था. उन्होंने कहा कि आज राज्य सरकार ने कई महत्वकांक्षी योजनाएं शुरू कर रखी है, जो सीधे तौर पर ग्रामीणों तक पहंुच रही है. उन्होंने कहा कि 20 वर्षो में कभी भी राज्य के बारे में किसी ने नहीं सोचा. जितेना युवा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने तीन साल के कार्यकाल में सोचा. उन्होंने कहा कि इन तीनों वर्षो में भी दो वर्ष कोविड महामारी ने ले लिए. फिर भी एक साल में एक लंबी लकीर मुख्यमंत्री ने खींच दी है.

सूबे के श्रम एवं नियोजन मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा कि पहले बुजूर्गों को प्रखंड कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ते थे, तब जाकर उन्हें पेंशन नसीब होती थी. मुख्यमंत्री ने इस व्यवस्था में बड़ा परिवर्त कर दिया है और अब कोई भी बुजुर्ग जैसे ही 60 वर्ष से उपर का होगा वो प्रखंड कार्यालय मंे बैठे कर्मचारी को अपना आवेदन देगा, तत्काल उसे पेंशन योजना से जोड़ दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बेरोजगारों को रोजगार से जोड़ने के लिए कृत संकल्पित है. इसके लिए पशुधन से जोड़ने के लिए बैंक से कई तरह के ऋण भी दिए जा रहे हैं.

आज के इस कार्यक्रम में झारख्ंाड मुक्ति मोर्चा ने पूरा दमखम दिखाया. पूरे शिवाजी मैदान को होल्डिंग एवं बड़े बैनरों से पाट दिया गया था. इसके अलावा शिवाजी मैदान में पहुंचे कार्यकर्ताओं के लिए खाने एवं पीने के पानी की व्यवस्था भी की गयी थी. शिवाजी मैदान जेएमएम के कार्यकर्ताओ से भरा पटा था.

कार्यक्रम में झारखंड मुक्ति मोर्चा के जिलाध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद सिन्हा, केन्द्रीय समिति सदस्य सुनील तिवारी, केन्द्रीय कार्यसमिति सदस्य गोपाल प्रसाद सिन्हा उर्फ मुन्ना, मनोज गुप्ता, संजीव तिवारी, सन्नू सिद्दीकी, सन्नी शुक्ला, अविनाश देव, दीपक तिवारी ने मुख्यमंत्री को पुष्पगुछ एवं अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया.

मौके पर कांग्रेस पार्टी के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष बिट्टू पाठक, लक्ष्मी तिवारी सहित महागठबंधन के कई नेता शामिल थे.

इसे भी पढ़ें: हेमंत कैबिनेट की बैठक 14 को, कई महत्वपूर्ण लिये जायेंगे

Related Articles

Back to top button