JharkhandPalamu

पलामू: कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए इतने लाख रुपये पड़े रह गये बैंक में, अफसरों ने नहीं दिया ध्यान

palamu :  स्वच्छता सर्वेक्षण में पिछड़ने वाला मेदिनीनगर नगर निगम अब कोरोना कंट्रोल के लिए मिली राशि को खर्च करने में पीछे रह गया है. कोरोना से निपटने के लिए राज्य के नगर विकास विभाग और पलामू जिला प्रशासन से मिली राशि खाते में पड़ी रह गयी.

Jharkhand Rai

लेकिन पौने 14 लाख की राशि में से फूटी कौड़ी भी खर्च नहीं किया जा सका. पूर्ण लॉकडाउन की अवधि में नावेल कोरोना वायरस से निपटने के लिए स्थानीय निकाय ‘नगर निगम’ को कुल 13 लाख 80 हजार रुपये का आवंटन हुआ था.

इसे भी पढ़ेंः PNB घोटाला : इस ‘साहब’ पर मेहुल चोकसी से एक करोड़ की रिश्वत लेने का आरोप, CBI ने दबोचा

कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए खर्च किए जाने थे सारे पैसे

कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए सारे पैसे खर्च किए जाने थे, बावजूद यह उसमें से एक पैसे भी बचाव में खर्च नहीं किया जा सका. उक्त जानकारी स्वयं निगम के सहायक नगर आयुक्त ने सूचनाधिकार के तहत मांगी गयी विवरण में दी है. इन पैसों से कोरोना संक्रमण रोकने की दिशा में कई तरह के कार्य किए जाने थे. लेकिन रूपये खाते में ही पड़े रह गए. निगम के पदाधिकारी रूपये निकालकर खर्च नहीं कर पाए.

Samford

इसे भी पढ़ेंः स्पेशल ट्रेनों में 30 फीसदी ज्यादा किराया वसूल रहा रेलवे, पैसेंजर्स एसोसिएशन ने जताया विरोध

क्या है सरकार का निर्देश

निगम के ज्ञापांक 2254 एवं सहायक नगर आयुक्त के गत 13 अक्तूबर 2020 को हस्ताक्षरित पत्र में स्पष्ट रुप से लिखित है कि, झारखंड सरकार के नगर विकास एवं आवास विभाग द्वारा कोरोना मद में 1305000 और पलामू जिला प्रशासन ने 25000 रुपये महामारी को नियंत्रित करने के उद्देश्य से दी थी. मगर उसमें से एक रुपये भी अबतक खर्च नहीं हो पाये हैं.

उक्त सार्वजनिक सूचना से साफ है कि नगर निगम ने प्राप्त आवंटन की जगह अपने पूर्व से मौजूद संसाधनों के बल पर ही शहरी हल्कों में भूमिका निभायी है.

इसे भी पढ़ेंः 18 लाख किसानों की उम्मीद पर फिरा पानी, इस साल कर्ज माफी नहीं

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: