LateharPalamu

पलामू: आर्थिक तंगी और बीमारी से एक और पारा शिक्षक ने तोड़ा दम, एक सप्ताह में दो मौतें

विज्ञापन
  • 15 महीने से मानदेय नहीं मिलने पर पारा शिक्षकों ने मांगी इच्छा मृत्यु

Palamu/Latehar: लातेहार जिले में एक और पारा शिक्षक की शुक्रवार को मौत हो गयी. पिछले 4 दिनों के अंदर दूसरी पारा शिक्षक की इस जिले में मौत हुई है.

मनिका प्रखंड के उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय हरिजन टोला बन्दुआ के 45 वर्षीय पारा शिक्षक सोनू राम आर्थिक तंगी से परेशान और लीवर की बीमारी से ग्रसित थे.

advt

इलाज के दौरान उन्होंने शुक्रवार को दम तोड़ दिया. इसके पूर्व पिछले रविवार को बरवाडीह में एक शिक्षक मिथलेश तिवारी (35)  ने आर्थिक तंगी और मानसिक तनाव के कारण जान दे दी थी.

कोरोना संक्रमण के कारण चल रहे लॉकडाउन में पारा शिक्षकों की भी स्थिति खराब चल रही है. पलामू प्रमंडल के लातेहार में पिछले चार दिनों के दौरान दो पारा शिक्षकों की आर्थिक तंगी और बीमारी से मौत हो गयी. जबकि 15 महीने से मानदेय नहीं मिलने पर पलामू के पारा शिक्षकों ने मुख्यमंत्री से इच्छा मृत्यु की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – 90 प्रखंड विकास पदाधिकारियों का हुआ तबादला, जानिए कौन कहां गये

adv

घटना पर पारा शिक्षकों ने जताया रोष

पारा शिक्षकों के संघ ने घटना पर शोक व्यक्त करते हुए राज्य सरकार से मांग की कि आखिर कितनी मौतों के बाद सरकार हमें रेगुलर करेगी. चुनाव के समय वादा करने के बाद भी हम सभी अभी भी अपने भविष्य को लेकर चिंतित रहते हैं और हर माह एक पारा शिक्षक काल के गाल में समाते जा रहे हैं.

जिला अध्यक्ष अतुल कुमार ने कहा कि हमारे लिए न कोई सेवाशर्त है और न ही कोई सुविधा है. सरकार मृत पारा शिक्षकों के परिजनों को एक रुपये की मदद नहीं करती है. सरकार हमारे 18 वर्षो की सेवा की सिर्फ परीक्षा लेती आ रही है. अतः अब हम सभी मूल निवासी पारा शिक्षक निवेदन करते हैं कि हमें रेगुलर किया जाये. साथ ही मृतक के परिजनों को सहयोग और नौकरी दी जाये.

इसे भी पढ़ें –मैनहर्ट घोटालाः सरयू राय ने एसीबी डीजी को सौंपा आवेदन, कहा- मामला दर्ज कर जांच करें

एनसीडीएलएड प्रशिक्षित पारा शिक्षकों को 15 महीने से मानदेय भुगतान नहीं

इधर, पलामू जिले में एनसीडीएलएड प्रशिक्षित पारा शिक्षकों को पिछले 15 महीने से मानदेय का भुगतान नहीं किया जा रहा है. इससे तंगहाली झेल रहे पारा शिक्षकों ने मुख्यमंत्री से इच्छा मृत्यु की मांग की है. सरकार को 15 दिनों का अल्टीमेटम दिया गया है.

15 अगस्त तक मानदेय नहीं मिलने पर झारखंड के 3 हजार एनसी पारा शिक्षक सहित छतरपुर-नौडीहा के 4 सौ शिक्षकों के साथ रांची में आत्मदाह की चेतावनी दी गयी है.

मानदेय नहीं मिलने से हो गयी है आर्थिक तंगहाली

पलामू जिला पारा शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष ऋषिकांत तिवारी ने इस सिलसिले में राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है. साथ ही सरकार से 15 महीने से बकाये मानदेय के भुगतान का अनुरोध किया है.

कहा है कि मानदेय बंद होने के कारण सारे एनसी शिक्षक आर्थिक तंगहाली के शिकार हो गये हैं. अत्यंत दयनीय हालत एवं भूखमरी की स्थिति बनी हुई है. मानसिक तनावग्रस्त होने के कारण सहन शक्ति जवाब देने लगा है. ऐसे में झारखंड के लगभग 3000 एनसीडीएलएड प्रशिक्षित पारा शिक्षक इच्छा मृत्यु की मांग करते हैं.

इसे भी पढ़ें –झारखंड के 72289 में से 64.03 फीसदी अभिभावकों का कहना, वैक्सीन आने के बाद खुले स्कूल

advt
Advertisement

6 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close