न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू और गढ़वा को सोन व कनहर नदी से मिलेगा पानी, 1558 करोड़ की योजना बनी

13 लाख की आबादी और 2.50 लाख घऱों तक पानी पहुंचायेगी सरकार

2,240
  • 10 से अधिक जलाशय, तालाब और डैम में होगा पानी
  • लिफ्ट स्कीम से कनहर और सोन ट्रंक लाइन से पहुंचाया जायेगा पानी 
mi banner add

Deepak

Ranchi: झारखंड सरकार ने सोन और कनहर नदी से राज्य के दो जिलों तक पानी पहुंचाने की बड़ी योजना तैयार की है. 1558 करोड़ की योजना में 70 मिलियन क्युबिक मीटर (एमसीएम) पानी पलामू और गढ़वा तक पहुंचाया जायेगा. सरकार की तरफ से 2.50 लाख मीटर तक 15 सौ मीमी व्यास का टनेल बनाया जायेगा. इसमें कनहर से 36 एमसीएम पानी भंडरिया, रंका, चिनिया, धुरकी, रमकंडा और रमना तक पहुंचाया जायेगा. वहीं सोन नदी से गढ़वा, मेराल, नगर उंटारी, मझियांव, भवनाथपुर, पांडू, खरौंधी, रमना, विशुनपुरा को पीने का पानी और सिंचाई का पानी उपलब्ध कराया जायेगा. सरकार इसके लिए कनहर ट्रंक लाइन और सोन ट्रंक लाइन स्थापित करेगी. कनहर ट्रंक लाइन में 110800 मीटर पाइपलाइन बिछाया जायेगा, वहीं कनहर भंडरिया ट्रंक लाइन में 19700 मीटर पाइपलाइन बिछाया जायेगा. सोनपुर से भी गढ़वा तक 1,19,000 मीटर से अधिक ट्रंक लाइन स्थापित किया जायेगा, जिससे 53 एमसीएम पानी पहुंचाया जायेगा.

योजना से 10 जलाशयों, डैम में भरा जायेगा पानी

योजना से सरकार 10 जलाशयों और डैमों में पानी भरेगी. कनहर नदी से बारिश के दौरान 36 एमसीएम पानी और सोन नदी से 37.57 एमसीएम पानी लाया जायेगा. इन नदियों से सरस्वतिया सिंचाई योजना, लेफ्ट बांकी सिंचाई योजना, कवलदाग सिंचाई योजना, चिरका रिजरवायर योजना, भवानीकुंड रिजरवायर योजना, उत्तमाही सिंचाई योजना, सेल स्टील डैम, पंडरवा रिजरवायर, लेफ्ट बांकी रिजरवायर तथा सभी संबंधित गांवों के तालाबों को अंडरग्राउंड टनेल से भरा जायेगा. कनहर परियोजना से दो चरणों में ट्रंक लाइन बिछाया जायेगा. जबकि सोन नदी परियोजना से एक चरण में ट्रंक लाइन स्थापित किया जायेगा.

254,697 घरों तक पेयजल पहुंचाया जायेगा

राज्य सरकार 254,697 घरों तक पीने का पानी इस योजना से पहुंचायेगी. पलामू और गढ़वा के चयनित प्रखंडों के 13,22,784 लोगों को सिंचाई और पीने का पानी उपलब्ध कराया जायेगा. इसमें 319946 लोग अनुसूचित जाति से हैं, जबकि 205874 की आबादी अनुसूचित जनजाति के हैं. गढ़वा और पलामू के इन प्रखंडों में 17 प्रतिशत हिस्सा ही सिंचित है. कनहर ट्रंक लाइन से 49.07 एमसीएम पानी सिंचाई के लिए लिया जायेगा, जबकि पेयजल के लिए 3.02 एमसीएम पानी लाया जायेगा. कनहर ट्रंक लाइन से अनराज रिजरवायर और रोहरा रिजरवायर से लिफ्ट योजना से पानी पहुंचाया जायेगा. कनहर भंडरिया ट्रंक लाइन से 16.16 एमसीएम पानी सिंचाई के लिए उपयोग में लाया जायेगा. वहीं सोन नदी के 44.02 एमसीएम पानी का उपयोग सिंचाई के लिए किया जायेगा.

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

समूद्र तल से 400 मीटर ऊंचाई तक लिफ्ट किया जायेगा पानी : अशोक कुमार

जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता अशोक कुमार का कहना है कि यह कोई नयी योजना नहीं है. योजना से समुद्र तल से 400 मीटर ऊंचाई तक पानी को लिफ्ट किया जायेगा. सोन नदी से गढ़वा जिले के प्रखंडों तक पानी पहुंचाया जायेगा. नदी से टनेल के जरिये सरकार के डैम और रिजरवायर तक पानी पहुंचाने की योजना है. पंपिंग स्कीम, पावर ग्रिड और अलग ट्रांसमिशन नेटवर्क से पानी पहुंचाया जायेगा. सोन नदी पर अवस्थित चटनिया घाट से जल संसाधन विभाग डैमों और जलाश्यों तक पानी लायेगी. सोन नदी में ही कनहर नदी गढ़वा में मिलती है. इसका विस्तृत प्रगति प्रतिवेदन तैयार कर लिया गया है.

साहेबगंज में गंगा नदी से लाया गया है पानी : सुधीर प्रसाद

राज्य के पूर्व मुख्य सचिव सुधीर प्रसाद ने कहा कि पलामू सूखा प्रभावित क्षेत्र रहा है. ऐसे में ऑगमेंटेशन स्कीम से पानी लाने की योजना सही है. उन्होंने कहा कि साहेबगंज के बरहेट, उधवा, साहेबगंज और एक अन्य प्रखंड में सरकार ने लिफ्ट स्कीम से ही पानी पहुंचाया है. नदियों का पानी ऊंचाई तक लाने में किसी तरह की परेशानी नहीं है. उन्होंने कहा कि इससे बारिश के समय नदियों में जमा होनेवाले अधिकतम पानी को लिफ्ट स्कीम से जलाशयों तक लाकर उसका सालों भर उपयोग किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः जंगली जानवरों के संरक्षण पर 21.25 करोड़ खर्च, फिर भी लुप्त हो रहे वन्य प्राणी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: