न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: 70 घंटों बाद मजदूरों का शव पहुंचा गांव, परिजनों की चीत्कार से गमगीन हुआ माहौल

846

Palamu: पलामू के तीन मजदूरों का शव करीब 70 घंटे बाद उनके गांव पहुंचा. जिले के नावाबाजार प्रखंड क्षेत्र से रोजगार की तलाश में कर्नाटक जाकर हादसे के शिकार हुए तीन मजदूरों का शव गुरूवार को जब गांव पहुंचा तो माहौल मातम में बदल गया.

ताबूद में शव गांव लाये जाने के बाद परिजनों के चीत्कार से पूरा माहौल गमगीन हो गया. महिलाएं दहाड़ मारकर रोने लगी.

इसे भी पढ़ेंःडीजीपी की पत्नी ने ली जमीन तो खुल गया टीओपी और ट्रैफिक पोस्ट, हो रहा पुलिस के नाम व साइन बोर्ड का इस्तेमाल

मजदूरी के दौरान हादसे में हुई थी मौत

ज्ञात हो कि बेरोजगारी की मार झेल रहे नावाबाजार के तीन मजदूर इटको निवासी अर्जुन सिंह (32वर्ष) व कंडा निवासी सुकन भुईयां (20वर्ष) एवं रबदा पंचायत के खामडीहा निवासी सुर्गेश राम (22वर्ष) कर्नाटक मजदूरी करने गए थे.

और 27 मई को ओवरब्रिज निर्माण में मजदूरी के दौरान साइड रेलिंग फट जाने के बाद उसमें से गिरी मिट्टी में दबने से तीनों की मौत हो गयी थी.

पूर्वाहन में सभी मजदूरों के शवों का अंतिम संस्कार किया गया. दाह संस्कार में प्रमुख रविंद्र पासवान, मुखिया दीपक गुप्ता, विरेन्द्र राम, जुगूल भुईयां, गिरजा शंकर राम के साथ महादेव यादव, उपेंद्र पासवान, मनोज यादव, जितेंद्र पासवान, मुकेश यादव, लक्ष्मी प्रसाद गुप्ता सहित अन्य शामिल थे.

नावाबाजार के मजदूर पहले भी हुए हैं हादसे के शिकार

नावाबाजार इलाके से पलायन कर बाहर के प्रदेशों में मजदूरी करने गए मजदूर पहले भी हादसे के शिकार हुए हैं. गांव और पंचायत में रोजगार के ठोस साधन नहीं रहने के कारण हर दिन मजदूर बाहर जाते हैं.

इसे भी पढ़ेंःकैसे पूरा होगा सीएम का एक्शन प्लान, अब तक 29 योजनाएं प्रक्रियाधीन, अधिकांश में काम ही शुरू नहीं

Related Posts

पलामू : आपसी दुश्मनी में हुई थी छोटू पासवान की हत्या, एक गिरफ्तार, दो ने कोर्ट में किया सरेंडर

डीएसपी सुरजीत कुमार ने शनिवार को एसपी कार्यालय में बताया कि छोटू पासवान हत्याकांड में शामिल आरोपी गुड्डू खान उर्फ गुड्डू आलम को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया.

SMILE

वर्ष 2006-2007 में कंडा गांव के नौ मजदूरों की गुजरात के भरुच जिले में मजदूरी के दौरान मौत हो गयी थी. उस समय एक साथ नौ शवों के कंडा में आने पर पूरा गांव दहल उठा था.

बावजूद इसके रोजगार के साधन और मजदूरों के हालात सुधारने के प्रति सरकार द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया. पलायन के बाद प्रति वर्ष क्षेत्र में एक दर्जन मजदूरों की मौत हो जाती है.

पलायन रोकने में अक्षम साबित होती हैं योजनाएं: पार्षद

नावाबाजार के जिप सदस्य अनुज राम ने आरोप लगाया कि सरकार की योजनाएं रोजगार देकर पलायन रोकने में अक्षम साबित होती हैं. उन्होंने कहा कि मनरेगा योजना में कोई काम नहीं करना चाहता.

168 रूपये के हिसाब से मजदूरी दी जाती है. मजदूरी पाने की प्रक्रिया काफी जटिल है. इतनी कम राशि में मजदूर काम नहीं करते और दूसरे प्रदेश में पलायन कर जाते हैं.

महंगाई को देखते हुए मनरेगा में मजदूरी की राशि कम से कम 300 रूपये होनी चाहिए. जिप सदस्य ने कहा कि रोजगार देने के लिए जनप्रतिनिधियों और सरकार का रवैया हमेशा से उदासीन रहा है. यही कारण है कि इलाके की दुर्गा ग्रेफाइट माइंस लंबे समय से बंद पड़ी है.

सरकारी प्रावधान के तहत मिलेगा मुआवजा

नावाबाजार के बीडीओ विजय राजेश वरला ने कहा कि मजदूरों के परिजनों को सरकारी प्रावधान के तहत मुआवजा दिया जायेगा. पलायन वाले क्षेत्रों को चिन्हित कर रोजगार के अवसर प्रदान किए जायेंगे.

इसे भी पढ़ेंः14वें वित्त आयोग से मिले 4214.33 करोड़ का ऑडिट नहीं कराना चाहती सरकार! आठ माह में एजेंसी तक तय नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: