JharkhandPalamu

Palamu: राज्य भर में अधिवक्ताओं ने न्यायिक कार्य का किया बहिष्कार, तीसरे दिन भी पलामू न्यायालय में पसरा रहा सन्नाटा 

Palamu: पलामू के प्रभारी प्रधान जिला व सत्र न्यायाधीश पंकज कुमार के द्वारा अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष सचिदानंद तिवारी के साथ शनिवार को किये गये कथित दुर्व्यवहार के विरोध में मंगलवार को राज्य भर के अधिवक्ताओं ने अपने आप को न्यायिक कार्यों से दूर रखा. राज्य के करीब 35 हजार अधिवक्ताओं के कार्य बहिष्कार के कारण न्यायिक कार्य बुरी तरह प्रभावित हुआ.

पलामू में रहा व्यापक असर

पलामू जिले में अधिवक्ताओं के कार्य बहिष्कार से न्यायालय द्वारा सूचीबद्ध हजारों मामले की सुनवाई नहीं हो सकी. जमानत, गवाही, बयान, बहस व फैसला भी नहीं हो सका.

इसे भी पढ़ें – भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था, ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ा: रिपोर्ट

अधिवक्ताओं के साथ गलत व्यवहार बर्दाश्त नहीं

अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष सचिदानंद तिवारी उर्फ नेहरू और महासचिव सुबोध कुमार सिन्हा ने कहा कि किसी भी न्यायिक अधिकारी की गैर जिम्मेदाराना हरकत को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.

अधिवक्ताओं ने कहा कि पलामू बार एसोसिएशन का इतिहास गौरवशाली रहा है. हमलोग काफी सुलझे हैं, परन्तु एक वरीय न्यायाधीश के द्वारा इस प्रकार का कदम उठाया जाना अशोभनीय है.

इससे पलामू जिले के अधिवक्ता अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. उनकी सुरक्षा की पूरी व्यवस्था प्रशासन को करनी चाहिए.

दिखायी एकजुटता

इस मौके पर अन्य अधिवक्ताओं के अलावा संघ के कोषाध्यक्ष जय किशोर पाठक, उपाध्यक्ष मंधारी दुबे, दीपक कुमार, अखिलेश चंद्र सिंह, नंदलाल सिंह, संतोष दुबे, शशि भूषण दुबे, विनोद तिवारी,  केडी सिंह, शौकत अली, सरदार मदन मोहन सिंह, लल्लू प्रसाद सिंह, शलभ कुमार, दिनेश चंद पांडे, संतोष कुमार पांडेय, प्रयाग साहू, सुधीर चौबे, अमित तिवारी, विक्रम त्रिपाठी, ज्ञानरंजन, संजय पांडे, मनोज सिंह, अजय पांडे, प्रभु शर्मा, अनुज त्रिपाठी, भरत तिवारी, दिवाकर दुबे, संतोष तिवारी, सिकंदर दुबे, आजाद सिंह और आनंद शंकर भी मौजूद थे.

इसे भी पढे़ं – बकोरिया कांड: CBI की टीम पहुंची पलामू, मुठभेड़ में शामिल अधिकारियों से हो रही है पूछताछ

बार कौंसिल की टीम ने लिया अधिवक्ताओं और जज का बयान

इधर, दुर्व्यवहार मामले की जांच करने रांची से स्टेट बार काउंसिल की टीम पलामू पहुंची. मंगलवार को अधिवक्ता संघ के कार्यालय में पहुंच कर मामले की जानकारी ली. साथ ही कई लोगों का बयान कलमबद किया. बाद में आरोपी जज पंकज का बयान भी सिविल कोर्ट में जाकर लिया. टीम में अब्दुल कलमा रसीदी, हेमंत कुमार सिकरवार व रिंकू भगत शामिल थे.

जज की बर्खास्तगी तक आन्दोलन चलाने का निर्णय

विदित हो कि गत शनिवार को पलामू जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष के साथ पलामू के प्रभारी प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश पंकज कुमार ने अभद्र व्यवहार किया था. गाली गलौज की थी. इसके आलोक में अधिवक्ताओं का शनिवार से न्यायालय के सभी कार्यों का बहिष्कार किया गया है. आरोपी जज की बर्खास्तगी तक आन्दोलन पर डटे रहने का निर्णय लिया गया है.

इसे भी पढ़ें – संकट में पीएम का यूथ को स्किल्ड करने का सपनाः राज्य के 50 फीसदी ITI में ट्रेनर ही नहीं

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button