न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : नक्सलियों के गढ़ काला पहाड़ में पहुंचा प्रशासन, सुनी ग्रामीणों की फरियाद, 402 मामलों का निष्पादन किया

काला पहाड़ कोई पहाड़ी इलाका नहीं, बल्कि पंचायत का नाम है. यहां छह गांव हैं. सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए आज प्रशासन इस उग्रवाद प्रभावित इलाके में पहुंचा.

67

Palamu : बड़ी-बड़ी नक्सली घटनाओं के लिए कुख्यात काला पहाड़ में आज बुधवार को सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम में 402 मामलों का निष्पादन किया गया. कार्यक्रम में जिले के उपायुक्त डॉ शांतनु कुमार अग्रहरि, विधायक पुष्पा देवी मुख्य रूप से उपस्थित थे.

जान लें कि पलामू जिला मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर छतरपुर प्रखंड क्षेत्र में काला पहाड़ का इलाका पड़ता है. काला पहाड़ कोई पहाड़ी इलाका नहीं, बल्कि पंचायत का नाम है. यहां छह गांव हैं. सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए आज प्रशासन इस उग्रवाद प्रभावित इलाके में पहुंचा.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

603 आवेदन आये, 402 मामलों का निपटारा किया जा सका

इस कार्यक्रम में सुदूरवर्ती गांवों के 603 पुरुष व महिलाओं ने अपनी समस्याओं से संबंधित आवेदन दिये. आवेदनों के साथ लोगों ने अधिकारियों के समक्ष अपनी समस्याएं रखी. 402 के निष्पादन के बाद शेष बचे आवेदनों पर कार्रवाई किये जाने की बात कही गयी. समस्या का समाधान होने से ग्रामीण जनता में खुशी का माहौल था.

इसे भी पढ़े : झारखंड सरकार :  मंत्रियों के बंटे विभाग, मंत्रिमंडल सचिवालय निगरानी विभाग ने जारी की अधिसूचना

काला पहाड़ की सहायक सड़कों की मरम्मत होगी   

मौके पर उपायुक्त ने कहा कि हाईवे से जुड़ी काला पहाड़ पंचायत की सहायक सड़कों की मरम्मत कर शीघ्र दुरुस्त किया जायेगा. इस़ पंचायत की आधारभूत संरचना को विकसित किया जायेगा. उन्होंने कहा कि रोजमर्रा की समस्याओं के लिए यहां के आमजनों को प्रखंड और अनुमंडल कार्यालय नहीं जाना पड़े, इसे लेकर सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन काला पहाड़ में किया जा रहा है, ताकि यहां के लोगों की समस्याओं का निष्पादन उनके घर पास ही कर दिया जाये.

कहा कि ग्रामीणों के बीच जिला प्रशासन, अनुमंडल और प्रखंड प्रशासन की पूरी टीम पहुंची है. आधार कार्ड बनवाने, उसमें नाम, जन्म तिथि सुधार की समस्या हो या पेंशन के मामले, राशन कार्ड में नाम जोड़ने सहित अन्य सभी समस्याओं का निदान किया जा रहा है.

सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में ग्रामीणों की समस्याएं सुनते उपायुक्त

इसे भी पढ़े : धर्मांतरण करने वाले जनजातियों को ग्रामसभा के माध्यम से जनजातीय प्रमाण पत्र ना दिया जाये: एबीवीपी

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

विधायक ने दिया बेटियों की शिक्षा पर जोर

Related Posts

मौके पर क्षेत्रीय विधायक पुष्पा देवी ने कहा कि व्यक्ति की जो भी समस्याएं हो, उन समस्याओं से संबंधित वे आवेदन दें, ताकि उनकी समस्याओं का निष्पादन त्वरित किया जा सके. उन्होंने बेटियों की शिक्षा पर जोर दिया. कहा कि बेटियों के लिए सरकार सभी सुविधाएं दे रही है. ऐसे में उनके अभिभावक, माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे अपने बच्चों को स्कूल भेजें, ताकि बच्चे शिक्षित होकर देश का विकास कर सकें. उन्होंने कहा कि देश के विकास में शिक्षा का महत्वपूर्ण योगदान है.

उप विकास आयुक्त बिंदु माधव प्रसाद सिंह ने कहा कि किसी तरह की लंबित मामलों का निष्पादन सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में किया जा रहा है. लंबित मानदेय भुगतान से संबंधित मामलों का निपटारा करते हुए तत्काल भुगतान भी किया जा रहा है. इसके लिए ग्रामीणों को  कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है.

सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में उपस्थित ग्रामीण

किसी को पेंशन की मिली स्वीकृति तो किसी का बना आधार कार्ड

उपायुक्त, उप विकास आयुक्त, जिला परिवहन पदाधिकारी शैलेश कुमार सिंह सहित अन्य वरीय पदाधिकारियों ने ग्रामीणों की ऑन स्पॉट समस्याएं सुनी और उसका निदान किया. समस्याओं का निष्पादन करते हुए उपायुक्त ने पनपतिया देवी, जगेश्वर सहित अन्य लोगों को पेंशन की स्वीकृत देते हुए, उन्हें तत्काल पेंशन के कागज उपलब्ध कराये. इसके अलावा धर्मदेव यादव के अनुरोध पर उनके दो नतनी और एक नाती को बालगृह में रखवाने की व्यवस्था की गयी. कई लोगों के आधारकार्ड बनाये गये

कार्यक्रम  में उपस्थित लोग

मौके पर सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ केनेडी, छतरपुर अनुमंडल एनपी गुप्ता, प्रखंड विकास पदाधिकारी तेज कुमार हस्सा, सामाजिक सुरक्षा के सहायक निदेशक शत्रुंजय कुमार,  पेयजल एवं स्वक्षता विभाग के कार्यपालक अभियंता अजय सिंह, मुखिया हरि साव, पंचायत समिति सदस्य अनिल राम, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, कृषि पदाधिकारी, आपदा प्रबंधन पदाधिकारी, सहित अन्य पदाधिकारी, कर्मचारी, जनप्रतिनिधि व ग्रामीण उपस्थित थे.

काला पहाड़ का इतिहास

घोर नक्सल प्रभावित इलाकों में काला पहाड़ का नाम आता है. इस क्षेत्र में नक्सलियों ने 27 जनवरी 2015 को लैंड माइंस विस्फोट कर सात पुलिस जवानों की हत्या कर दी थी. आस पास के इलाके में चौकीदार और डीएसपी स्तर के अधिकारी भी नक्सल हिंसा में शहीद हो चुके हैं. बिना सुरक्षा इस इलाके में कोई पदाधिकारी जाने से आज भी कतराता है.

इसे भी पढ़े : चाईबासा जेल ब्रेक मामले में झारखंड हाइकोर्ट ने एसपी को किया तलब, सशरीर उपस्थित होने का आदेश

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like