न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : संदेह के घेरे में प्रशासन की कार्रवाई, ओवर लोडेड बड़े वाहनों को छूट लेकिन ऑटो, बाइक चालकों पर शिकंजा

1,595

Palamu :  पलामू में 11 से 17 फरवरी तक 31वां सड़क सुरक्षा सप्ताह चलाया गया. सड़क सुरक्षा को लेकर पुलिस के द्वारा जहां वाहन चेकिंग अभियान चलाया गया, वहीं दोपहिया एवं छोटे चार एवं तीन पहिया वाहनों पर शिकंजा कसने की कोशिश की गयी.

लेकिन अभी तक जिले के किसी थाना पुलिस या फिर परिवहन विभाग ने ओवर लोडेड हाइवा, बस या अन्य बड़े वाहन नहीं पकड़े हैं, जो प्रशासन की दोतरफ कार्यशैली को दर्शाता है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ेंः भ्रष्टाचार का सबूत हो तो सिर्फ इसलिए कार्रवाई नहीं करना कि उसे बदले की भावना समझी जायेगी, सही नहीं: सरयू राय

पक्षपात कर रहा है प्रशासन

पुलिस की ओर से जब्द की गयी बाइक.

ऐसे में यहां कहना जरूरी हो जाता है कि क्या सड़क सुरक्षा नियम सिर्फ ऑटो, बाइक या छोटे चार पहिया वाहनों पर ही लागू होता है. डालटनगंज-औरंगाबाद एनएच 98, डालटनगंज रांची एनएच 39 के अलावा जपला-छतरपुर, जपला-मोहम्मदगंज मुख्य पथ में प्रतिदिन सैकड़ों हाइवा ओवर लोडेड छर्री व बालू लदा गुजरते हैं.

उन्हें रोकने की भी जहमत पुलिस के अधिकारियों के अधिकारियों ने नहीं की. इसके पीछे का कारण तो वही जाने, मगर आम लोगों में चर्चा है कि बड़े वाहनों से पुलिस को अच्छी खासी आमदनी होती है.  यही वजह है कि वह उसे रोकना भी मुनासिब नहीं समझते.

इन ओवर लोडेड हाइवा से ही सड़क जाम व सड़क दुर्घटनाओं की अधिक संभावनायें रहती हैं. बावजूद इसके उन्हें सड़क सुरक्षा का पाठ पढ़ाने की हिम्मत पुलिस प्रशासन को नहीं होती. लोगों का मानना है कि सड़क सुरक्षा के नाम पर पुलिस अधिकारी व जवान अपना उल्लू सीधा कर रहे हैं.

जबकि छोंटे वाहन चालकों को ओवर लोड, लाइसेंस, हेलमेट, सीट बेल्ट, जूता की वजह से परेशान किया जाता है.

Related Posts

#Bermo: उद्घाटन के एक माह बाद भी लोगों के लिए नहीं खोला जा सका फ्लाइओवर और जुबली पार्क

144 करोड़ की लागत से बना है, डिप्टी चीफ ने कहा-अगले सप्ताह चालू कर दिया जायेगा

इसे भी पढ़ेंः जवान को पीटने का आरोपी BJYM अध्यक्ष रांची पुलिस के लिए फरार लेकिन पूर्व CM के साथ आता है नजर

दर्जनों हाइवा से होती है बालू की तस्करी

लोग बताते हैं कि हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र से प्रतिदिन दर्जनों हाइवा से बालू तस्करी कर दूसरे राज्य भेजा जाता है. उसे पकड़ने या कागजात जांच करने की हिम्मत पुलिस को नहीं होती, जबकि अपना घर बनाने के लिए कोई एक ट्रैक्टर बालू ले जाते मिल जाये तो पुलिस उन्हें परेशान करने से नहीं चुकती.

सड़क सुरक्षा के नाम पर पुलिस प्रशासन की कार्यशैली से लोग हैरान व परेशान हैं. लोगों का मानना है कि अगर पुलिस सच में सड़क सुरक्षा को लेकर गंभीर है, तो वह पहले बड़े वाहनों से हो रहे अवैध कारोबार व ओवर लोड को रोकने का काम करे. बड़े वाहनो पर कार्रवाई होने से ही सड़क दुर्घटनाएं कम होंगी.

एसडीओ के साथ मिलकर चलायेंगे अभियान : एसडीपीओ

हुसैनाबाद के एसडीपीओ विजय कुमार ने बताया कि बड़े मालवाहक ओवरलोड वाहनों के खिलाफ जल्द अभियान तेज किया जायेगा. इस संबंध में एसडीओ को जानकारी दी जायेगी और उनके नेतृत्व में कार्रवाई शुरू की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंः #Giridih: सहकारिता बैंक में 1 करोड़ का गबन, प्रबंधक ने केस दर्ज कराने के लिए नगर थाना में दिया आवेदन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like