JharkhandPalamu

पलामू : ACB की टीम ने सहायक को किया गिरफ्तार, 25 हजार रूपये ले रहे थे घूस

Daltonganj : भ्रष्ट कर्मियों पर एंटी करप्शन ब्यूरो की ओर से की जा रही लगातार कार्रवाई के बावजूद भ्रष्टाचार के मामले थमने के नाम नहीं ले पा रहे हैं. अधिकारी-पदाधिकारी और कर्मचारी घूस ले रहे हैं और जेल की सलाखों के पीछे पहुंच जा रहे हैं. कुछ इसी तरह की मंशा पालकर किसी न किसी कार्य के बदले नाजायज पैसा लेने वाले हरिहरगंज बाल विकास परियोजना कार्यालय के सहायक जितेन्द्र प्रसाद शुक्रवार को 25 हजार रूपये घूस लेते गिरफ्तार हो गए. कचहरी के समीप वन विभाग कार्यालय के आस-पास से सहायक को एसीबी की पलामू इकाई ने धर दबोचा.

इसे भी पढ़ें- विभागों ने खर्च कर दिये 29,449 करोड़, पर नहीं दे पा रहे उपयोगिता प्रमाणपत्र, एजी ने जतायी आपत्ति

सहायक ने की थी 30 हजार रुपये घूस की मांग

एसीबी के डीएसपी प्राण रंजन ने जानकारी दी कि हरिहरगंज निवासी दिलीप कुमार के खाते में 10 लाख रुपये आए थे. दिलीप बाल विकास परियोजना के अंतर्गत आने वाले आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषाहार वितरण करने का काम करते हैं. जिसे लेकर वित्तीय वर्ष 2015-16 एवं 2016-17 का पैसा करीब 10 लाख रूपया उनके खाता में आया था. दिलीप की पत्नी हरिहरगंज की एक आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका है. खाता में आए पैसे की सूचना पर सहायक लगातार दिलीप कुमार से नियमित आपूर्ति कराने की धमकी देकर 30 हजार रूपये घूस की मांग कर रहा था. पैसे नहीं देने पर सहायक ने दिलीप की पत्नी के दो महीने का वेतन रोका रखा था.

इसे भी पढ़ें- मांडू में बिरहोर की मौत की वजह जो भी हो, जिम्मेदार पर होगी कार्रवाई : सरयू राय

रंगे हाथों एसीबी की टीम ने सहायक को किया गिरफ्तार

कई बार आग्रह करने के बाद वेतन भुगतान नहीं करने पर सहायक की शिकायत एसीबी के डालटनगंज कार्यालय में की गयी. शिकायत की जांच कर कार्रवाई के लिए टीम बनायी गयी. टीम के द्वारा 25 हजार रूपये देकर दिलीप कुमार को सहायक के बताए पते पर भेजा गया. जैसे ही सहायक ने पैसे लिए, मौके पर मुस्तैद एसीबी पदाधिकारियों और जवानों ने उसे गिरफ्त में ले लिया. सहायक डालटनगंज के बेलवाटिका के निवासी है. सूत्रों का कहना है कि सहायक जीतेन्द्र प्रसाद बिना घूस लिए कोई काम नहीं करते थे. सहायक द्वारा घूस लेने का यह कोई पहला मामला नहीं है. शिकायत का यह पहला मामला है.

इसे भी पढ़ें- हटाये गये रिम्स के मेडिकल ऑफिसर, डॉ विद्यासागर के हाथों जिम्मा

इसे भी पढ़ें- नगर निगम के स्वच्छता के दावे की निकली हवा, पब्लिक टॉयलेट्स का हाल बेहाल

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button