JharkhandPalamu

पलामू : 78 बोरा गुटखा जब्त, तीन आरोपी गिरफ्तार, पांच पर एफआईआर

पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि साहित्य समाज चौक के समीप सूरज फ्राइट प्राइवेट लिमिटेड ट्रांस्पोर्ट में गुटखा की बड़ी खेप पहुंची है.

विज्ञापन

 Palamu :  पलामू जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के शहर थाना क्षेत्र स्थित साहित्य समाज चौक के समीप सूरज फ्राइट प्राइवेट लिमिटेड ट्रांस्पोर्ट में कल शाम बड़ी कार्रवाई की गयी. मौके से 78 बोरा प्रतिबंधित गुटखा जब्त किया गया.

इस सिलसिले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. चार जाली बिल्टी पेपर और एक पिकअप वाहन (जेएच03एल2279) को जब्त किया गया. इस सिलसिले में पांच लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है.

इसे भी पढ़ें : मेयर का आरोप- टैक्स वसूली करने वाली कंपनी को गलत दस्तावेजों के आधार पर मिला टेंडर

advt

ट्रांस्पोर्ट के गोदाम में सर्च अभियान चलाया गया

पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि साहित्य समाज चौक के समीप सूरज फ्राइट प्राइवेट लिमिटेड ट्रांस्पोर्ट में गुटखा की बड़ी खेप पहुंची है. सूचना के अधार पर सदर एसडीओ अजय सिंह बड़ाइक और एसडीपीओ संदीप गुप्ता के नेतृत्व में छापामारी की गयी.

ट्रांस्पोर्ट के बाहर खड़ी एक पिकअप को पहले जब्त करते हुए उसकी तलाशी ली गयी तो उसमें लदा आठ बोरा गुटखा बरामद किया गया. इसके बाद ट्रांस्पोर्ट के गोदाम में सर्च अभियान चलाया गया.

इसे भी पढ़ें : विकास के लिए नहीं, सरकार पलटने की मानसिकता से भाजपा लड़ रही उपचुनाव : कुमार गौरव

गोदाम को सील किया गया

तलाशी के दौरान गोदाम के अंदर 70 बोरा गुटखा पाया गया. गोदाम में कार्यरत कंप्यूटर ऑपरेटर राजेश गुप्ता के अलावा अरुण कुमार और धनन्जय पासवान से पूछताछ की गयी. तीनों ने बताया कि यह गुटखा स्थानीय गुटखा के होलसेलर मो. मकसुद का है. दिल्ली से लाया गया है. झारखंड में गुटखा की बिक्री एवं उपयोग पर प्रतिबंध है.

adv

स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पदार्थ रखने के आरोप में उक्त तीनों को गिरफ्तार किया गया. गोदाम को सील किया गया. इस संबंध में उपरोक्त तीनों के अलावा मो. मकसुद मियां और सूरज फ्राइट प्राइवेट लिमिटेड ट्रांस्पोर्ट के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है

छापामारी में एसडीओ, एसडीपीओ के अलावा पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी अरूण कुमार माहथा, पु.अ.नि गुप्तेश्वर तिवारी, पीएसआई प्रेमचंद हास्दा और सुनीता लिंडा व स.अ.नि मो. नबी अंसारी शामिल थे.

इसे भी पढ़ें :  हाइकोर्ट ने पूछा-सरकार बताये कि नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी चलाना है या बंद करना है

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button