JharkhandPalamu

Palamu : पीएमसीएच के 500 मीटर के दायरे में चल रहे 7 निजी क्लिनिक सील, पूछताछ के लिए 6 को लिया गया हिरासत में 

विज्ञापन

Palamu : सरकारी आदेश को अंगूठा दिखा कर लंबे समय से पलामू मेडिकल कॉलेज अस्पताल के 500 मीटर के दायरे में चल रहे 7 क्लिनिकों को सोमवार को सील किया गया. मौके से आधा दर्जन कर्मियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. पलामू के प्रशिक्षु आइएएस दिलीप प्रताप सिंह शेखावत ने यह कार्रवाई की है. कार्रवाई के बाद अन्य निजी संचालकों में हड़कंप मच गया है.

जिले के उपायुक्त शशि रंजन के निर्देश पर सरकारी अस्पताल के 500 मीटर के दायरे में निजी क्लिनिक संचालकों पर बड़ी कार्रवाई शुरू की गयी है. प्रशिक्षु आइएएस दिलीप प्रताप सिंह शेखावत ने सोमवार को पलामू के मेदिनीराय मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के समीप छापामारी की. उनके साथ सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ केनेडी एवं मेडिकल सुप्रीटेंडेंट डॉ. केएन झा भी थे.

इसे भी पढ़ें – 1अक्तूबर से अनलॉक-5 : मल्टीपलेक्स, टूरिज्म में मिल सकती है छूट

advt

निजी क्लिनिकों में अवैध ढंग से मेडिकल स्टोर का संचालन

छापामारी के दौरान मेदनीराय मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के 500 मीटर के दायरे में निजी क्लीनिक संचालन करनेवालों के खिलाफ कार्रवाई की गयी. इस दौरान 7 निजी क्लिनिक को सील किया गया, जबकि पूछताछ के लिए 6 दुकानदारों को हिरासत में लिया गया. जिन निजी क्लिनिकों को सील किया गया, वे मेडिकल स्टोर भी गैर कानूनी तरीके से चलाये जा रहे थे.

बताते चलें कि सरकार के आदेशानुसार कोई भी सरकारी डॉक्टर सरकारी अस्पताल के 500 मीटर के दायरे में निजी तरीके से प्रैक्टिस नहीं कर सकते हैं.

सरकारी आदेश का कठोरता से कराया जायेगा अनुपालन

प्रशिक्षु आइएएस दिलीप प्रताप सिंह शेखावत ने कहा कि लोगों की शिकायत मिल रही थी कि अस्पताल परिसर के आसपास सरकारी डॉक्टर निजी तरीके से प्रैक्टिस करते हैं. इसमें दलाल भी हावी रहते हैं. दलाल किस्म के लोग मरीज को सीधे डॉक्टर के पास निजी क्लीनिक में ले जाते हैं. इतना ही नहीं जिस मेडिकल शॉप में गैरकानूनी तरीके से डॉक्टर बैठ कर मरीजों का इलाज करते हैं, उसी चिन्हित मेडिकल शॉप से मरीजों को दवाईयां भी लेने को बाध्य किया जाता है. ऐसे में मरीज एवं उनके परिजनों को परेशानी होती है.

adv

इसे भी पढ़ें – बिहार विधानसभा चुनाव: NDA में सीटों का बंटवारा तय, 2010 के फॉर्मूले पर सहमति

अस्पताल के समानांतर स्वास्थ्य व्यवस्थाएं गैर कानूनी

डॉक्टर अस्पताल के समानांतर स्वास्थ्य व्यवस्थाएं चलाते हैं, जो गैरकानूनी है. साथ ही सरकारी अस्पताल के अंदर की व्यवस्थाओं पर प्रश्न उठता है. अस्पताल के समीप गैरकानूनी तरीके से क्लिनिक के संचालन से अस्पताल के भीतर की स्वास्थ्य सेवाओं पर भी असर पड़ता है. इसलिए इस पर कार्रवाई की गयी है.

डाक्टरों को दी यह नसीहत

प्रशिक्षु आइएएस ने कहा कि सरकारी अस्पताल में कार्यरत डॉक्टर एवं स्वास्थ्यकर्मियों का फर्ज बनता है कि वे अपनी ड्यूटी के दौरान ईमानदारीपूर्वक आमजनों की सेवा करें. उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पताल के 500 मीटर के दायरे में कोई भी सरकारी डॉक्टर निजी तरीके से प्रैक्टिस नहीं करेगा. इससे संबंधित आदेश का कठोरता से अनुपालन कराया जायेगा.

इन क्लिनिकों को किया गया सील

पीएमसीएच के अगल बगल चल रहे चौहान मेडिकल, ओम मेडिकल, श्याम मेडिकल, सिटी मेडिसिन, सत्या नर्सिंग होम, आयुष मेडिकल और नेशात मेडिकल शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – पलामू : मामले का निपटारा कर दो बेटियों की जिंदगी तबाह होने से बचायी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button