JharkhandPalamu

#Palamu: 80 लाख की निकासी के बाद भी 5 पंचायतों में नहीं बने 666 शौचालय, मुखिया पर होगी प्राथमिकी 

विज्ञापन

Dilip Kumar

Palamu: तीन वर्ष पहले ओडीएफ घोषित किये गये पलामू जिले में इन दिनों शौचालय निर्माण की समीक्षा की जा रही है. स्वच्छ भारत मिशन के तहत निर्मित व निर्माणाधीन शौचालय की स्थिति का पता लगाया जा रहा है.

advt

शौचालय निर्माण के लिए पैसों की निकासी करने के बाद भी जिन मुखिया द्वारा अबतक शौचालय नहीं बनाया गया, उनकी वित्तीय शक्ति जब्त करने और प्राथमिकी दर्ज करने की तैयारी की गयी है.

छतरपुर में हुई समीक्षा, 10 मुखिया के खिलाफ कार्रवाई

जिले के छतरपुर प्रखंड में निर्मित और अधूरे शौचालयों की शनिवार को एसडीओ एनपी गुप्ता ने समीक्षा की. इस दौरान शत प्रतिशत शौचालय की भौतिक जांच कराने का निर्णय लिया गया.

adv

इस दौरान एसडीओ ने 10 मुखिया के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया. एसडीओ ने कहा कि 10 मुखिया की वित्तीय शक्ति जब्ति करने का निर्देश बीडीओ को दिया गया है.

साथ ही इनमें से पांच वैसे मुखिया हैं, जिन्होंने पांच लाख रुपये से अधिक की निकासी करने के बाद भी शौचालय का निर्माण नहीं किया, उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जायेगी.

इस सिलसिले में जहां बीडीओ को निर्देशित किया गया, वहीं जिले के उपविकास आयुक्त को पत्र लिखकर कार्रवाई का आग्रह किया गया है.

इसे भी पढ़ें : #Ranchi: बरियातू में नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में दो आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा

80 लाख की निकासी, लेकिन नहीं बनाये गये शौचालय

पांच पंचायतों चिरू, हुलसम, हुतुकदग, कअवल, रुदवा में 80 लाख रुपये निकाले जाने के बाद भी शौचालयों का निर्माण नहीं किया गया है.

इस पंचायत के मुखिया की वित्तीय शक्ति जब्त कर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया गया है.

एसडीओ ने कहा कि इन पंचायतों के मुखिया को कई बार निर्देशित करने के बाद भी उनके द्वारा शौचालय नहीं बनाया गया. साथ ही उपयोगिता प्रमाण पत्र दिखा दिया गया है.

कहां कितने बनने थे शौचालय और कितनी राशि की हुई निकासी 

प्रखंड की चीरू पंचायत में 150 शौचालय का निर्माण नहीं कराया गया है, जबकि इसके लिए निर्धारित 18 लाख 11 हजार 250 रुपये की निकासी मुखिया सुनीता देवी द्वारा कर ली गयी है.

इसी तरह हुलसम पंचायत में मुखिया हरिगोपाल सिंह ने शौचालय निर्माण के लिए 10 लाख 80 हजार रुपये की निकासी तो की, लेकिन रुपये के अनुसार निर्धारित 90 शौचालय का निर्माण नहीं कराया.

हुटुकदाग की मुखिया सविता देवी ने 124 शौचालयों का निर्माण अपने क्षेत्र में नहीं किया है और इसके लिए आवंटित 14 लाख 88 हजार रुपये की निकासी कर रखी है.

कउवल-रामगढ़ के मुखिया कुलदेव यादव ने 14 लाख 52 हजार रुपये की निकासी की है. उसे इन पैसों से 121 शौचालय का निर्माण करना था. मुखिया द्वारा अबतक इन पैसों से एक भी शौचालय का निर्माण नहीं कराया गया है.

रूदवा पंचायत की मुखिया खूशबू देवी ने सबसे अधिक 21 लाख 17 हजार 200 रूपये निकासी कर रखी है. उन्हें 181 शौचालय का निर्माण किया जाना था.

गड़बड़ी सामने आने पर उपरोक्त सभी मुखिया की वित्तीय शक्ति जब्त करते हुए इनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश छतरपुर एसडीओ एनपी गुप्ता ने बीडीओ को दिया है.

इसे भी पढ़ें : आंकड़े बता रहे हैं झारखंड में क्राइम का ग्राफ, रोजाना औसतन 5 हत्याएं और 2 लूट

इनकी वित्तीय शक्ति जब्त, इनके खिलाफ होगी प्राथमिकी

एसडीओ ने कहा कि छतरपुर के बेहद कमजोर प्रदर्शन वाली 10 पंचायतों चिरु, हुलसम, हुतुकदग, कअवल, रुदवा, कंचनपुर, कवल, खोड़ी, शुसीगंज और दीनादाग के मुखिया की वित्तीय शक्ति जब्त कर दी गयी है.

सिलदाग और हैसला पंचायत में बने शौचालय की भौतिक जांच करेंगे बीडीओ

एसडीओ ने यह भी कहा कि प्रखंड की हैसला और सिलदाग पंचायत क्षेत्र में बने शौचालय की भौतिक स्थिति की जांच छतरपुर बीडीओ करेंगे. इसके लिए पत्रांक 287 दिनांक 22.2.20 के तहत निर्देश जारी किया गया है.

दोनों क्षेत्र में अनेक लाभुकों के शौचालय नहीं होने की खबर प्रकाशित हुई है. इसे अत्यंत खेदजनक और गंभीर मामला बताते हुए बीडीओ को 24 घंटे के भीतर जांच रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए तीन सदस्यीय टीम बनाने को कहा गया है.

मुखिया और जलसहिया को सम्मानित करने का निर्णय

समीक्षा बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि सोशल मोबलाइजर शौचालय के प्रयोग को बढ़ायेंगे. साथ ही वैसे मुखिया और जलसहिया को प्रशस्ति पत्र दिया जायेगा, जिन्होंने शौचालय निर्माण में बेहतर प्रदर्शन किया है.

इसे भी पढ़ें : जिस सीयूजे भवन के निर्माण की हो रही CBI जांच, उसका उद्घाटन करेंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close