JharkhandPalamu

#Palamu: पुल-पुलिया में लगाने से पहले 5 केन बम बरामद, हथियार व गोलियां भी मिलीं

Palamu: नक्सलियों और उग्रवादियों के खिलाफ तेज की गयी कार्रवाई में पलामू पुलिस को एक बार फिर बड़ी सफलता हाथ लगी है.

Jharkhand Rai

पुलिस और सीआरपीएफ के संयुक्त अभियान में बिहार सीमा से सटे पिपरा के सिरनिया डैम के समीप पहाड़ी से पांच केन बम, हथियार और गोलियां बरामद की गयी हैं. सभी बमों को मौके पर ही बीडीएस की मदद से निष्क्रिय कर दिया गया.

इसे भी पढ़ें – #Pulse अस्पताल के निर्माण की होगी जांच, हेमंत सोरेन ने रांची डीसी को दिया आदेश

संयुक्त सर्च ऑपरेशन में मिली कामयाबी

जानकारी के अनुसार सीआरपीएफ 134वीं बटालियन और जिला पुलिस संयुक्त रूप से सर्च ऑपरेशन चला रही थी. इसी दौरान पिपरा थाना क्षेत्र के सिरिनिया जंगल से जवानों ने 5 केन बम बरामद किया. साथ ही 4 देसी बंदूक, 40 एके-47 की गोलियां समेत कई सामान की बरामदगी की गयी. बम निरोधक दस्ते के सहयोग से बमों को मौके पर ही डिफ्यूज कर दिया गया.

Samford

गुप्त सूचना पर की गयी कार्रवाई

सुरक्षा बलों को गुप्त सूचना मिली थी कि सिरिनिया जंगल में नक्सली मौजूद हैं और बड़ी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहे हैं.

इसी सूचना के आधार पर सीआरपीएफ और जिला पुलिस संयुक्त रूप से पहुंची और सर्च ऑपरेशन शुरू किया.

झाड़ियों में चट्टानों की तलहटी में छुपा कर रखे गये थे तबाही के सामान

सर्च करने पर झाड़ियों व चट्टानों के बीच छिपा कर रखे गये हथियार व विस्फोटकों की बरामदगी की गयी. सुरक्षा बलों ने 4 देसी बंदूक, एक .315 बोर का देसी कट्टा, एके-47 की 40 गोलियां, 6 जिलेटिन और 20 मीटर इलेक्ट्रिक वायर बरामद किया है.

इसे भी पढ़ें – टीबी मुक्ति के लिए सालाना करीब 30 करोड़ का बजट बावजूद इसके पांच सालों में बढ़ गये 21522 मरीज

अलग-अलग लगाये जाने थे केन बम

बरामद केन बमों के ऊपर मार्किंग कर संबंधित स्थान लिखा हुआ था. एक केन बम को पिपरा के बभंडी में पुलिया के नीचे विस्फोट के लिए लगाया जाना था.

सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट रूपेश कुमार ने बताया कि चार अन्य बमों को पिपरा के ही इलाके में विस्फोट करने के लिए उद्देश से लगाया जाना था, लेकिन समय रहते सभी को बरामद कर लिया गया.

सभी बम 4 से 5 किलो के आसपास वजन के थे. उनके साथ कार्रवाई में सीआरपीएफ के एसआइ शाका राम, रंजीत कुमार सिंह के अलावा पुलिस एएसआइ राजेश भगत और सीआरपीफ और सैट के जवान शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – #Nehru_Cabinet : पटेल को मंत्री नहीं बनाना चाहते थे नेहरू? एस जयशंकर के ट्वीट पर रार, कांग्रेस और रामचंद्र गुहा का जवाबी हमला

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: