न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

पलामू: 421 नवचयनित शिक्षकों को मिला नियुक्ति पत्र, दूर होगी शिक्षकों की कमी

288

Palamu: झारखंड राज्य कर्मचारी चयन आयोग की ओर से चयनित और पलामू जिला के लिए अनुशंसित 421 नवचयनित शिक्षकों को मंगलवार को नियुक्ति पत्र दिया गया. जिले के उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी डॉ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने नवचयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र सौंपा और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की. इस नियुक्ति के बाद स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर होगी.

eidbanner

इसे भी पढ़ें – दर्द ए पारा शिक्षक: बेटे को प्रतियोगी परीक्षा नहीं दिला पा रहे अमर, मानदेय मिलता तो परीक्षाएं नहीं छूटतीं

बच्चों को शिक्षित करने में निभाएं भूमिका: उपायुक्त

उपायुक्त ने नवचयनित शिक्षकों को कर्तव्य निर्वहन का पाठ पढ़ाया. उन्होंने समाज तथा बच्चों के भविष्य के लिए जिम्मेवारियों को बखूबी निभाने की नसीहत दी. उन्होंने कहा कि वर्तमान परिवेश में शिक्षक एवं सरकारी शिक्षण संस्थानों की विश्वसनीयता बनाने की आवश्यकता है. उन्होंने शिक्षकों को विवाद और राजनीति से बचने की सलाह देते हुए स्कूलों में गुणात्मक शिक्षा देने की बातें कहीं.

इसे भी पढ़ें – कौन है वो बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता, जिसे बिना नंबर के स्कॉर्पियो से झारखंड में घूमने की छूट है

जिला शिक्षा पदाधिकारी सुशील कुमार ने बताया कि नव चयनित शिक्षकों की प्रदस्थापना विषयवार रेंडमाइजेशन करने के बाद किया गया है. दस विषयों के लिए शिक्षकों का पदस्थापना हुआ है. इसमें जीव विज्ञान, वाणिज्य, भौतिकी, गणित, शारीरिक शिक्षा, अर्थशास्त्र, भूगोल, उर्दू, कुडूख, बंगला और फारसी विषय शामिल हैं. जीव विज्ञान और रसायन शास्त्र में 76, वाणिज्य में 20, भौतिक और गणित में 78, शारीरिक शिक्षा में 54, अर्थशास्त्र में 64, भूगोल में 81, उर्दू में 43 शिक्षकों की नियुक्ति की गयी है. 466 के आवेदन विभाग को प्राप्त हुए थे, इनमें 45 अभ्यर्थी काउंसलिंग से अनुपस्थित रहे, जबकि 421 ने काउंसलिंग में भाग लिया था, जिन्हें नियुक्ति पत्र सौंपा गया है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें – झारखंड डीएमएफ में 3700 करोड़ हुए जमा, खर्च किये जा चुके हैं 1744 करोड़, लाभार्थियों की नहीं हुई है पहचान

जिले के उपायुक्त डॉ शांतनु कुमार अग्रहरि ने अपने आदेश में स्पष्ट किया है कि नियुक्ति पत्र प्राप्ति के 15 दिनों के भीतर शिक्षकों को संबंधित विद्यालयों में योगदान देना अनिवार्य है. उन्होंने यह भी कहा है कि दो वर्षों तक ये शिक्षक प्रशिक्षु की भूमिका में होंगे और उसके बाद कार्य संतोषप्रद होने पर सेवा संपुष्टि की अनुशंसा की जायेगी.

नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम में उपायुक्त के अलावा जिला शिक्षा पदाधिकारी सुशील कुमार, कार्यापालक दंडाधिकारी सुधीर कुमार, सहायक जनसंपर्क पदाधिकारी श्वेताभ आदि मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – चांसलर पोर्टल के कारण बर्बाद हो रहा छात्रों का पैसा और समय, सिस्टम में सिर्फ खामियां

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: